शनिवार, 01 अगस्त, 2015 | 09:02 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ISIS के चंगुल से छुड़ाए गए दो भारतीय, दो को आजाद कराने की कोशिश जारी EXCLUSIVE: देश में सबसे ज्यादा लापता हो रहे हैं यूपी के बच्चे 'हिंदू आतंकवाद' शब्द ने आतंक के खिलाफ जंग कमजोर की: राजनाथ चूहे के कारण बीच रास्ते से लौटा 200 यात्रियों वाला एयर इंडिया का विमान भारत-बांग्लादेश के बीच गांवों की अदला-बदली शुरू, नवंबर से होगी लोगों की अदला-बदली  बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 23 रुपये 50 पैसे हुआ सस्ता, पेट्रोल और डीजल के दाम भी घटे लीबिया में आतंकी संगठन IS के चंगुल से 2 भारतीय रिहा, बाकी 2 को छुड़ाने की कोशिश जारी याकूब के जनाजे में शामिल लोगों को त्रिपुरा के गवर्नर ने बताया आतंकी उपभोक्ताओं को रुलाने लगा प्याज, खुदरा भाव 50 रुपये पहुंचा  कांग्रेस MLA उस्मान मजीद बोले, मुंबई बम ब्लास्ट के आरोपी टाइगर मेमन से कई बार की मुलाकात
गॉड ऑफ स्मॉल थिंग्स पर फिल्म बनानी है: अंजलि
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:06-12-2012 04:24:15 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

निर्देशक अंजलि मेनन ने कहा कि उनका अरुंधति रॉय की किताब गॉड ऑफ स्मॉल थिंग्स को बड़े पर्दे पर उतारने का सपना है। उन्होंने अपनी पहली फिल्म मलायालय में मनजादिकुरू बनायी है, जिसे फिल्म समीक्षकों की ओर से भारी प्रसंशा मिली है।

अंजलि ने कहा कि मैं गॉड ऑफ स्मॉल थिंग्स के जादू को फिर से जिंदा करना चाहती हूं। उन्होंने कहा कि हालांकि किताब की लेखिका इस पर आधारित सिनेमा बनाने के लिए बहुत ज्यादा उत्साहित नहीं हैं।

लंदन के फिल्म स्कूल से अपनी सिनेमा की पढ़ाई पूरा करने वाली अंजलि ने को अपनी पहली फिल्म की विषयवस्तु चुनने के लिए बहुत कठिनाई नहीं आयी।

भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह में दिखाई जाने वाली फिल्म मनजादिकुरू 1980 के सामाजिक पृष्ठभूमि पर आधारित है। अंजलि ने इस फिल्म की प्रेरणा अपने बचपन एवं किरोशारावस्था और संयुक्त परिवार की परंपरा से प्राप्त की। वह उत्तरी केरल की रहने वाली है, जहां की पृष्ठभूमि पर इस फिल्म का निर्माण किया गया है।

अंजलि ने कहा कि जब मैंने इसकी पटकथा लिखी, तब मुझे नहीं मालूम था कि दर्शक इस कहानी से जुड़ाव महसूस करेंगे। एक लेखक के तौर पर मुझे अपनी फिल्म की स्वीकृति से बेहद खुशी प्राप्त हुई है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें