शनिवार, 04 जुलाई, 2015 | 07:10 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    फिल्म देखने से पहले पढ़ें 'गुड्डू रंगीला' का रिव्यू फिल्म रिव्यू: टर्मिनेटर जेनेसिस पूर्व रॉ प्रमुख के खुलासे के बाद सरकार पर हमलावर हुई कांग्रेस, PM से की माफी की मांग झारखंड: मेदिनीनगर के हुसैनाबाद में ओझा-गुणी की हत्या हजारीबाग के पदमा में दो गुटों में भिड़ंत, आधा दर्जन घायल गुमला में बाइक के साथ नदी में गिरा सरकारी कर्मी, मौत हेमा मालिनी के ड्राइवर को कुछ ही घंटों में मिली जमानत, बच्ची की मौत से हेमा दुखी झारखंड के चाईबासा में रिश्वत लेते दारोगा रंगे हाथ गिरफ्तार झारखंड: हजारीबाग में पिता ने अबोध बेटी को पटक कर मार डाला जमशेदपुर में स्कूल वाहन चालक हड़ताल पर, अभिभावक परेशान
हॉफमैन का करियर महज एक संयोग
लंदन, एजेंसी First Published:29-12-12 12:49 PM
Image Loading

अभिनेता-निर्देशक डस्टिन हॉफमैन को यह बिल्कुल समझ नहीं आता कि वह एक प्रसिद्ध अभिनेता बन कैसे गए उनका कहना है कि उन्हें तो हमेशा से यही बताया जाता था कि वे एक हारे हुए इंसान हैं।
  
डेली स्टार की खबर के अनुसार, 75 वर्षीय इस अभिनेता को प्रसिद्धि वर्ष 1967 में द ग्रेजुएशन में अपने किरदार के बाद मिली थी लेकिन उन्हें सफल करियर की कोई खास उम्मीद नहीं थी।
  
उन्होंने कहा कि मुझे वाकई लगता है कि द ग्रेजुएट के बाद मिली प्रसिद्धि महज एक संयोग थी। यह मेरे लिये नहीं थी। मैं खुद को नापसंद नहीं करता। मैंने सीख लिया है कि मेरे पास खुद के साथ जीने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।
   
उन्होंने कहा कि स्कूली दिनों में मैं एकाग्र चित्त नहीं हो पाता था। मुझे लगता है कि मेरे अंदर यह बात भर दी गयी थी क्योंकि अब पढ़ना और लिखना मेरे ऐसे दो शौक हैं जिनसे ज्यादा मुझे और कुछ भी पसंद नहीं है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड