रविवार, 02 अगस्त, 2015 | 07:46 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    बिहार का चुनाव बना प्रतिष्ठा का प्रश्न, झारखंड के भाजपाइयों ने डाला बिहार में डाला याकूब को फांसी दिए जाने के विरोध में सुप्रीम कोर्ट के डिप्टी रजिस्ट्रार ने दिया इस्तीफा दिल्ली में तेज हुआ पोस्टर वार, केजरीवाल सरकार के विज्ञापनों के खिलाफ भाजपा ने लगाए पोस्टर पूर्व गृह मंत्री सुशील शिंदे ने कहा, मैंने संसद में हिंदू आतंकवाद शब्द का इस्तेमाल कभी नहीं किया  पाकिस्तानी रेंजर्स ने किया सीजफायर का उल्लंघन, बीएसफ ने दिया करारा जवाब खेल रत्न के लिए सानिया के नाम की सिफारिश भाजपा सांसद वरुण गांधी का बयान, 94 फीसदी दलित, अल्पसंख्यक समुदाय को मिली फांसी की सजा विमान हादसे में ओसामा बिन लादेन के परिवार के सदस्यों की मौत  10 रुपए में ऐप उपलब्ध कराएगा गूगल प्ले  ISIS की शर्मनाक हरकत: चार साल के बच्चे को दी तलवार और कहा...मां का सिर काट डालो
खुद से सलाह
नीरज कुमार तिवारी First Published:08-01-2013 06:56:09 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

आप जब परेशानी से घिरे होते हैं, तब क्या सोचते हैं? ज्यादातर लोग चाहते हैं कि उन्हें हमदर्दी हासिल हो। कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जिन्हें दूसरों के सलाह की जरूरत होती है। लेकिन कितने हैं, जो आत्म-सुझाव में परेशानी का हल तलाशते हैं? ऑपेरा स्टार रिसे स्टीवन्स ने बताया कि शुरुआती दिनों में उन्हें हार ही हार हासिल हो रही थी। तब उसके दिमाग में केवल एक बात नाचती कि वह इसलिए विफल हो रही है कि उसकी आवाज के सच्चे कद्रदान नहीं हैं, उनका कोई गॉड फादर नहीं है। एक दिन उसे एक आत्म-सुझाव मिला कि जितना वक्त वह इस तरह सोचने में व्यतीत करती है, उतना अपने रियाज को और दे तब? तब वही हुआ, जो होना था। वह कामयाब हुई। उनके कद्रदान दिन-ब-दिन बढ़ते चले गए। स्टीवन्स कहती हैं कि कामयाबी का सबसे बड़ा रास्ता तब खुलता है, जब आप अपनी कमियों के साथ सहज होते हैं, उसे स्वीकार करते हैं, अपनी आलोचना करते हैं और आलोचक ‘स्व’ को महत्व देते हैं। इस मसले पर डॉक्टर जोसेफ मर्फी कहते हैं कि सेल्फ सजेशन का मतलब है, खुद को किसी खास बात का सुझाव देना।

वह कहते हैं कि हर साधन की तरह इसके भी गलत प्रयोग से नुकसान हो सकता है, लेकिन सही तरीके से प्रयोग करने पर यह बहुत उपयोगी बन जाता है। दरअसल, विचारों में चुंबकीय ताकत होती है और किसी भी व्यक्ति को सबसे ज्यादा उसके अपने विचार प्रभावित करते हैं। अगर आप दिल से मान बैठे हैं कि आप हार चुके हैं, तो दुनिया की कोई ताकत आपको जिता नहीं सकती, लेकिन अगर दिल कहता है कि आप विजेता बन सकते हैं, तो आप जीत की राह तलाश ही लेंगे। समस्या यह है कि हम खुद की बात ही नहीं सुनना चाहते। इसके लिए आपको ठहरना पड़ता है। शांत होना पड़ता है। तभी आपका दिल गलतियों, कमजोरियों को सामने लाकर रखता है। बस हममें अपना रचनात्मक आलोचक बनने का साहस होना चाहिए।  

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingआक्रामक शैली बरकरार रखें कोहली: द्रविड़
राहुल द्रविड़ को बतौर टेस्ट कप्तान श्रीलंका में पहली पूर्ण सीरीज खेलने जा रहे विराट कोहली के कामयाब रहने का यकीन है और उन्होंने कहा कि कोहली को अपनी आक्रामक शैली नहीं छोड़नी चाहिए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब बीमार पड़ा संता...
जीतो बीमार पति से: जानवर के डॉक्टर को मिलो तब आराम मिलेगा!
संता: वो क्यों?
जीतो: रोज़ सुबह मुर्गे की तरह जल्दी उठ जाते हो, घोड़े की तरह भाग के ऑफिस जाते हो, गधे की तरह दिनभर काम करते हो, घर आकर परिवार पर कुत्ते की तरह भोंकते हो, और रात को खाकर भैंस की तरह सो जाते हो, बेचारा इंसानों का डॉक्टर आपका क्या इलाज करेगा?