शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 15:46 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पूर्व सैनिकों ने कहा है कि सरकार ने हमारी केवल एक मांग मानी है, 6 मांगों को खारिज कर दिया है, हमारा विरोध प्रर्दशन जारी रहेगावन रैंक वन पेंशन पर वीआरएस का प्रस्ताव पूर्व सैनिकों ने नामंजूर किया, 5 साल में समीक्षा मंजूर नहीं, वीआरएस पर सरकार से सफाई मांगेंगेएरियर चार किश्तों में दिया जाएगाः पर्रिकरपिछली सरकार ने ओआरओपी के लिए बहुत कम बजट रखा थाः पर्रिकर2013 को ओआरओपी के लिए आधार वर्ष माना जाएगाः पर्रिकरवीआरएस लेने वाले ओआरओपी से बाहर होंगेः पर्रिकरवन रैंक वन पेंशन से सरकार पर आएगा दस हजार करोड़ अतिरिक्त वित्तीय भारवन रैंक वन पेंशन का एलान, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने किया एलान
हॉफमैन का करियर महज एक संयोग
लंदन, एजेंसी First Published:29-12-2012 12:49:42 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

अभिनेता-निर्देशक डस्टिन हॉफमैन को यह बिल्कुल समझ नहीं आता कि वह एक प्रसिद्ध अभिनेता बन कैसे गए उनका कहना है कि उन्हें तो हमेशा से यही बताया जाता था कि वे एक हारे हुए इंसान हैं।
  
डेली स्टार की खबर के अनुसार, 75 वर्षीय इस अभिनेता को प्रसिद्धि वर्ष 1967 में द ग्रेजुएशन में अपने किरदार के बाद मिली थी लेकिन उन्हें सफल करियर की कोई खास उम्मीद नहीं थी।
  
उन्होंने कहा कि मुझे वाकई लगता है कि द ग्रेजुएट के बाद मिली प्रसिद्धि महज एक संयोग थी। यह मेरे लिये नहीं थी। मैं खुद को नापसंद नहीं करता। मैंने सीख लिया है कि मेरे पास खुद के साथ जीने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।
   
उन्होंने कहा कि स्कूली दिनों में मैं एकाग्र चित्त नहीं हो पाता था। मुझे लगता है कि मेरे अंदर यह बात भर दी गयी थी क्योंकि अब पढ़ना और लिखना मेरे ऐसे दो शौक हैं जिनसे ज्यादा मुझे और कुछ भी पसंद नहीं है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingटीचर्स डे पर तेंदुलकर ने आचरेकर सर को ऐसे किया 'सलाम'
मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के नाम इंटरनेशनल क्रिकेट के बल्लेबाजी के लगभग सभी बड़े रिकॉर्ड्स दर्ज हैं। तेंदुलकर को क्रिकेट के भगवान तक का दर्जा दिया गया है, लेकिन इन सबके पीछे एक इंसान का सबसे बड़ा योगदान रहा है, तेंदुलकर के गुरु रमाकांत आचरेकर।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।