सोमवार, 31 अगस्त, 2015 | 01:28 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
टेलीविजन से ज्यादा संतोषजनक सिनेमा: पंकज
मुंबई, एजेंसी First Published:13-12-2012 02:07:23 PMLast Updated:13-12-2012 02:10:07 PM
Image Loading

प्रसिद्ध अभिनेता पंकज कपूर चर्चित धारावाहिक 'करमचंद' का हिस्सा रहे हैं, लेकिन वह गत एक दशक से छोटे पर्दे से दूर हैं और इसकी वजह वह इसके स्वरुप के बदल जाने को मानते हैं साथ ही वह फिल्मों में काम कर ज्यादा संतुष्ट हैं।

पंकज ने कहा कि मैंने आठ से नौ साल पहले टेलीविजन पर सक्रिय न रहने का फैसला किया क्योंकि मुझे लगा कि टेलीविजन का स्वरूप बदल रहा है और मेरे जैसा इंसान आजकल चल रहे कार्यक्रमों से खुद को जोड़कर नहीं देख सकता। दूसरी तरफ उनका मानना है कि फिल्मों में एक कलाकार को उसके किरदार के लिए काफी समय मिल जाता है।

'करमचंद' के अलावा 'जबान सम्भाल के', 'ऑफिस-ऑफिस' और 'मोहनदास बीएएलएलबी' जैसे धारावाहिक का अहम हिस्सा रहे 58 वर्षीय पंकज ने कहा कि आप टेलीविजन पर उतना ही काम करते हैं जितना फिल्मों में। फिल्म में काफी कम समय लगता है और आपको अपने किरदार पर शोध करने और उस पर काम करने का समय मिल जाता है। यह ज्यादा संतोषजनक होता है क्योंकि फिल्म चले या न चले आपके किरदार को विभिन्न लोग विभिन्न माध्यमों में देखते हैं।

हालांकि, छोटे पर्दे पर वह काम करने को अभी भी तैयार हैं। उन्होंने कहा कि बतौर कलाकार मेरे लिए टेलीविजन का विकल्प अभी भी खुला है, लेकिन वैसे कार्यक्रमों में नहीं जो आज दिखाया जाता है, लेकिन ऐसा कुछ जो बिलकुल अलग हो और निर्देशक और अभिनेता को जरूरी आजादी दी जा रही हो तो करूंगा।

'नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा' के छात्र रहे पंकज रंगमंच पर भी सफल रहे हैं। वह जल्द ही निर्देशक विशाल भारद्वाज की फिल्म 'मटरू की बिजली का मंडोला' में नजर आएंगे। 11 जनवरी  2013 में प्रदर्शित हो रही इस फिल्म में अभिनेता इमरान खान और अभिनेत्री अनुष्का शर्मा भी होंगे।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingकोलंबो टेस्ट: भारत को 132 रनों की बढ़त
इशांत शर्मा ( 54 रन पर पांच विकेट) की घातक गेंदबाजी और इससे पहले ओपनर चेतेश्वर पुजारा (नाबाद 145) रन के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने यहां तीसरे और निर्णायक टेस्ट मैच के तीसरे दिन रविवार को अपना शिकंजा कसते हुये मेजबान श्रीलंका के खिलाफ 111 रन की महत्वपूर्ण बढ़त हासिल कर ली।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

सीसीटीवी कैमरों का जमाना है...
पिता: एक समय था, जब मैं 10 रुपए में किराना, दूध, सब्जी और नाश्ता ले आता था..
बेटा: अब संभव नहीं है, पापा अब वहां सीसीटीवी कैमरे लगे होते हैं।