शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 02:33 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
अपने काम से संतुष्ट नहीं रहतीं दीपिका
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:28-12-2012 04:33:41 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

कम समय में ही हिन्दी सिनेमा जगत में अपना एक अलग मुकाम बनाने वाली फिल्म अभिनेत्री दीपिका पादुकोण अपने काम से ज्यादा संतुष्ट नहीं रहती हैं। अदाकारा दीपिका को ऐसा लगता है कि खुद की आलोचना करने के कारण उसे हरेक फिल्मों में बेहतर प्रदर्शन करने में मदद मिलती है।
   
दीपिका ने बताया कि वह खुद को लेकर काफी सख्त हैं। वह अपने कामों को लेकर बहुत कम संतुष्ट रहती है लेकिन उसे अपने इस स्वभाव को लेकर खुशी है। हरेक दिन बेहतर करने के लिए वह खुद से प्रतियोगिता करती हैं और खुद की चुनौती स्वीकार करती हैं। यह मुझे आगे बढ़ने का मौका देता है अन्यथा उसे लगता है कि वह एक ढर्रे पर चलती रहेंगी। 
   
इस साल प्रदर्शित होने वाली एक मात्र फिल्म 'कॉकटेल' में 26 वर्षीय अभिनेत्री ने वेरोनिका का किरदार निभा कर यह साबित कर दिया है कि वह एक खूबसुरत चेहरे के अलावा शानदार प्रदर्शन भी कर सकती हैं।
   
उन्होंने कहा कि उन्हें खुशी है कि लोगों ने इस फिल्म में यह महसूस किया। मुझे हमेशा खुद पर और खुद के काम भरोसा रहा है लेकिन कुछ समय आपको अच्छी पटकथा का इंतजार करना पड़ता है और फिर अवसर मिलता है।
   
इस फिल्म में प्रदर्शन के लिए दीपिका को पहले ही पुरस्कार मिल चुका है। हालांकि वह यह देख कर काफी खुश हैं कि उनके बदले हुए स्वरूप को देख कर दर्शकों की धारणा बदली है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।