बुधवार, 26 नवम्बर, 2014 | 10:37 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
एक मंच पर आकर भी मोदी-नवाज में नहीं हुआ आमना-सामना
निराशावाद हर जगह : विवेक ओबेराय
मुम्बई, एजेंसी First Published:01-12-12 07:04 PM
Image Loading

विभिन्न सामाजिक कार्यो से जुड़े रहे अभिनेता विवेक ओबेराय का मानना है कि आज निराशावाद हर किसी के जीवन का हिस्सा हो चुका है।

36 वर्षीय अभिनेता ने यहां शुक्रवार को एक पुस्तक 'प्राइड ऑफ लायंस' के विमोचन पर कहा, ''यह (पुस्तक) निराशावाद के मुद्दे पर है। दुर्भाग्य से यह काफी तेजी से फैल रहा है। आज बच्चों, दूरदर्शन वाचक, समाचार चैनल, मशहूर हस्ती, रेडियो प्रस्तोता हर किसी के जीवन में निराशा विद्यमान है।''

पुस्तक के लेखक हैं कैप्टन विनोद शंकर नायर और यह एक भारतीय सैनिक के जीवन पर आधारित है।

उन्होंने कहा, ''हमने आशावाद खो दिया है। हमें उम्मीद की किरण चाहिए। हमें कुछ शुद्ध कुछ निस्वार्थी, साहसिक चाहिए, जो हमें प्रेरित कर सके, ऊपर देखने के लिए, आगे देखने के लिए, उम्मीद के साथ देखने के लिए।''

 
 
 
टिप्पणियाँ