रविवार, 30 अगस्त, 2015 | 07:03 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
‘तुम्हारी अमृता’ से मिली सबसे अधिक संतुष्टि : शबाना
मुम्बई, एजेंसी First Published:22-11-2011 11:21:39 AMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

भारतीय फिल्म उद्योग को अपने 35 वर्ष देने एवं 120 फिल्मों में अभिनय करने वाली शबाना आजमी ने कहा कि उनकी सबसे यादगार भूमिका एक नाटक में निभाई गई है।

एक किताब के विमोचन के अवसर पर शबाना ने पत्रकारों से कहा कि मैं पिछले 35 वर्षों से काम कर रही हूं और मैंने बहुत सारी विभिन्न प्रकार की भूमिकाएं की हैं। लेकिन मुझे जावेद सिद्दिकी द्वारा लिखित नाटक ‘तुम्हारी अमृता’ में अमृता के चरित्र को निभाने से सबसे अधिक संतुष्टि मिली।

उन्होंने कहा कि जब मैंने पहली बार कहानी सुनी तो मैं रोने लगी। यहां तक कि इस नाटक के 300 शो करने के बाद भी मैं हर बार एक स्थान पर रोने लगती हूं।

मशहूर लेखक जावेद अख्तर की पत्नी गुलजार की बहुत बड़ी प्रशंसक हैं। उन्होंने कहा कि मैं गुलजार को एक बेहतरीन गीतकार एवं संवाद लेखक मानती हूं। मैं चाहती हूं वह फिल्म बनाएं और मुझे फिर से काम करने का अवसर दें। शबाना इससे पहले गुलजार की ‘नमकीन’ एवं ‘लिबास’ फिल्म में काम कर चुकी हैं। हालांकि ‘लिबास’ प्रदर्शित तो नहीं हुई लेकिन इसके गाने लोगों के पास पहुंच गए।

शबाना (61 वर्ष) ने ‘अंकुर’, ‘निशांत’, ‘मासूम’, ‘मंडी’, ‘फायर’, ‘गॉडमदर’ और ‘मॉर्निंग रागा’ जैसी उत्कृष्ट फिल्मों में अभिनय किया।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingगावस्कर ने पुजारा की तारीफों के पुल बांधे
अपनी अच्छी तकनीक और शांत चित के कारण चेतेश्वर पुजारा क्रीज पर अपने पांव जमाने में माहिर हैं और पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने भी इस युवा बल्लेबाज की आज जमकर तारीफ की जिन्होंने अपने नाबाद शतक से भारत को संकट से उबारा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब संता के घर आए डाकू...
आधी रात को संता के घर डाकू आए।
संता को जगाकर पूछा: यह बताओ कि सोना कहां है?
संता (गुस्से से): इतना बड़ा घर है कहीं भी सो जाओ। इतनी छोटी बात के लिए मुझे क्यों जगाया!