शनिवार, 31 जनवरी, 2015 | 03:04 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
फतुहा में बिजली की तार की चपेट में ट्रॉली आई, दो की मौतअमिता को पीजीआई लखनऊ भेजा गया था महिला के खून का नमूना, जांच में स्वाइन फ्लू की पुष्टिबरेली में स्वाइन फ्लू से पहली मौत की पुष्टि, राममूर्ति मेडिकल कालेज में हुई थी 24 जनवरी को सीबीगंज की अमिता उपाध्याय की मौतपाकिस्तान के शिकारपुर में ब्लास्ट, 20 लोगों की मौतयूपी: लखीमपुर खीरी के मैगलंगज में युवक की हत्या, ट्रैक्टर ट्रॉली पर फेंक दिया शव, गला दबाकर हत्या का आरोपबरेली : इंडियन वैटेनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट (आईवीआरआई) और सेंट्रल एवियन रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीएआरआई) में रेबीज का कहर, आवारा कुत्तों के काटने से कई वैज्ञानिक रेबीज की चपेट में, मारे गए कुत्तों के पोस्टमार्टम में रेबीज की पुष्टि
हॉफमैन का करियर महज एक संयोग
लंदन, एजेंसी First Published:29-12-12 12:49 PM
Image Loading

अभिनेता-निर्देशक डस्टिन हॉफमैन को यह बिल्कुल समझ नहीं आता कि वह एक प्रसिद्ध अभिनेता बन कैसे गए उनका कहना है कि उन्हें तो हमेशा से यही बताया जाता था कि वे एक हारे हुए इंसान हैं।
  
डेली स्टार की खबर के अनुसार, 75 वर्षीय इस अभिनेता को प्रसिद्धि वर्ष 1967 में द ग्रेजुएशन में अपने किरदार के बाद मिली थी लेकिन उन्हें सफल करियर की कोई खास उम्मीद नहीं थी।
  
उन्होंने कहा कि मुझे वाकई लगता है कि द ग्रेजुएट के बाद मिली प्रसिद्धि महज एक संयोग थी। यह मेरे लिये नहीं थी। मैं खुद को नापसंद नहीं करता। मैंने सीख लिया है कि मेरे पास खुद के साथ जीने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।
   
उन्होंने कहा कि स्कूली दिनों में मैं एकाग्र चित्त नहीं हो पाता था। मुझे लगता है कि मेरे अंदर यह बात भर दी गयी थी क्योंकि अब पढ़ना और लिखना मेरे ऐसे दो शौक हैं जिनसे ज्यादा मुझे और कुछ भी पसंद नहीं है।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड