शनिवार, 01 अगस्त, 2015 | 04:58 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 23 रुपये 50 पैसे हुआ सस्ता, पेट्रोल और डीजल के दाम भी घटे लीबिया में आतंकी संगठन IS के चंगुल से 2 भारतीय रिहा, बाकी 2 को छुड़ाने की कोशिश जारी याकूब के जनाजे में शामिल लोगों को त्रिपुरा के गवर्नर ने बताया आतंकी उपभोक्ताओं को रुलाने लगा प्याज, खुदरा भाव 50 रुपये पहुंचा  कांग्रेस MLA उस्मान मजीद बोले, मुंबई बम ब्लास्ट के आरोपी टाइगर मेमन से कई बार की मुलाकात FTII छात्रों को राहुल गांधी का समर्थन, राहुल ने कहा, अपनी इच्छा छात्रों पर ना थोपे सरकार राज्यसभा में विपक्षी दलों ने किया हंगामा, कार्यवाही हुई बाधित लोकसभा में विपक्ष ने लगाए सरकार के खिलाफ नारे, भाजपा सांसद भी नहीं रहे पीछे हाईकोर्ट के आदेश पर मानसून सत्र में बैठेंगे ये चार विधायक अमेरिकी लड़की के साथ छेड़खानी करने वाला टैक्सी चालक गिरफ्तार
लीक से हटकर
First Published:26-12-2012 09:28:09 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

उनके काम को लेकर मीन-मेख निकालने का एक माहौल-सा बन गया था। सभी कहते, जो काम सीधे रास्ते हो सकता है, उसे वह जटिल बनाकर करते हैं। ऐसे दौर भी आए कि बॉस से उन्हें प्रोजेक्ट मिलने बंद हो गए। आखिर मुख्यालय से आए एक पत्र ने सब कुछ बदल दिया।

पत्र में उनके काम की तारीफ थी और ब्योरेवार बताया गया था कि कंपनी को आगे क्या-क्या फायदे हो सकते हैं। दरअसल, गैर पारंपरिक कामों का विरोध होना अस्वाभाविक नहीं। विरोधी स्वर उठते रहते हैं और यदि आप सही हैं, तो आपका अपने काम में जुटे रहना जरूरी है।

पंडित रवि शंकर ने जब बैंड ग्रुप बीटल्स के जॉर्ज हैरिसन और फिर येहुदी मेनहिन के साथ जुगलबंदी की, तो आलोचकों ने उन्हें अपरिपक्व करार दिया। पूरब और पश्चिम के संगीत के उस संगम का मजाक उड़ाया गया, लेकिन आखिरकार इसे मान्यता मिली और एक समय के आलोचकों ने भी उनके बनाए मार्ग पर बढ़ने में भलाई समझी।

यह तय समझिए कि आप लीक से हटे नहीं कि अवरोध पैदा किए जाएंगे, आपका सामना भृकुटि ताने, नथुने फुलाए लोगों से होगा। ऐसे लोगों से होगा, जो आपके अस्तित्व को चुनौती देंगे, लेकिन आप डटे रहे, तो स्थितियां कुछ ठहराव के बाद बदल जाएंगी। तो क्यों नहीं हम और आप लीक से हटकर काम करते हैं?

दरअसल, इसके बाद होने वाले विरोध को लेकर हम डरते हैं, लेकिन मानसिक रवैये में थोड़ा बदलाव कर लें। ऐसा करना आसान भी है और जरूरी भी। विचारक विलियम जोन्स कहते हैं कि हमारी सबसे महान खोज है कि हम अपना मानसिक रवैया बदलकर इंसान की जिंदगी बदल सकते हैं। जोन्स ने साधारण शब्दों में एक असाधारण बात कही। पिकासो ने कहा कि किसी काम को करने के जितने अधिक तरीके आपने विकसित किए, आप उतने ही असाधारण हैं। आगे से आपको लीक के रास्ते ललचाएं, तो पिकासो की बात याद रखें।
नीरज कुमार तिवारी  

 

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingटीम इंडिया के कोच बनने के इच्छुक स्टुअर्ट लॉ
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड आगामी दक्षिण अफ्रीकी दौरे से पहले टीम इंडिया के नये कोच को चुनने को लेकर पूरी तरह आश्वस्त है और इसी बीच पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी तथा ऑस्ट्रेलिया-ए के सहायक कोच स्टुअर्ट लॉ ने इस जिम्मेदारी भरे पद को संभालने के लिए अपनी ओर से इच्छा जाहिर की है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड