class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गाजीपुर: बोर्ड परीक्षा केंद्रों की जांच से नकल माफिया सक्रिय

जिलाधिकारी संजय कुमार खत्री की ओर से बोर्ड परीक्षा केंद्रों की जांच के लिए एसडीएम को निर्देश देते ही नकल माफिया सक्रिय हो गए हैं। स्कूल संचालक अपने मनमाफिक रिपोर्ट लगवाने के लिए लेखपाल व कानूनगो से संपर्क साध रहे हैं। राजस्व कर्मी स्कूल संचालकों के मुताबिक रिपोर्ट लगा रहे हैं। जबकि डीएम का सख्त निर्देश है कि अगर विद्यालय की मौजूदा स्थिति से इतर राजस्व कर्मियों ने रिपोर्ट लगाई तो एसडीएम के साथ ही संबंधित के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी।

बीते गुरुवार को डीएम की अध्यक्षता में केंद्र निर्धारण समिति की बैठक हुई थी। डीएम ने सीडीओ अरविंद कुमार पांडेय, डीआईओएस हृदयराम आजाद और बीएसए अशोक कुमार यादव की मौजूदगी में उपजिलाधिकारियों को स्कूलों की जांच का निर्देश दिया। कहा कि 387 विद्यालयों की जांच करके रिपोर्ट दी जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि जांच करते समय सभी उपजिलाधिकारी यह जरूर देखेंगे कि विद्यालय के पास कौन-कौन संसाधन हैं। बाउंड्रीवाल, गेट, स्ट्रांग रूम, भवन, पेयजल के साथ-साथ विद्यालय में तैनात शिक्षकों की उपस्थित पंजिका और छात्रों की उपस्थिति की रिपोर्ट तैयार करेंगे। अगर इससे अलग रिपोर्ट मिली तो संबंधित के विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी। जैसे ही नकल माफियाओं को यह जानकारी हुई कि बोर्ड परीक्षा केंद्रों की जांच उपजिलाधिकारियों के निर्देश पर लेखपालों और काननूगो को मिली है तो वे अब तहसील कार्यालयों का चक्कर लगाना शुरू कर दिए हैं। लेखपाल और काननूगो से सेटिंग करके अपने मनमाफिक रिपोर्ट लगाने के लिए हर तरह का दबाव बना रहे हैं। शिक्षक नेताओं ने यह भी मांग किया है कि जांच के दौरान देखा जाए कि आग बुझाने का इंतजाम है या नहीं। विद्यालय में सीसी टीवी कैमरा लगाने में स्कूल संचालकों ने क्या कदम उठाए हैं। इस संबंध में डीएम ने बताया कि स्कूलों की जांच में गड़बड़ी नहीं होने दी जाएगी। इस पर कड़ी नजर रखी जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ghazipur: board examination centers to check cheating mafia active
From around the web