गुरुवार, 03 सितम्बर, 2015 | 10:00 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
अमरोहा: कुमराला गांव के पास सड़क पार कर स्कूल जा रही कक्षा चार की छात्रा को दूसरे स्कूल की बस ने टक्कर मारी। छात्रा की हालत गंभीरउत्तराखंडः रुड़की क्षेत्र में लक्सर के दाबकी गांव में महिलाओं ने देशी शराब के ठेके में आग लगाई
उम्र के मुताबिक भूमिका की खोज में हैं पूजा
मुम्बई, एजेंसी First Published:26-12-2012 02:29:58 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

पूजा भट्ट को बड़े पर्दे पर दिखे एक दशक बीत चुके हैं। वह कहती हैं कि अपनी उम्र के मुताबिक भूमिका पाने पर वह जरूर फिर से पर्दे पर दिखने की इच्छा रखती हैं।

पूरा ने वर्ष 1998 में ‘तमन्ना’ के साथ बतौर निर्माता नई पारी की शुरुआत की थी और फिर 2003 में फिल्म ‘पाप’ के साथ निर्देशन के क्षेत्र में कदम रखा था।

पूजा ने कहा कि मैं अपनी उम्र के मुताबिक भूमिका चाहती हूं। मुझे 40 साल का होने पर गर्व है क्योंकि इस उम्र में मैंने अपनी आत्मा को पवित्र बनाए रखा है। मैं नहीं समझती कि बहुत सारे लोगों ने अपने व्यवसाय में इस तरह की सफलता हासिल की है।

‘‘ऐसे में अगर कोई मुझे मेरी उम्र के मुताबिक भूमिका देगा तो मैं उसे जरूर स्वीकार करूंगी। मैं भूमिका पाने के लिए खुद को उम्र से कम दिखाने की खातिर कोई कदम नहीं उठाना चाहती।’’

पूजा ने 1990 के दशक में कई फिल्मों में काम किया था। उनकी प्रमुख फिल्मों में ‘दिल है कि मानता नहीं’, ‘सर’, ‘बॉर्डर’, ‘जख्म’ शामिल हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingश्रीलंका में 22 साल बाद भारत ने टेस्ट सीरीज जीती
भारतीय क्रिकेट टीम ने सिंहलीज स्पोर्ट्स क्लब मैदान पर जारी तीसरे टेस्ट मैच के पांचवें दिन श्रीलंका को 117 रनों से हराया। इस जीत के साथ भारत ने 22 साल बाद टेस्ट सीरीज पर कब्जा कर इतिहास रचा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

मैथ नहीं जानते
टीचर-सोनू, तुम्हारे पापा ने 10 प्रतिशत के सालाना ब्याज पर 5000 रुपए कर्ज लिए। वे एक साल बाद कर्ज वापस करते हैं, बताओ वह कुल कितने पैसे वापस करेंगे?
सोनू-कुछ भी नहीं।
टीचर (गुस्से में)-तुम मैथ नहीं जानते।
सोनू-सर, मैं तो मैथ जानता हूं, पर आप मेरे पिताजी को नहीं जानते