शनिवार, 30 मई, 2015 | 09:51 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    अमेरिकी संस्था का दावा: भारत में पड़ सकता है बड़ा अकाल, 100 करोड़ लोग होंगे प्रभावित! पाकिस्तान के लाहौर में पाक-जिम्बावे मैच के दौरान स्टेडियम के बाहर आत्मघाती हमला अमेरिका में रंगभेद का सामना करना पड़ा था प्रियंका चोपड़ा को! 'वेलकम टू कराची' देखने से पहले रिव्यू तो पढ़ लीजिए केजरीवाल को SC और HC का डबल झटका, LG ही करेंगे नियुक्ति  क्या दाऊद को जल्द भारत ला रही सरकार बीएमडब्ल्यू ने पेश किया ग्रान कूपे का नया मॉडल  चीन में आमिर का एलियन अवतार हुआ हिट चीन में आमिर का एलियन अवतार हुआ हिट सायना की हार के साथ भारतीय चुनौती समाप्त
मैं नहीं हम
नीरज कुमार तिवारी First Published:02-01-13 09:45 PM

उसने तय किया कि इस साल से वह रक्तदान शुरू करेगा। दोस्त थोड़े हैरान हुए, परंतु उसकी सोच के कायल भी हुए। जहां ज्यादातर लोग झूठ नहीं बोलने, वजन कम करने, मांसाहार छोड़ने जैसे संकल्प ले रहे थे, उसने एक ऐसा संकल्प लिया है, जो दूसरों की सेवा पर आधारित था। दरअसल, ऐसे दौर में जब ‘मैं’ शब्द का बोलबाला हो, ‘हम’ के बारे में सोचना थोड़ा आश्चर्य पैदा करता है। लेकिन अक्सर हम जितना चौंकते हैं, यह उतनी चौंकाने वाली बात नहीं होती। आस-पास झांकिए, ऐसे लोग मिल जाएंगे, जो नए साल के उत्सव के दिन भी किसी ऐसी उलझन में फंसे थे, जो मूल रूप से उनका नहीं था। आंदोलन का केंद्र जंतर-मंतर पर भूख हड़ताल में शामिल लोग हमेशा मिल जाते हैं। इनके मुद्दे ऐसे होते हैं, जो मैं नहीं, हम का होता है। ‘हम’ के लिए हमारे हाथ कैसे उठे? प्रसिद्ध समाज विज्ञानी ए सोरोकिन ने कहा था कि आदमी की अपनी अंतरात्मा और उसकी आज की दुनिया में नि:स्वार्थ और निर्णयात्मक प्रेम पैदा किया जाए, उसे जमा किया जाए और चलाया जाए, तो बात बन सकती है। सोरोकिन ने दरअसल समाज को सुखमय करने के लिए खुद के समृद्ध होने की बात कही है। यहां समृद्धि का भाव भौतिक चीजों से नहीं, बल्कि उन चीजों से है, जो वस्तुत: आपके पास पहले से मौजूद है। मशहूर चिंतक और ए न्यू अर्थ जैसी किताब के लेखक एक्हार्ट टल्ल कहते हैं कि आप ‘हम’ के बारे में तभी विचार कर सकते हैं, जब यह सोचना बंद कर दें कि आपके पास देने को कुछ भी नहीं है। वह कहते हैं कि समृद्ध होने की शुरुआत का पहला लक्षण है कि आपके पास प्रशंसा, सराहना, प्यार, सहायता जैसी चीजों को बांटने की मन:स्थिति है। लेकिन हम यहां समृद्धि की बात क्यों कर रहे हैं? हम तो नए साल के संकल्प पर विचार कर रहे थे। सच्चाई यह है कि सबसे बड़ा संकल्प है- खुद को समृद्ध करना और निरंतर समृद्धि को बांटना।    

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
Image Loadingअंतिम 11 में जगह मिलने की नहीं थी उम्मीद : सरफराज
इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में अपने प्रदर्शन से प्रभावित करने वाले रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) के सबसे युवा बल्लेबाज सरफराज खान का कहना है कि उन्हें क्रिस गेल, ए.बी. डीविलियर्स और विराट कोहली जैसे विध्वंसक बल्लेबाजों के बीच अंतिम 11 में जगह मिलने का यकीन नहीं था और नम्बर छह की बेहद महत्वपूर्ण स्थान पर मौका दिये जाने से उनका आत्मविश्वास सातवें आसमान पर है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड