बुधवार, 02 सितम्बर, 2015 | 01:50 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
निराशावाद हर जगह : विवेक ओबेराय
मुम्बई, एजेंसी First Published:01-12-2012 07:04:07 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

विभिन्न सामाजिक कार्यो से जुड़े रहे अभिनेता विवेक ओबेराय का मानना है कि आज निराशावाद हर किसी के जीवन का हिस्सा हो चुका है।

36 वर्षीय अभिनेता ने यहां शुक्रवार को एक पुस्तक 'प्राइड ऑफ लायंस' के विमोचन पर कहा, ''यह (पुस्तक) निराशावाद के मुद्दे पर है। दुर्भाग्य से यह काफी तेजी से फैल रहा है। आज बच्चों, दूरदर्शन वाचक, समाचार चैनल, मशहूर हस्ती, रेडियो प्रस्तोता हर किसी के जीवन में निराशा विद्यमान है।''

पुस्तक के लेखक हैं कैप्टन विनोद शंकर नायर और यह एक भारतीय सैनिक के जीवन पर आधारित है।

उन्होंने कहा, ''हमने आशावाद खो दिया है। हमें उम्मीद की किरण चाहिए। हमें कुछ शुद्ध कुछ निस्वार्थी, साहसिक चाहिए, जो हमें प्रेरित कर सके, ऊपर देखने के लिए, आगे देखने के लिए, उम्मीद के साथ देखने के लिए।''

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingश्रीलंका में 22 साल बाद भारत ने टेस्ट सीरीज जीती
भारतीय क्रिकेट टीम ने सिंहलीज स्पोर्ट्स क्लब मैदान पर जारी तीसरे टेस्ट मैच के पांचवें दिन श्रीलंका को 117 रनों से हराया। इस जीत के साथ भारत ने 22 साल बाद टेस्ट सीरीज पर कब्जा कर इतिहास रचा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब एयरपोर्ट जा पहुंचा एक शराबी...
एक रात एक शराबी एयरपोर्ट के बाहर खड़ा था।
एक वर्दीधारी युवक उधर से गुजरा।
शराबी- एक टैक्सी ले आओ।
युवक बोला- मैं पायलट हूं, टैक्सी ड्राइवर नहीं।
शराबी- नाराज क्यों होते हो भाई, टैक्सी नहीं तो एक हवाई जहाज ले आओ।