रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 02:08 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
स्विट्जरलैंड हो रहा जबलपुर
First Published:07-01-13 07:26 PM

उत्तर भारत में जाड़ा बहुत पड़ रहा है। सैकड़ों जानें जाड़े से जा चुकी हैं। सरकार बेचारी कुछ कर नहीं पा रही है। जो गिनती बताई जाती है, चुपचाप नोट कर लेती है। किसी टीवी पर इस बारे में कोई बहस दिखी नहीं। टीवी के लोग अभी लक्ष्मण रेखा, भारत और इंडिया में बिजी हैं। जबलपुर में तो मौसम स्विट्जरलैंड हो रहा है। खूब सर्दी, खूब धूप। जाड़े का लुत्फ उठाया जा रहा है। रोज गिरते तापमान के रिकॉर्ड के आंकड़े आते हैं अखबार में। हमें वे सब एक गिनती की तरह लगते हैं। यही अगर पहनने को गरम कपड़े, ओढ़ने को रजाई-कंबल न होते, तो बिलबिलाते घूमते। मौसम जो अभी स्विट्जरलैंड लग रहा है, तब साइबेरिया हो जाता। दुआ करते कि ये जाड़ा टले जल्दी। बवाल है। इसी मौसम में कल ‘चलो कुछ तूफानी करते हैं’ सोचते हुए साइकिल चलाने निकल गए। शुरू के पंद्रह-बीस पैडल तो खुशी-खुशी मारे। फिर मामला फंसने लगा। समतल सड़क पर लग रहा था कि एवरेस्ट पर साइकिलिंग कर रहे हैं। मन किया कि रुक जाएं, फिर सोचा रुकेंगे, तो लगेगा कि थक गए।

स्टेमिना गड़बड़ है। फिर अपने एक मित्र से मिलने चले गए। साइकिल से आने की बात ऐसे बताई, जैसे हम कोई किला फतह करके आए हों। हांफते हुए ही सही, चार किलोमीटर की साइकिलिंग ने हमारे मन में इतना आत्मविश्वास भर दिया कि हमने तय किया कि तीन महीने बाद साइकिल से नर्मदा परिक्रमा करेंगे। पर दस किलोमीटर चलने में ही हाल-बेहाल हो लिए हम, तो पंद्रह-सोलह सौ किलोमीटर में क्या हाल होगा?
फुरसतिया ब्लॉग से

 
 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ