शनिवार, 23 मई, 2015 | 00:39 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    9 अभिनेत्रियां जिनकी मौत आज भी है रहस्य कोयला घोटाला: जिंदल, राव, कोड़ा को जमानत पिछले एक साल में मोदी सरकार ने दुनिया भर में बढ़ाया भारत का मान: जेटली प्रकृति एवं पर्यावरण पर ग्रीष्मकालीन शिविर आईपीएल सट्टेबाजी केस में ईडी ने मारे छापे मतदाताओं के लिए आधार की अनिवार्यता पर माकपा को आपत्ति उपराज्यपाल जंग को मिलते हैं प्रधानमंत्री ऑफिस से निर्देश: केजरीवाल पीएफ का पैसा निकालने जा रहे हैं, तो पहले जरूर पढ़ें ये खबर आतंकवाद पर रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने दिखाया सख्त रुख आईपीएल: मैच ही नहीं, कप्तानी का भी मुकाबला
'बॉलीवुड को कॉरपोरेट शक्ल देना सही कदम'
मुम्बई, एजेंसी First Published:27-11-12 04:27 PM
Image Loading

फिल्मकार करण जौहर का कहना है कि हिन्दी फिल्म उद्योग को कॉरपोरेट शक्ल देना एक सही कदम हैं और इससे आने वाले सकारात्मक बदलाव बॉलीवुड में लम्बे समय तक बने रहेंगे। 

करण बीते 18 वर्षों से हिन्दी फिल्म उद्योग का हिस्सा हैं। उन्होंने बताया कि बहुत अधिक बदलाव आ रहे हैं। काम करने के तौर-तरीकों, वातावरण और प्रणाली में काफी बदलाव आया है...मैं समझता हूं कि हमारे अंदर आखिरकार कॉरपोरेट, संरचना और अनुशासन सम्बंधी समझ आ गई है। मनोरंजन व्यवसाय में यह चीजें अपने ढ़ग से काम करती हैं और यह बदलाव लम्बे समय तक बने रहेंगे।

करण ने हिन्दी फिल्म उद्योग में सहायक निर्देशक के रूप में प्रवेश किया। वर्ष 1998 में आई ‘कुछ कुछ होता है’ करण के निर्देशन में बनी पहली फिल्म है। इसके बाद उन्होंने ‘कभी खुशी कभी गम’, ‘कभी अलविदा ना कहना’ और ‘माई नेम इज खान’ जैसी कई हिट फिल्में दी।

‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ उनके निर्देशन में बनी आखिरी फिल्म है। 40 वर्षीय करण यह भी मानते हैं कि फिल्म उसे बनाने वाले की वास्तविकता को दिखाती है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingआरसीबी को हराकर चेन्नई शान से फाइनल में
आशीष नेहरा की अगुआई में गेंदबाजों के दमदार प्रदर्शन के बाद सलामी बल्लेबाज माइक हसी के जुझारू अर्धशतक से चेन्नई सुपकिंग्स ने इंडियन प्रीमियर लीग के दूसरे क्वालीफायर में आज यहां रायल चैलेंजर्स बेंगलूर को रोमांचक मुकाबले में तीन विकेट से हराकर छठी बार फाइनल में जगह बनाई।