शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 22:24 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    भूपेंद्र सिंह हुड्डा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें  कालेधन पर राम जेठमलानी ने बढ़ाई सरकार की मुश्किलें जमशेदपुर से लश्कर का आतंकवादी गिरफ्तार  कोई गैर गांधी भी बन सकता है कांग्रेस अध्यक्ष: चिदंबरम भाजपा के साथ सरकार के लिए उद्धव बहुत उत्सुक: अठावले रांची : एंथ्रेक्स ने ली सात लोगों की जान, 8 गंभीर हालत में भर्ती भारत-पाक तनाव के लिये भारत जिम्मेदार : बिलावल भुट्टो अमेरिकी विदेश विभाग में पहली बार मनी दीवाली एनआईए प्रमुख ने बर्दवान विस्फोट की जांच का जायजा लिया आईएस के आतंकवादी अब दुनिया में सबसे धनी : विशेषज्ञ
उम्र के मुताबिक भूमिका की खोज में हैं पूजा
मुम्बई, एजेंसी First Published:26-12-12 02:29 PM
Image Loading

पूजा भट्ट को बड़े पर्दे पर दिखे एक दशक बीत चुके हैं। वह कहती हैं कि अपनी उम्र के मुताबिक भूमिका पाने पर वह जरूर फिर से पर्दे पर दिखने की इच्छा रखती हैं।

पूरा ने वर्ष 1998 में ‘तमन्ना’ के साथ बतौर निर्माता नई पारी की शुरुआत की थी और फिर 2003 में फिल्म ‘पाप’ के साथ निर्देशन के क्षेत्र में कदम रखा था।

पूजा ने कहा कि मैं अपनी उम्र के मुताबिक भूमिका चाहती हूं। मुझे 40 साल का होने पर गर्व है क्योंकि इस उम्र में मैंने अपनी आत्मा को पवित्र बनाए रखा है। मैं नहीं समझती कि बहुत सारे लोगों ने अपने व्यवसाय में इस तरह की सफलता हासिल की है।

‘‘ऐसे में अगर कोई मुझे मेरी उम्र के मुताबिक भूमिका देगा तो मैं उसे जरूर स्वीकार करूंगी। मैं भूमिका पाने के लिए खुद को उम्र से कम दिखाने की खातिर कोई कदम नहीं उठाना चाहती।’’

पूजा ने 1990 के दशक में कई फिल्मों में काम किया था। उनकी प्रमुख फिल्मों में ‘दिल है कि मानता नहीं’, ‘सर’, ‘बॉर्डर’, ‘जख्म’ शामिल हैं।
 
 
 
टिप्पणियाँ