शनिवार, 28 फरवरी, 2015 | 12:20 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
रिटर्न में बतानी होगी विदेश की संपत्तिविदेश में काला धन मिलने पर जुर्माना 300 फीसद के हिसाब सेपंजाब, तमिलनाडु, हिमाचल में एम्स का एलान54 फीसदी युवा आबादी के लिए दक्षता योजना की ज़रूरतकैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देना हैगुजरात में फाइनेंशियल सेंटर तैयाररक्षा में पहले ही विदेशी निवेश की इजाजतइनकम टैक्स में कोई बदलाव नहींरोजगार बढ़ाने के लिए कार्पोरेट टैक्स का रेट घटेगाटैक्स में कोई नया फायदा नहींइनकम टैक्स का स्लैब पुराना वाला ही रहेगारोड और रेल के लिए टैक्स फ्री बॉन्डपीएम कृषि सिंचाई योजना में 3 हजार करोड़ और देंगेज्यादा टैक्स मिलेगा तो मनरेगा को 5 हजार करोड़ और देंगेअल्पसंख्यकों के लिए नई मंजिल योजना5 नई अल्ट्रा मेगा बिजली परियोजना का प्रस्तावई बिज पोर्टल की शुरुआत, परमिशन के लिए भटकना नहीं पड़ेगादो लाख का दुर्घटना बीमा देगी सरकारअटल पेंशन योजना का ऐलानप्रधानमंत्री बीमा योजना शुरु करेंगेअटल पेंशन योजना: एक हजार सरकार देगी, एक हजार लोग देंगेबिना दावे के EPF और PPF के पैसे से गरीबों के लिए योजनागरीबी रेखा से नीचे के बुजुर्गों के लिए पीएम बीमा योजनामुद्रा के लिए 20 हजार करोड़ की निधिसब्सिडी लीक को कम करेंगेअगले साल सातवां वेतन आयोगछोटे उद्योगों के लिए मुद्रा बैंकमनरेगा के लिए 34699 करोड़ग्रामीण विकास फंड के लिए 25 हजार करोड़मुझे उम्मीद है कि अमीर लोग गैर सब्सिडी छोड़ेंगेजरूरतमंदों के खाते में सब्सिडी सीधे पहुंच रही हैसब्सिडी जरूरतमंदों तक पहुंचाने पर जोरमहंगाई दर 5.1 फीसदी है: जेटलीवित्तीय घाटा 3 प्रतिशत से कम करेंगे: जेटलीइंफ्रास्ट्रक्चर में निवेश की कमी: जेटलीकृषि में पैदावार बढ़ानी है: जेटलीसरकारी घाटे को काबू में करना है: जेटली20 हजार गांवों तक बिजली पहुंचाएंगे2022 तक बेरोजगारी को खत्म कर देंगे2022 तक सभी के लिए घर का लक्ष्य: जेटलीहमने महंगाई पर काबू किया है: जेटलीजनधन आधार मोबाइल का इस्तेमाल करेंगेसब्सिडी के लिए JAM का इस्तेमालदुनिया में मंदी का माहौल है: जेटलीलोगों की जिंदगी बेहतर करना है लक्ष्य: जेटलीराज्य बराबर के भागीदार होंगे: जेटलीजेटली ने पुरानी सरकार पर निशाना साधालोकसभा की कार्रवाई शुरुकैबिनेट की बैठक में बजट को मिली मंजूरी
कुएं में फंसा चांद
अमृत साधना First Published:06-01-13 08:03 PM

क्या कभी चांद कुएं में फंस सकता है? यह सुनकर हंसी आती है, लेकिन  हम सब इसी तरह व्यवहार करते हैं, जैसे चांद कुएं में उतरकर फंस गया हो। फिर हम बहुत दिमाग लड़ाते हैं, ताकि चांद को निकाल सकें। हम सब उस नासमझ आदमी की तरह हैं, जो एक चांदनी रात सुनसान रास्ते से गुजरा। उसने एक कुएं में झांककर देखा, उसमें चांद की परछाईं थी। उस पागल ने सोचा, बेचारा चांद कुएं में कैसे गिर पड़ा! क्या करूं? न मालूम कहां से एक रस्सी ले आया बेचारा। कुएं में उसे फेंका, फंदा बनाया, चांद को फंसाया। चांद फंसा नहीं, चांद तो वहां था ही नहीं, लेकिन एक चट्टान फंस गई! वह जोर से रस्सी खींचने लगा। उसे लगा, चांद बड़ा वजनी है। पागल रस्सी खींचता रहा, खींचता रहा, आखिर फंदा टूट गया और वह चारों खाने चित। कराहते हुए आखें खोलीं, तो ऊपर देखा, चांद आकाश में भागा चला जा  रहा है! उसने कहा, चलो बचा दिया बेचारे को! मुझको चोट लगी-तो लगी, चांद तो मुक्त हो गया।

वह आदमी जितनी बेवकूफी कर रहा था, उतनी ही बेवकूफी सामान्य आदमी भी करता है, जब वह सोचने लगता है कि वह संसार में फंस गया है। सभी बुद्ध पुरुषों का एक ही कहना है कि तुम चांद हो, कुएं में कैसे गिर  सकते हो?
ओशो कहते हैं, ‘सत्य यह है कि मनुष्य कभी फंसा ही नहीं है। वह जो हमारे भीतर है, वह निरंतर मुक्त है, वह किसी बंधन में कभी नहीं फंसा है। लेकिन परछाईं फंस गई है। और हमें पता ही नहीं कि हम उससे ज्यादा भी हैं!’
इसीलिए ध्यान करने का इतना आग्रह है। कोई ध्यान में गहरे जाए, तो लगता है कि गहरे कुएं में उतर रहे हों। उतरते-उतरते पता चलता है कि हम तो खाई के बाहर हैं, क्योंकि हम देख रहे हैं। इस संसार को देखने भर से ज्ञात होता है कि हम तो संसार में फंसे ही नहीं, व्यर्थ परेशान हो रहे हैं।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड