सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 06:28 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर
मुझे याद आती है दिल्ली की सर्दी: दिबाकर
First Published:29-12-12 11:41 AM
Image Loading

फिल्म निर्देशक दिबाकर बैनर्जी भले ही आज मुंबई में रहते हों, लेकिन दिल्ली आज भी उनके दिल में बसती है। इसीलिए तो वह जब भी दिल्ली आते हैं, इस शहर की बाबत खुल कर बात करते हैं। पिछले दिनों दिबाकर एक एल्युमनाई मीट के लिए दिल्ली में थे। जब उनसे सवाल किया गया कि मुंबई में रहते हुए क्या उन्हें दिल्ली याद आती है? तो दिबाकर ने खुले मन से स्वीकार किया कि उन्हें दिल्ली बहुत याद आती है। खास तौर से इस शहर का मौसम, यहां की सर्दियां।

उन्होंने माना कि मुंबई में तो बारह मास एक जैसा मौसम रहता है या यों कहें कि गर्मियों का मौसम रहता है, लेकिन दिल्ली में नवंबर आते ही सर्द हवाएं चलने लगती हैं, जो फरवरी के अंत तक जारी रहती हैं। इस मौसम की खूबसूरती दिबाकर का दिल बांधती है और उन्हें बेहद याद भी आती है।

गौरतलब है कि दिबाकर का जन्म दिल्ली के करोल बाग में हुआ और उनकी पढ़ाई-लिखाई भी इसी शहर में हुई। शायद यही वजह है कि दिल्ली जब भी उन्हें बुलाती है, वह खुद को आने से रोक नहीं पाते। दिबाकर अपनी फिल्म खोसला का घोसला की रिलीज तक अपनी पत्नी रिचा के साथ दिल्ली में ही रहते थे। फिल्म की सफलता के बाद वह मुंबई शिफ्ट हुए। दिबाकर ने अपनी ज्यादातर फिल्मों के केंद्र में भी दिल्ली को रखा है, फिर चाहे वह खोसला का घोसला हो या ओए लकी लकी ओए।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड