शनिवार, 22 नवम्बर, 2014 | 14:18 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मुलायम : गरीबों को भी ऐसा सम्मान देंगेआज से कई योजनाओं की शुरुआत। विधवाओं का रोजगार देना है : मुलायममुलायम सिंह ने अपने 75वें जन्मदिन पर कहा, जिंदगी का सबसे बड़ा सम्मान मिलामोदी : देखते ही देखते हिन्दुस्तान की रौनक बदल जायेगीस्किल इंडिया, डिजिटल इंडिया का काम कश्मीर से शुरू होगा : मोदीमोदी : जम्मू कश्मीर को किसी परिवार के यहां गिरवी नहीं रखा जायेगाजम्मू कश्मीर के सपने किसी के आश्रित नहीं होंगे : मोदीमोदी : आपके प्यार को विकास करके लौटाऊंगापूर्ण बहुमत की सरकार बनानी है : मोदीमोदी : जम्मू कश्मीर के लोगों दोनों परिवारों का सज़ा दोगे तभी वो सुधरेंगेसारी दुनिया को कश्मीर का नज़ारा दिखाना है : मोदीमोदी : बिना भेद-भाव के सबका साथ, सबका विकास के नारे के साथ चलेंगेराजनीति को संप्रदाय से मत जोड़िये, कश्मीरी कश्मीरी होता है : मोदीमोदी : पैसों की कभी कमी नहीं होने देंगेकच्छ का विकास हुआ, कश्मीर का भी होगा : मोदीकश्मीर में जब भी आया नई योजनायें लेकर आया :मोदीमोदी :चेनाब पास में है लेकिन पीने का पानी नहीं मिलता, इसके लिये कौन जिम्मेदार हैअकेले जम्मू-कश्मीर की ताकत से पूरे देश का अंधेरा मिट सकता है :मोदीमोदी :वादियों में फिर शूटिंग कराऊंगा, यहां के लोगों को रोज़गार मिलना चाहियेआपके दुख को बांटने के लिये बिना सोचे एक पल में आ गया :मोदीमोदी : कश्मीर में दो परिवारों की 5-5 सालों में माल लूटने की मिलीभगत हैसिर्फ दो ही परिवार का राज चलेगा क्या, यहां के नौजवानों में नूर नहीं है क्या : मोदीमोदी : गुजरात से हर महीने कई सैलानी कश्मीर आते हैं, यहां इमानदारी का माहौल हैपीएम बनने के बाद जुलाई से हर रोज़ कश्मार आ रहा हूं : मोदीमोदी : बहुत हो चुका भाई-बहनों कब तक लोगों को परेशान होते देखेंगेजम्मू कश्मीर के लोग विकास की बात सुनना चाहते हैं : मोदीमोदी : बीते 10 साल में कश्मीर की हालत खराब हुई हैअटल जी के काम को पूरा करूंगा : मोदीकश्मीर पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, कहा कश्मीर के साथ मेरा लगाव है
खबरदार.., अब भूखा नहीं रहने दिया जाएगा
के पी सक्सेना First Published:25-12-12 08:01 PM

गोमती के किनारे से लड़ रहे पेच की कनकइया जैसे मौलाना मोहल्ले के बसंत लाल से उलझे पड़े थे। लताड़कर बोले, ‘लाला, मुल्क में वालमार्ट आए या बवालमार्ट आए, हमें तो सौदा- सुलुफ फत्ते खान की दुकान से ही खरीदना है। विदेशी अड्डे पर से खरीदा हुआ अंडा न जाने किस जानवर का हो? हम तो उसूल वाले लोग हैं। यह थोड़ा ही कि बाहर-बाहर विरोध में चिल्लाए जा रहे हैं.., और अंदर ही अंदर सपोर्ट भी कर दिया, चुपके से। सरकार ने सब्सिडी के गैस सिलेंडर (वोट के लालच में) छह से नौ कर दिए। जब पड़ी फटकार चुनाव आयोग की, तो फिर जाकर वही छह हो गए। अब भई बाकी सब तो अंदर की बात है। ऐसी कबाड़ राजनीति हमारे अब्बा के वालिद के फादर तक ने न देखी।’

मुंह में पान कुलकुलाकर मौलाना आगे बोले,‘जाड़ा पीक पर जा रहा है। न्यूजें भी कोहरे जैसी चारों तरफ छा रही हैं। छपा हैगा कि ‘ताकि कोई परिवार भूखा न रहे।’ नहीं समझे? अरे भई, अपनी नेता सोनिया गांधीजी ने फरमाया है कि जल्द ही संसद में ऐसा विधेयक लाया जाएगा कि देश का कोई परिवार भूखा न रहे। यानी जब तक विधेयक नहीं आता और पारित नहीं हो लेता, सिर्फ तब तक के लिए परिवारों को भूखे रहने की छूट है। विधेयक के पारित हो चुकने और कानून बनने के बाद अगर कोई परिवार भूखा रहता है, तो उसे सख्त से सख्त सजा मिलेगी और शायद जबर्दस्ती खाना खिलाया जाएगा। भाई मियां, जब-जब चुनाव नजदीक आया, अगलों ने कील ठोक दी कि हम किसी भी परिवार को भूखा नहीं मरने देंगे। ..चुनाव के बाद मर  लो चाहे।’

बिना सुपारी-तंबाकू का एक पान मुङो थमाकर वह बोले, ‘गरीब की भूख से खेलना इसे ही कहते हैं, जनाब। आजादी से लेकर आज तक कितने ही बेसहारा परिवार भूखों मर लिए और गद्दीनशीन लोग गाल बजाते रह गए। एक बार करीब से देख तो लिया होता कि भूख क्या होती है और निर्धन परिवार क्यों भूखे रहते हैं। पर जिसे सिर्फ सत्ता की भूख है मियां, वह रोटी न मिलने का दर्द नहीं समझ सकता, और न भूखे लोगों की पीड़ा। बस विधेयक लाओ और संसद में चिहाड़ मचाओ। दैट्स ऑल ऐंड..जय हिंद।’

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ