शनिवार, 31 जनवरी, 2015 | 17:05 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
जहां झोपड़ी होगी वहीं पक्का मकान बनाकर दिया जाएगा : मोदीगरीबों की चिंता नारेबाजी से दूर नहीं होती, काम करने से होती है : मोदीगैस की सब्सिडी कहां जाए उसका उपाय नहीं था, हमने 9 करोड़ से ज्यादा खाते खोले: मोदीकिरण बेदी नई ऊचांइयों पर लेकर जाएंगी: मोदीमैं बयानबाजी कम करता हूं लेकिन ऐसे काम करता हूं कि भ्रष्टाचार पर नकेल लगे: मोदीदिल्ली और हरियाणा में कांग्रेस सरकार होने के बावजूद पानी की दिक्कत होती थी: मोदीपिछली बार हमारी कुर्सी थोड़ी कम रह गई, लेकिन हमने सौदेबाजी नहीं की: मोदीएक बार झूठ चल सकता है लेकिन बार-बार नहीं : मोदीजो लोग बड़ी-बड़ी बातें करते हैं उनका ट्रेक रिकॉर्ड भी देख लीजिए : मोदीलोकसभा चुनाव में जमानत जब्त होने का रिकॉर्ड बना, फिर भी भ्रम फैलाते हैं : मोदीजनता एक बार गलती कर सकती है बार बार नहीं : मोदीवोट लेने वालों ने पीट पर छुरा घोंपा : मोदी15 साल से दिल्ली ने बर्बादी देखी है, मैं बर्बादी दूर करने आया हूं : मोदीमुझे सेवा करने का मौका चाहिए : मोदीमैं दिल्ली इसलिए आया हूं क्यूंकि आपने मुझे बुलाया है : मोदीदिल्ली से दुनिया में हिंदुस्तान की पहचान होती है : मोदीइस चुनाव से तय होगा कि दुनिया में भारत की छवि कैसी हो : मोदीकृष्णा नगर सीट से दिल्ली को नया सीएम मिलने वाला है : मोदीबीजेपी विजयश्री की ओर तेजी से बढ़ रही है : मोदीदिल्ली के कड़कड़डूमा में मोदी की रैलीहापुड़: आधे घंटे तक चली मुठभेड़ में 10 युवकों ने तेंदुए को मार गिराया, वन विभाग रहा नाकाममुरादाबाद के रेलवे माल गोदाम में मालगाड़ी के दो वैगन पटरी से उतरे। एडीआरएम ने दिए जांच के आदेश। वैगन सीमेंट की बोरियां से लदी थे।अमरोहा: जोया से संभल जा रही बस डब्ल्यूटीएम कालेज के पास पलटी। घायलों को जिला अस्पताल पहुंचाना शुरु। अब तक तीस घायल अस्पताल पहुंचे। ट्रक को ओवरटेक करते समय हुआ हादसा।
खबरदार.., अब भूखा नहीं रहने दिया जाएगा
के पी सक्सेना First Published:25-12-12 08:01 PM

गोमती के किनारे से लड़ रहे पेच की कनकइया जैसे मौलाना मोहल्ले के बसंत लाल से उलझे पड़े थे। लताड़कर बोले, ‘लाला, मुल्क में वालमार्ट आए या बवालमार्ट आए, हमें तो सौदा- सुलुफ फत्ते खान की दुकान से ही खरीदना है। विदेशी अड्डे पर से खरीदा हुआ अंडा न जाने किस जानवर का हो? हम तो उसूल वाले लोग हैं। यह थोड़ा ही कि बाहर-बाहर विरोध में चिल्लाए जा रहे हैं.., और अंदर ही अंदर सपोर्ट भी कर दिया, चुपके से। सरकार ने सब्सिडी के गैस सिलेंडर (वोट के लालच में) छह से नौ कर दिए। जब पड़ी फटकार चुनाव आयोग की, तो फिर जाकर वही छह हो गए। अब भई बाकी सब तो अंदर की बात है। ऐसी कबाड़ राजनीति हमारे अब्बा के वालिद के फादर तक ने न देखी।’

मुंह में पान कुलकुलाकर मौलाना आगे बोले,‘जाड़ा पीक पर जा रहा है। न्यूजें भी कोहरे जैसी चारों तरफ छा रही हैं। छपा हैगा कि ‘ताकि कोई परिवार भूखा न रहे।’ नहीं समझे? अरे भई, अपनी नेता सोनिया गांधीजी ने फरमाया है कि जल्द ही संसद में ऐसा विधेयक लाया जाएगा कि देश का कोई परिवार भूखा न रहे। यानी जब तक विधेयक नहीं आता और पारित नहीं हो लेता, सिर्फ तब तक के लिए परिवारों को भूखे रहने की छूट है। विधेयक के पारित हो चुकने और कानून बनने के बाद अगर कोई परिवार भूखा रहता है, तो उसे सख्त से सख्त सजा मिलेगी और शायद जबर्दस्ती खाना खिलाया जाएगा। भाई मियां, जब-जब चुनाव नजदीक आया, अगलों ने कील ठोक दी कि हम किसी भी परिवार को भूखा नहीं मरने देंगे। ..चुनाव के बाद मर  लो चाहे।’

बिना सुपारी-तंबाकू का एक पान मुङो थमाकर वह बोले, ‘गरीब की भूख से खेलना इसे ही कहते हैं, जनाब। आजादी से लेकर आज तक कितने ही बेसहारा परिवार भूखों मर लिए और गद्दीनशीन लोग गाल बजाते रह गए। एक बार करीब से देख तो लिया होता कि भूख क्या होती है और निर्धन परिवार क्यों भूखे रहते हैं। पर जिसे सिर्फ सत्ता की भूख है मियां, वह रोटी न मिलने का दर्द नहीं समझ सकता, और न भूखे लोगों की पीड़ा। बस विधेयक लाओ और संसद में चिहाड़ मचाओ। दैट्स ऑल ऐंड..जय हिंद।’

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड