शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 14:59 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
उत्तराखंड: यूपी के गोरखपुर में सुपारी देकर वकील की हत्या कराने वाला नैनीताल में गिरफ्तार, 18 अगस्त को गोरखपुर में हुई थी हत्या, तलाश करते हुए नैनीताल पहुंची थी गोरखपुर पुलिस।उत्तर प्रदेश: संभल के गुमसानी और मढन गांव के लोगों ने गांव को असमौली थाने से जोड़ने पर जताई नाराजगी, कमिश्नर दफ्तर के गेट पर पढ़ी नमाज, गांव वाले फिर से मुरादाबाद के पाकवाड़ा थाने से जोड़ने की बात कह रहे हैं।
सितारे और फिल्मों पर रही विवादों की छाया
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:30-12-2012 04:33:44 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

बीते वर्ष 2012 में फिल्मों और विवादों के बीच चोली दामन का साथ रहा। इस साल पर्दे पर आयी बड़े बजट की फिल्मों को कभी रिलीज की तारीख तो कभी गीत के बोलों को लेकर विवादों के बादल घेरे रहे। बॉलीवुड की फिल्में पाकिस्तान में भी खासी पसंद की जाती हैं लेकिन कुछ को वहां प्रतिबंध का सामना करना पड़ा।
   
पिछले दिनों शाहरूख खान अभिनीत 'जब तक है जान' रिलीज हुई और विवादों में घिर गई क्योंकि अभिनेता अजय देवगन ने इसके रिलीज को लेकर यशराज फिल्म्स पर कानूनी कार्रवाई कर डाली। 'जब तक है जान' यश चोपड़ा की अंतिम फिल्म है और देवगन ने आरोप लगाया कि यशराज फिल्म्स के प्रभाव के कारण वितरकों ने उनकी फिल्म 'सन ऑफ सरदार' को महत्व नहीं दिया।
   
अभिनेता सैफ अली खान की फिल्म 'एजेंट विनोद' में आईएसआई का कुछ जिक्र आने की वजह से उसे पाकिस्तान में प्रतिबंधित कर दिया गया।
   
यह फिल्म कॉपीराइट उल्लंघन के आरोपों में भी घिरी। ईरानी संगीत बैंड बारोबैक्स कॉरपोरेशन ने एक याचिका दायर कर फिल्म के गाने पुंगी बजा दे की शुरूआत में उनके कॉपीराइट के उल्लंघन का आरोप लगाया। बंबई उच्च न्यायालय ने याचिका खारिज कर दी।
   
अभिनेता आमिर खान छोटे पर्दे पर 'सत्यमेव जयते' लेकर आए लेकिन इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने डॉक्टरों की छवि धूमिल करने के लिए उनसे माफी की मांग की। आमिर ने मना कर दिया।

अभिनेता सलमान खान की फिल्म 'एक था टाइगर' भारत में तो रिलीज हो गई लेकिन पाकिस्तान ने अपने केबल ऑपरेटरों को फिल्म के प्रोमो और समीक्षा दिखाने से यह कह कर रोक दिया कि यह फिल्म उसकी खुफिया एजेंसी आईएसआई की छवि को खराब कर रही है। सलमान पाकिस्तान में सर्वाधिक लोकप्रिय भारतीय अभिनेताओं में से हैं।
   
पाकिस्तान में अक्षय कुमार की फिल्म 'खिलाड़ी 786' के ट्रेलर दिखाने पर भी रोक लगी। दिसंबर में पाकिस्तानी सेंसर बोर्ड ने 'खिलाड़ी 786' के विज्ञापनों पर इसलिए रोक लगा दी क्योंकि 786 को मुसलमान पवित्र अंक मानते हैं और इस फिल्म से उनकी भावना को चोट पहुंच सकती है।
   
प्रसिद्ध फिल्मकार प्रकाश झा को अक्टूबर में बिरला समूह की कंपनियों से उनकी फिल्म 'चक्रव्यूह' के एक गीत के विवादास्पद बोल को लेकर कानूनी नोटिस मिल गया। गीत के बोल हैं 'बिरला हो या टाटा, अंबानी हो या बाटा, सबने अपने चक्कर में देश को है काटा। अरे हमरे ही खून से इनका इंजन चले धकाधक।'
   
अपने नाम को गलत तरीके से रखे जाने पर आपत्ति जताते हुए बिड़ला ने झा को कानूनी नोटिस भेजा जिस पर क्षा ने सफाई दी कि उनका इरादा किसी को आहत करने का नहीं है।
   
साल के आखिर में तमिलनाडु सिनेमा थियेटर एसोसिएशन ने अभिनेता कमल हासन को चेतावनी दे डाली कि अगर वह अपनी आगामी फिल्म 'विश्वरूपम' को सिनेमाघरों में प्रदर्शन से पहले, डीटीएच श्रेणी में प्रदर्शित करने की अपनी योजना पर कायम रहे, तो संगठन राज्य में उनकी किसी भी फिल्म को प्रदर्शित नहीं करेगा।
   
कमल हसन ने विश्वरूपम को 10 जनवरी को डीटीएच श्रेणी में प्रदर्शित करने के बाद अगले दिन इसे सिनेमाघरों में प्रदर्शित करने का फैसला किया है।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingबारिश ने खेल रोका, भारत का स्कोर 50/2
भारत और श्रीलंका की क्रिकेट टीमों के बीच शुक्रवार को सिन्हलीज स्पोर्ट्स क्लब मैदान पर शुरू हुए तीसरे और निर्णायक टेस्ट मैच के पहले सत्र का खेल बारिश से प्रभावित रहा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब पप्पू पहंचा परीक्षा देने...
अध्यापिका: परेशान क्यों हो?
पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
अध्यापिका: क्या हुआ, पेन भूल आये हो?
पप्पू फिर चुप।
अध्यापिका : रोल नंबर भूल गए हो?
अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?
पप्पू गुस्से से: अरे! यहां मैं पर्ची गलत ले आया हूं और आपको पेन-पेंसिल की पड़ी है।