सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 02:35 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर
निराशावाद हर जगह : विवेक ओबेराय
मुम्बई, एजेंसी First Published:01-12-12 07:04 PM
Image Loading

विभिन्न सामाजिक कार्यो से जुड़े रहे अभिनेता विवेक ओबेराय का मानना है कि आज निराशावाद हर किसी के जीवन का हिस्सा हो चुका है।

36 वर्षीय अभिनेता ने यहां शुक्रवार को एक पुस्तक 'प्राइड ऑफ लायंस' के विमोचन पर कहा, ''यह (पुस्तक) निराशावाद के मुद्दे पर है। दुर्भाग्य से यह काफी तेजी से फैल रहा है। आज बच्चों, दूरदर्शन वाचक, समाचार चैनल, मशहूर हस्ती, रेडियो प्रस्तोता हर किसी के जीवन में निराशा विद्यमान है।''

पुस्तक के लेखक हैं कैप्टन विनोद शंकर नायर और यह एक भारतीय सैनिक के जीवन पर आधारित है।

उन्होंने कहा, ''हमने आशावाद खो दिया है। हमें उम्मीद की किरण चाहिए। हमें कुछ शुद्ध कुछ निस्वार्थी, साहसिक चाहिए, जो हमें प्रेरित कर सके, ऊपर देखने के लिए, आगे देखने के लिए, उम्मीद के साथ देखने के लिए।''

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड