शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 09:43 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    चीन सीमा पर 54 चौकियां बनाएगा भारत, 175 करोड़ के पैकेज की घोषणा  बर्धवान के बम थे बांग्लादेश के लिए: एनआईए नरेंद्र मोदी की चाय पार्टी में नहीं शामिल होंगे उद्धव ठाकरे भूपेंद्र सिंह हुड्डा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें  कालेधन पर राम जेठमलानी ने बढ़ाई सरकार की मुश्किलें जमशेदपुर से लश्कर का आतंकवादी गिरफ्तार  कोई गैर गांधी भी बन सकता है कांग्रेस अध्यक्ष: चिदंबरम भाजपा के साथ सरकार के लिए उद्धव बहुत उत्सुक: अठावले रांची : एंथ्रेक्स ने ली सात लोगों की जान, 8 गंभीर हालत में भर्ती भारत-पाक तनाव के लिये भारत जिम्मेदार : बिलावल भुट्टो
फिल्म रिव्यूः सिगरेट की तरह
First Published:14-12-12 09:18 PMLast Updated:15-12-12 10:41 AM
Image Loading

खाली सप्ताह देख इस बार लंबे समय से रुकी फिल्म सिगरेट की तरह को भी रिलीज कर दिया गया है। लीड रोल में एक नए सितारे के इर्द-गिर्द घूमती इस फिल्म में रोमांस और एक्शन का ओवरडोज दिखाई देता है। फिल्म की कहानी निखिल डाबर (भूप यदुवंशी) नामक युवा के आसपास घूमती है।

निखिल एक सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी का बेटा है। वह एमबीए कर चुका है और जिंदगी जीने का उसका अपना ही तरीका है। कहानी कुछ इस तरह से करवट लेती है कि एक दिन वह अपना घर छोड़ देता है। गोवा में उसकी एक दोस्त उसे काम दिलाने मे सहायता करती है।

एक दिन अचानक कुछ ऐसा हो जाता है कि निखिल को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ता है और अपने आप को सही साबित करके लिए उसको कडम संघर्ष करना पड़ता है। फिल्म की कहानी में कोई नयापन नहीं है। घर के हालात से तंग आकर घर छोड़ देने की ढेरों कहानियां पहले भी आ चुकी हैं। इसके अलावा फिल्म में किसी कलाकार का अभिनय भी ध्यान नहीं खींच पाता। युविका चौधरी तब्बू और शरमन जोशी जैसे कलाकारों के साथ काम कर चुकी हैं, लेकिन इस फिल्म में वह जरूरत से ज्यादा ओवरएक्टिंग करती दिखती हैं। कुल मिला कर यह फिल्म शुरू से अंत तक बोर ही करती है। फिल्म में जिस ढंग से एक्शन सीन्स दिखाए गये हैं, वे हंसने पर मजबूर करते हैं। टाइम वेस्ट, मनी वेस्ट।

कलाकार : भूप यदुवंशी, प्रशांत नारायणन, युविका चौधरी, मधुरिमा तुली, सुदेश बेरी
निर्देशक : अक्षदित्य लामा
निर्माता : सुनीता पोद्दार और ब्रंदा यादव
संगीत : सुदीप बैनर्जी, कविता सेठ
गीत : कौशल किशोर, देव शुक्ला
संवाद : बॉबी खान

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ