सोमवार, 03 अगस्त, 2015 | 08:21 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    पाकिस्तान ने फिर किया संघर्षविराम का उल्लंघन, कई चौकियों को निशाना बनाया याकूब मेमन के साथ हमदर्दी जताना राष्ट्र के लिये नुकसानदेह है: वेंकैया नायडू झारखंड की शिक्षा मंत्री की शिक्षा का जवाब नहीं, अब बिहार को बताया पड़ोसी देश पाकिस्तान ने 163 भारतीय मछुआरों को रिहा किया  हम टीचर्स की इज्जत करतें हैं, आपलोगों को नहीं मारेंगे: आईएस आतंकी  पीएम मोदी की गया रैली में प्रयोग होगा एसपीजी की 'ब्लू बुक' अलर्ट, जानिये क्या है 'ब्लू बुक'... लालू ने भरी हुंकार, कहा शोषितों की आजादी की दूसरी लड़ाई लड़ रहा राजद कांगेस ने साधा धूमल और अनुराग ठाकुर पर निशाना  LIVE VIDEO: हरिद्वार में चालक ने पुलिस पर चढ़ाई कार, आरोपी गिरफ्तार राष्ट्रपति शासन में हो बिहार का चुनाव: पासवान
नींद का मामला है
राजीव कटारा First Published:04-01-2013 07:33:51 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

मीटिंग में कोई ऊंघ-सा रहा था। उन्होंने पूछा, ‘क्या बात है?’ उसने कहा, ‘रात को ठीक से सो नहीं सका।’ खट से वह बोले, ‘मैं तो दो रात का जगा हूं और देखो कितना फ्रेश नजर आता हूं।’  ‘कभी-कभी रात भर जागना तो चल जाता है, लेकिन उसे आदत नहीं बना लेना चाहिए। नींद के मामले में अपने शरीर की बात सुननी चाहिए।’ यह मानना है डॉ. माइकेल जे. ब्रायस का। वह अमेरिकन बोर्ड ऑफ स्लीप मेडिसिन से जुड़े हैं। उनकी किताब ब्यूटी स्लीप  की खासी चर्चा होती है। नींद हमारे लिए बेहद जरूरी है। इस पर शायद ही कोई बहस करता हो। लेकिन कितनी नींद लेनी चाहिए, उसे लेकर काफी कहा-सुना जाता है। कुछ लोग नींद के मामले में जोर-जबर्दस्ती की बात करते हैं। मसलन, कभी किसी भी वक्त जग सकते हैं। बहुत कम सोने से भी काम चल जाता है। कुछ लोग जरूर नींद की एक तय समय-सीमा की बात करते हैं।

हमारे शरीर की एक प्रकृति होती है। हमें सबसे पहले उसे जानने की कोशिश करनी चाहिए। हमें अपने कामकाज के लिहाज से भी तय करना चाहिए कि कब नींद लेनी है? कब जगना है? कब सोना है? असल में हमें अपनी नींद के साथ किसी तरह का पंगा नहीं लेना चाहिए। हाल की तमाम रिसर्च उसके जोखिम पर आगाह करती रही हैं। हम अपनी नींद कब और कैसे लें? इस पर तो काम हो सकता है।

लेकिन नींद तो चाहिए। उसका कोई विकल्प नहीं है। हम रात में काम करें या दिन में। लेकिन अपनी नींद का वक्त तो तय करना पड़ेगा। अब तो रिसर्च यह भी नहीं मानतीं कि क्वालिटी, लेकिन कम समय की नींद कारगर होती है। वह भरपूर नींद की वकालत करती है। अगर वह नहीं मिलेगी, तो हमारे काम पर असर पड़ेगा। आखिर हम काम के लिए ही तो नींद को उड़ाना चाहते हैं न। लेकिन..

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image LoadingMCA ने शाहरुख के वानखेड़े स्टेडियम में प्रवेश करने से बैन हटाया
मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन ने अभिनेता शाहरुख खान पर वानखेड़े स्टेडियम में घुसने पर लगा प्रतिबंध हटा लिया है। एमसीए के उपाध्यक्ष आशीष शेलार के मुताबिक एमसीए ने यह फैसला रविवार को हुई मैनेजिंग कमेटी की बैठक में लिया है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब बीमार पड़ा संता...
जीतो बीमार पति से: जानवर के डॉक्टर को मिलो तब आराम मिलेगा!
संता: वो क्यों?
जीतो: रोज़ सुबह मुर्गे की तरह जल्दी उठ जाते हो, घोड़े की तरह भाग के ऑफिस जाते हो, गधे की तरह दिनभर काम करते हो, घर आकर परिवार पर कुत्ते की तरह भोंकते हो, और रात को खाकर भैंस की तरह सो जाते हो, बेचारा इंसानों का डॉक्टर आपका क्या इलाज करेगा?