शुक्रवार, 03 जुलाई, 2015 | 21:08 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    फिल्म देखने से पहले पढ़ें 'गुड्डू रंगीला' का रिव्यू फिल्म रिव्यू: टर्मिनेटर जेनेसिस पूर्व रॉ प्रमुख के खुलासे के बाद सरकार पर हमलावर हुई कांग्रेस, PM से की माफी की मांग झारखंड: मेदिनीनगर के हुसैनाबाद में ओझा-गुणी की हत्या हजारीबाग के पदमा में दो गुटों में भिड़ंत, आधा दर्जन घायल गुमला में बाइक के साथ नदी में गिरा सरकारी कर्मी, मौत हेमा मालिनी के ड्राइवर को कुछ ही घंटों में मिली जमानत, बच्ची की मौत से हेमा दुखी झारखंड के चाईबासा में रिश्वत लेते दारोगा रंगे हाथ गिरफ्तार झारखंड: हजारीबाग में पिता ने अबोध बेटी को पटक कर मार डाला जमशेदपुर में स्कूल वाहन चालक हड़ताल पर, अभिभावक परेशान
'बॉलीवुड को कॉरपोरेट शक्ल देना सही कदम'
मुम्बई, एजेंसी First Published:27-11-12 04:27 PM
Image Loading

फिल्मकार करण जौहर का कहना है कि हिन्दी फिल्म उद्योग को कॉरपोरेट शक्ल देना एक सही कदम हैं और इससे आने वाले सकारात्मक बदलाव बॉलीवुड में लम्बे समय तक बने रहेंगे। 

करण बीते 18 वर्षों से हिन्दी फिल्म उद्योग का हिस्सा हैं। उन्होंने बताया कि बहुत अधिक बदलाव आ रहे हैं। काम करने के तौर-तरीकों, वातावरण और प्रणाली में काफी बदलाव आया है...मैं समझता हूं कि हमारे अंदर आखिरकार कॉरपोरेट, संरचना और अनुशासन सम्बंधी समझ आ गई है। मनोरंजन व्यवसाय में यह चीजें अपने ढ़ग से काम करती हैं और यह बदलाव लम्बे समय तक बने रहेंगे।

करण ने हिन्दी फिल्म उद्योग में सहायक निर्देशक के रूप में प्रवेश किया। वर्ष 1998 में आई ‘कुछ कुछ होता है’ करण के निर्देशन में बनी पहली फिल्म है। इसके बाद उन्होंने ‘कभी खुशी कभी गम’, ‘कभी अलविदा ना कहना’ और ‘माई नेम इज खान’ जैसी कई हिट फिल्में दी।

‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ उनके निर्देशन में बनी आखिरी फिल्म है। 40 वर्षीय करण यह भी मानते हैं कि फिल्म उसे बनाने वाले की वास्तविकता को दिखाती है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड