Image Loading now only poor children will get admission in the central schools - Hindustan
गुरुवार, 30 मार्च, 2017 | 04:21 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • भीषण हादसा: यूपी के महोबा के पास महाकौशल एक्सप्रेस के 6 डिब्बे पटरी से उतरे, कई...
  • पढ़ें रात 11 बजे की टॉप खबरें, शुभरात्रि
  • आपकी अंकराशि: जानिए कैसा रहेगा आपका कल का दिन
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अब तक की 10 बड़ी खबरें
  • संशोधनों के साथ सीजीएसटी बिल लोकसभा में पास
  • जीएसटी से संबंधित सभी चार बिल लोकसभा में पास
  • धर्म नक्षत्र: नवरात्रि, ज्योति, फेंगशुई से जुड़ी 10 खबरें
  • बॉलीवुड मसाला: करण जौहर के बच्चों को मिली हॉस्पिटल से छुट्टी, यहां पढ़ें,...
  • हिन्दुस्तान Jobs: असिस्टेंट इंजीनियर के 54 पद रिक्त, बीटेक पास करें आवेदन
  • योगी बोले, लोग संतों को भीख नहीं देते, मोदी ने मुझे यूपी सौंप दिया, पढ़ें राज्यों...
  • टॉप 10 न्यूज़: पढ़े अब तक की देश की बड़ी खबरें
  • योग महोत्सव में बोले सीएम योगी आदित्यनाथ, लोग साधु-संतों को भीख नहीं देते, पीएम...
  • गैजेट-ऑटो अपडेट: पढ़ें आज की टॉप 5 खबरें
  • स्पोर्ट्स अपडेटः ऑस्ट्रेलिया मीडिया ने फिर साधा विराट पर निशाना, कहा...
  • बॉलीवुड मिक्स: कटप्पा ने खुद किया खुलासा, आखिर क्यों बाहुबली को मारा पढ़ें,...
  • आईएसआईएस के दो संदिग्ध कार्यकर्ता दिल्ली अदालत पहुंचे, स्वयं के दोषी होने की दी...
  • जरूर पढ़ें: इस शख्स ने 202 km घूमकर बनाया 'बकरी' का MAP,पढे़ं दिनभर की 10 रोचक खबरें
  • सुप्रीम कोर्ट का आदेश, एक अप्रैल से बीएस-3 मानक को पूरा करने वाले वाहनों की नहीं...
  • टीवी गॉसिप: पढ़ें, इस VIDEO में दिखेगा प्रत्युषा की मौत से पहले का सच!, यहां पढ़ें...
  • स्वाद-खजाना: नवरात्रि व्रत की रेसिपी, जानें कैसे बनाएं स्वादिष्ट पाइनेप्पल...
  • यूपी: सीएम योगी आदित्यनाथ ने सरकारी आवास में किया गृह प्रवेश, लखनऊ के 5 कालिदास...
  • लखनऊः लोहिया इंस्टीट्यूट में पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी को देखने पहुंचे...

केंद्रीय विद्यालयों में अब सिर्फ गरीब बच्चों का एडमिशन, दिए गए सख्त निर्देश

नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान टीम First Published:18-03-2017 09:34:21 AMLast Updated:18-03-2017 09:34:21 AM
केंद्रीय विद्यालयों में अब सिर्फ गरीब बच्चों का एडमिशन, दिए गए सख्त निर्देश

ऐसे समय में जब देश के मध्यम वर्गीय और उच्च मध्यम वर्गीय परिवार के घरों के बच्चे केन्द्रीय विद्यालयों में दाखिला ले रहे हैं, वहीं केंद्र सरकार ने फैसला लिया है कि केंद्रीय कर्मियों के बच्चों के अलावा अब सिर्फ गरीब बच्चों को ही दाखिला मिल पाएगा। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर की ओर से सांसदों को भेजे पत्र में कहा गया है कि सिर्फ उन्हीं बच्चों के दाखिले के लिए अपनी सिफारिश भेजें जिनकी सालाना पारिवारिक आय पांच लाख रुपये से कम हो।

इस मामले पर क्या करेगा मंत्रालय?

केन्द्रीय विद्यालय देश के अलग-अलग हिस्सों में स्थित हैं और केन्द्र सरकार द्वारा पोषित हैं। सांसदों को जावड़ेकर द्वारा भेजे गए पत्र में लिखा है कि 'आपसे अनुरोध किया जाता है कि आप सिर्फ उन्हीं छात्रों के नाम भेजें, जिनके अभिभावकों की सालाना आय पांच लाख रुपये से कम है। क्योंकि हमें समाज के निचली आय वर्ग के लोगों का ध्यान रखना है।'

मंत्रालय की ओर से सांसदों को यह अनुरोध भी किया गया है कि वे एक ही केंद्रीय विद्यालय और एक ही क्लास के लिए ज्यादा सिफारिशें देने से बचें ताकि एक ही क्लास में छात्रों की संख्या ज्यादा नहीं बढ़ जाए। इसकी बजाय वे अपनी सिफारिशें अलग-अलग केंद्रीय विद्यालयों के लिए भेजें। सांसद कोटा के तहत होने वाले दाखिले के लिए क्लास में अतिरिक्त सीटें बढ़ाई जाती हैं।

एक नजर आंकड़ों पर

एक नजर यदि देशभर के केंद्रीय विद्यालयों पर देखा जाए तो वर्तमान समय में एक हजार से ज्यादा केंद्रीय विद्यालयों में 12 लाख से ज्यादा छात्र पढ़ाई कर रहे हैं। वहीं सांसदों को अपने क्षेत्र के किसी भी 10 बच्चों के दाखिले की सिफारिश करने का विशेष अधिकार होता है। लेकिन इस साल से केंद्रीय विद्यालयों में दाखिले की प्रक्रिया को ऑनलाइन कर दिया गया है।

इस प्रक्रिया के तहत 15 मार्च तक देश भर से पहली कक्षा में 6.47 लाख आवेदन मिले हैं। इन आवेदनों में सबसे अधिक दिल्ली के हैं। राष्ट्रीय राजधानी के केंद्रीय विद्यालयों में दाखिले के लिए 1.23 लाख आवेदन मिले हैं। इसके बाद उत्तर प्रदेश है, जहां से 70,533 आवेदन मिले हैं। बिहार से लगभग 20 हजार, चंडीगढ़ से तीन हजार, हरियाणा से 14 हजार, झारखंड से छह हजार, उत्तराखंड से सात हजार और पश्चिम बंगाल से 32 हजार आवेदन मिले हैं।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: now only poor children will get admission in the central schools
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें