शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 04:40 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
'आधुनिक हिंदी थियेटर को सशक्त पटकथाओं की जरूरत'
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:20-12-2012 03:38:21 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

पच्चीस वर्षों के बाद अपने निर्देशित नाटक तेरी अमता के साथ मंच पर वापसी करने वाले प्रसिद्ध अभिनेता ओमपुरी को लगता है कि मराठी और बंगाली थियेटर से स्पर्धा करने के लिए आधुनिक हिंदी थियेटर को सशक्त पटकथाओं की जरूरत है।

ओमपुरी की प्रस्तुति पंजाबी थियेटर समारोह का एक हिस्सा होगी। तेरी अमता जावेद सिद्दीकी के तुम्हारी अमता का पंजाबी रूपांतरण है। सिद्दीकी का तुम्हारी अमता ए सी गर्ने के नाटक लव लैटर्स से प्रेरित था। इस नाटक में ओम पुरी जुल्फीकार हैदर की भूमिका में होंगे जबकि दिव्या दत्ता अमता निगम की भूमिका में नजर आएंगी।

ओम पुरी कहते हैं कि शुरुआत में थियेटर में वापसी को लेकर मैं बहुत नर्वस था। मैंने थियेटर उस समय शुरू किया था जब मैं एक किशोर था। कॉलेज में नाटक के दौरान पंजाब कला मंच के निर्देशकों ने मुझे चुना था। जीवन के इस पड़ाव पर जब मैं 64 साल का होने जा रहा हूं, तब मैं अपने पहले प्यार के पास वापस लौट जाना चाहता हूं। मैं थियेटर दोबारा से शुरू करना चाहता हूं। मैं अभिनय करना चाहता हूं और अब से नाटकों का निर्माण भी करूंगा।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।