शुक्रवार, 31 अक्टूबर, 2014 | 19:02 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
विद्या प्रकाश ठाकुर ने भी राज्यमंत्री पद की शपथ लीदिलीप कांबले ने ली राज्यमंत्री पद की शपथविष्णु सावरा ने ली मंत्री पद की शपथपंकजा गोपीनाथ मुंडे ने ली मंत्री पद की शपथचंद्रकांत पाटिल ने ली मंत्री पद की शपथप्रकाश मंसूभाई मेहता ने ली मंत्री पद की शपथविनोद तावड़े ने मंत्री पद की शपथ लीसुधीर मुनघंटीवार ने मंत्री पद की शपथ लीएकनाथ खड़से ने मंत्री पद की शपथ लीदेवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
तो क्या 100 करोड़ भी बटोरने होंगे मुश्किल
विशाल ठाकुर First Published:21-12-12 08:07 PM
Image Loading

राजधानी के कई प्रमुख सिनेमाघरों में ‘दबंग 2’ नहीं लगी है। खासतौर से ऐसे सिनेमाघरों में जहां से 2010 में ‘दबंग’ ने अच्छा कलेक्शन किया था। इनमें से एक सिनेमाघर है डिलाइट। यहां से न केवल ‘दबंग’ बल्कि सलमान की पिछली चार-पांच फिल्मों को न केवल अच्छी ओपनिंग मिली है बल्कि उन फिल्मों ने तगड़ी कमाई भी की है। लेकिन इस बार ‘दबंग 2’ यहां नहीं लगी है। वजह है ‘दबंग 2’ के वितरक यशराज फिल्म्स का अड़ियल रवैय्या। डिलाइट सिनेमा के मैनेजर आर. के. मल्होत्र के अनुसार यशराज फिल्म्स में ऐन मौके पर टिकटों के रेट बढ़ाने की मांग की, जिसे पूरा करना मुमकिन नहीं था। यह मांग दबाव बढ़ाने के रूप में की गयी थी, जिसे अन्य कई सिनेमाघरों ने भी सिरे से खारिज कर दिया।

यही नहीं बताया तो ये भी जा रहा है कि जिन मल्टीप्लक्सों ने वितरक की बात मानकर टिकटों के रेट बढ़ाए उन्हें पहले ही दिन, दिन में तारे दिखाई देने लगे। उनके सुबह के शोज में केवल 20-30 फीसदी दर्शक ही दिखाई दिये। दर्शक इसे एक तरह की दबंगई ही मानें। हालांकि इसमें सलमान और उनके भाई अरबाज का कोई रोल नहीं है। उन्होंने तो फिल्म के वितरण का जिम्मा यशराज को दिया हुआ है।

बताया जाता है कि ‘दबंग 2’ की बुकिंग भी ‘दबंग’ के मुकाबले काफी कमजोर गयी है। फेस्टिव सीजन होते हुए भी शुक्रवार के दिन रविवार के टिकट आसानी से मिल रहे थे। मल्टीप्लेक्सों में भी यही हाल था। लोग फिल्म देखकर निकल रहे थे, तो उनके मुख से मिली-जुली राय मिल रही थी। दिग्गज मान रहे हैं कि बेशक ‘दबंग 2’ ओपनिंग कलेक्शन का रिकार्ड तोड़ दे या फिर तगड़ा वीकेंड ले जाए, लेकिन कुल कलेक्शन के मामले में यह ‘दबंग’ से पीछे ही रहेगी। अगर ऐसा हुआ तो इसका 100 करोड़ का आंकड़ा छूना थोड़ा मुश्किल होगा।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ