Image Loading steely intentions - Hindustan
सोमवार, 24 अप्रैल, 2017 | 10:59 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • बॉलीवुड मसालाः बाहुबली-2 का पहला गाना आया और इंटरनेट पर मच गया धमाल, इसके अलावा...
  • टॉप 10 न्यूज: सुबह 9 बजे तक देश-दुनिया की खबरें एक नजर में
  • हेल्थ टिप्स: गर्मियों में रोजाना पीयें मट्ठा, कैलोरी व फैट रखेगा नियंत्रित
  • ओपिनियनः पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का लेख- स्टार्ट-अप में उतार-चढ़ाव का दौर
  • मौसम दिनभरः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना और रांची में आज रहेगी गर्मी। देहरादून में...
  • ईपेपर हिन्दुस्तानः आज का अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें
  • आपका राशिफलः वृष राशि वालों को माता-पिता का सानिध्य एवं सहयोग मिलेगा। नौकरी में...
  • सक्सेस मंत्र: खुद पर विश्वास रखेंगे तो जरूर आगे बढ़ेंगे
  • टॉप 10 न्यूज: देश-दुनिया की खबरें पढ़ें एक नजर में
  • KKRvRCB: कोलकाता ने बैंगलोर को 82 रन से हराया

फौलादी इरादे 

First Published:19-04-2017 01:03:55 AMLast Updated:19-04-2017 01:03:55 AM

वह अमेरिकी लेखिका एदिता मॉरिस की एक किताब पढ़ रहे थे- लव टु वियतनाम। किताब में एक जगह वह रुक गए। लिखा था-‘धुन का पक्का आदमी एक बुल्डोजर की तरह होता है। वह मार्ग में बाधा की परवाह नहीं करता।’ किताब का पात्र निशीना शिन्जो हिरोशिमा में हुए परमाणु बम विस्फोट का भुक्तभोगी है। अपनी खराब हालत के बावजूद वह वियतनाम में हो रहे युद्ध के पीड़ितों की मदद करना चाहता है और करता भी है। बम से उसके शरीर का एक हिस्सा झुलसा हुआ है, फिर भी वह बुल्डोजर जैसा है। दरअसल, इंसानी बुल्डोजर बनने के लिए फौलादी

इच्छाशक्ति होनी चाहिए। यह समझ होनी चाहिए कि बाधाएं इसलिए हैं कि उनकी ऐसी की तैसी की जाए।
विंस्टन चर्चिल ने भी कहा था कि सभी इंसान एक बुल्डोजर हैं, बस उन्हें मालूम होना चाहिए। वह अपनी ब्रिटिश आर्मी के एक कमांडर जनरल ट्यूडर को आदर्श मानते थे। वह उनके बारे में कहते थे- वह सिर्फ खड़े रहे और बाधाओं को आने दिया, खुद से उनको टकराने दिया और फिर उन बाधाओं को उन्होंने लकड़ी की तरह तोड़ दिया। चर्चिल ने लिखा भी है कि ‘मेरे मन में ट्यूडर की छवि एक लोहे की खूंटी की तरह है, जो बर्फ से जमे मैदान में गड़ी है और अटल है।’

यह सोचना बेवकूफी है कि आपके लिए बाधाएं नहीं बनीं। ये हैं, और अनगिनत हैं। कामयाब वही होते हैं, जो बाधाओं को सीढ़ी और जज्बे को ताकत बना लेते हैं। जो यह समझते हैं कि वह रसातल में जा चुके हैं, उन्हें भी खुश होना चाहिए कि वह और नीचे नहीं जा सकते और उनकी एकमात्र दिशा अब ऊपर की ओर है। आप हर हाल में कामयाब हो सकते हैं, बस सोच को फौलादी बनाएं।
नीरज कुमार तिवारी

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: steely intentions
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें