शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 02:55 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
शीना बोरा के इस्तीफे पर फर्जी साइनः राकेश मारिया।
क्षेत्रीय सिनेमा में काम कर सहज महसूस करती हैं नीतू
पणजी, एजेंसी First Published:27-11-2012 04:25:56 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

लगभग एक साल से अधिक समय से हिन्दी फिल्मों में नजर नहीं आने वाली अभिनेत्री नीतू चन्द्रा ने कहा है कि वह क्षेत्रीय सिनेमा में काम कर के खुश हैं क्योंकि इसमें अधिक गुणवत्ता और सामग्री मिलती है।
   
अभिनेत्री नीतू ने बॉलीवुड की फिल्मों जैसे 'गरम मसाला', 'ओए लकी लकी ओए' और 'ट्रैफिक सिग्नल' में काम किया है। उनकी अंतिम प्रदर्शित फिल्म 'कुछ लव जैसा' बॉक्स ऑफिस पर बेहतर प्रदर्शन नहीं कर सकी थी।
   
नीतू तमिल और तेलगू सिनेमा में भी काम कर रही है। इसके अलावा वह होम स्वीट होम शीर्षक वाली यूनानी फिल्म में काम कर रही हैं।
   
नीतू ने बताया कि छह साल के दौरान मैनें अच्छी फिल्मों में काम किया है और मैं गिनती पर ध्यान नहीं देती। गैर फिल्मी पृष्ठभूमि से आने वाले लोगों को बार-बार मौका नहीं मिलता है। ऐसे में मैं अपनी पसंद को लेकर सावधान रहता हूं। आज क्षेत्रीय सिनेमा में और अधिक सामग्री मिलती है।
   
43वें अंतरराष्ट्रीय भारतीय फिल्मोत्सव से इतर चंद्रा ने बताया कि वह एक तमिल और यूनानी फिल्म में काम कर रही हैं। इन फिल्मों में काम करके वह खुश हैं। मैं ऐसा व्यवसायिक सिनेमा नहीं कर सकती जिसमें मुझे पूरा संतोष भी नहीं मिले।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब पप्पू पहंचा परीक्षा देने...
अध्यापिका: परेशान क्यों हो?
पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
अध्यापिका: क्या हुआ, पेन भूल आये हो?
पप्पू फिर चुप।
अध्यापिका : रोल नंबर भूल गए हो?
अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?
पप्पू गुस्से से: अरे! यहां मैं पर्ची गलत ले आया हूं और आपको पेन-पेंसिल की पड़ी है।