Image Loading machine movie review worst film of abbas mustan career - Hindustan
मंगलवार, 28 मार्च, 2017 | 21:23 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अब तक की 10 बड़ी खबरें
  • धर्म नक्षत्र: पढ़ें आस्था, नवरात्रि, ज्योतिष, वास्तु से जुड़ी 10 बड़ी खबरें
  • अमेरिका के व्हाइट हाउस में संदिग्ध बैग मिलाः मीडिया रिपोर्ट्स
  • फीफा ने लियोनल मैस्सी को मैच अधिकारी का अपमान करने पर अगले चार वर्ल्ड कप...
  • बॉलीवुड मसाला: अरबाज के सवाल पर मलाइका को आया गुस्सा, यहां पढ़ें, बॉलीवुड की 10...
  • बडगाम मुठभेड़: CRPF के 23 और राष्ट्रीय राइफल्स का एक जवान पत्थरबाजी के दौरान हुआ घाय
  • हिन्दुस्तान Jobs: बिहार इंडस्ट्रियल एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी में हो रही हैं...
  • राज्यों की खबरें : पढ़ें, दिनभर की 10 प्रमुख खबरें
  • टॉप 10 न्यूज़: पढ़े देश की अब तक की बड़ी खबरें
  • यूपी: लखनऊ सचिवालय के बापू भवन की पहली मंजिल में लगी आग।
  • पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी को हार्ट में तकलीफ के बाद लखनऊ के अस्पताल...

FILM REVIEW: पढ़ें कैसी है अब्बास के बेटे मुस्तफा की फिल्म 'मशीन'

वंदना First Published:17-03-2017 03:50:57 PMLast Updated:17-03-2017 03:50:57 PM

बॉलीवुड के जाने-माने निर्देशक अब्बास-मस्तान ने बाजीगर, रेस जैसी शानदार फिल्में बनाई हैं। लेकिन अब्बास के बेटे मुस्तफा को लॉन्च करने के लिए बनाई फिल्म मशीन में वे थोड़ा चूक गए हैं।

रंश (मुस्तफा) को पहली ही नजर में सारा (कियारा आडवाणी) से प्यार हो गया है। दोनों साथ में एक साथ कॉलेज में पढ़ते हैं और रेसिंग के शौकीन हैं। लेकिन यह आम प्रेम कहानी नहीं है। प्यार हुआ इकरार हुआ और फिर दरार...इतनी गहरी कि अब्बास मस्तान की फिल्मों के मुरीद तुरंत कह सकते हैं, फलां दृश्य बाजीगर, फलां रेस और यह सूची जारी रह सकती है। अब्बास मस्तान ने अपनी सभी फिल्मों के सीन, सीक्वेंस उठाए और फिर मुस्तफा-कियारा के बीच खूबसूरती से फिट कर दिए। उनकी फिल्मों की सभी खासियत इस फिल्म में है। रेसिंग ट्रैक, तेज चलती कारें, चौंकाने के लिए एक-दो लोगों की एंट्री, प्यार, धोखा सब कुछ जितना आप सोच सकते हैं।

रंश को उसके पिता (रोनित रॉय) ने 21 साल तक दुनिया से छुपा कर रखा, एक खास मकसद से। उसकी दुश्मनी एक नहीं दो लोगों से समांतर। बेटा बिल्कुल आज्ञाकारी। कभी पिता से नहीं पूछा पिता के बदले सर क्यों बोलूं, जिससे प्यार करता हूं उसे रास्ते क्यों हटाऊं।

OOPS! 'खुद को कबाड़ इकट्ठा करने वाली समझती थीं अनुष्का'

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: machine movie review worst film of abbas mustan career
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड