मंगलवार, 23 दिसम्बर, 2014 | 09:09 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
झारखंड: दुमका से हेमंत सोरेन पीछे चल रहे हैंझारखंड: भाजपा-27, झारखंड मुक्ति मोर्चा-9, कांग्रेस-2, झारखंड विकास मोर्चा-2 और अन्य-2 सीटों पर आगेजम्मू कश्मीर : भाजपा-10, पीडीपी-15, एनसी-6, कांग्रेस-1 और अन्य-1 सीट से आगेजम्मू कश्मीर : भाजपा के प्रत्याशी रमन भल्ला गांधीनगर से आगे चल रहे हैंजम्मू कश्मीर : उमर अब्दुल्लाह सोनवार और बीरवाह सीट से आगे चल रहे हैंजम्मू कश्मीर : भाजपा-8, पीडीपी-12, एनसी-3 और कांग्रेस-1 सीट से आगेझारखंड: मधु कोड़ा मझगांव से आगे चल रहे हैंझारखंड: बाबूलाल मरांडी धनवार से आगे चल रहे हैंजमशेदपुर पश्चिमी से कांग्रेस प्रत्याशी एवं मंत्री बन्ना गुप्ता पिता से आशीर्वाद लेकर और मंदिर में माथा टेककर मतगणना स्थल को-ऑपरेटिव कॉलेज की ओर हुए रवानाजम्मू कश्मीर : भाजपा-7, पीडीपी-10 और एनसी-1 सीटों से आगेइचागढ़ से भाजपा के साधूचराब महातो पहले रुझान में आगे चल रहे हैं, यहां मतदान से पहले हिंसा हुई थीझारखंड : घरवा में मतगणना केंद्र के बाहर कर्मचारियों की लंबी कतार लगी हैझारखंड : सुबह 8.30 बजे देवघर में मतगणना शुरू होने की संभावनाझारखंड : धनबाद में मतगणनाकर्मी प्रभात कुमार नहीं पहुंचे मतगणना केंद्र, प्रशासन में खोजबीन शुरू, झरिया विधानसभा में थी ड्यूटीझारखंड : धनबाद, निरसा और टुंडी में मतगणना शुरूझारखंड का पहला रुझान भाजपा के पक्ष मेंझारखंड : सबसे पहले पोस्टल बैलेट की गणना हो रही है, इसके बाद ईवीएम से मतगणना शुरू होगीझारखंड : पूर्वी सिंहभूम जिले की सभी छह विधानसभा सीटों के लिए मतगणना को-ऑपरेटिव कॉलेज परिसर में शुरू हो गई हैझारखंड और जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव के नतीजों का पहला रुझान कुछ देर मेंझारखंड और जम्मू कश्मीर में हुए पांच चरणों के मतदान के बाद आज वोटों की गिनती शुरूझारखंड : घरवा में मतगणना केंद्र के बाहर कर्मचारियों की लंबी कतार लगी हैझारखंड के सभी मतगणना कर्मचारी मतगणना केंद्र पर पहुंच चुके हैंझारखंड : धनबाद सीट से भाजपा प्रत्याशी राज सिन्हा पहुंचे मतगणना केंद्रझारखंड : बोकारो में शुरू हुई मतगणना की तैयारीझारखंड के सभी महागणना केन्द्र पर सुरक्षाकर्मी तैनातश्रीनगर जिले की आठ विधानसभा सीटों के लिए शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन कॉम्प्लेक्स में वोटों की गिनती की जाएगी।जम्मू कश्मीर में मतगणना में कोई अवरोध पैदा ना हो इसके लिए सरकार ने कुछ इलाकों में धारा 144 के तहत प्रतिबंध लगाया है।सुरक्षा की दृष्टि से संवेदनशील माने जाने वाले जम्मू-कश्मीर में मतगणना स्थलों की सुरक्षा के कड़े इंतजाम कर दिए गए हैं।जम्मू कश्मीर में 87 विधानसभा सीटों के लिए मतगणना होगी। राज्य में 28 महिलाओं समेत 831 प्रत्याशी मैदान में हैं।झारखंड में मतगणना का काम 24 केंद्रों में किया जाएगा।81 विधानसभा सीट वाले झारखंड में 16 महिलाओं सहित कुल 208 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला होगा।मतगणना स्थलों पर कड़ी सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। मतगणना को लेकर प्रत्याशियों की धड़कनें बढ़ गई हैं।झारखंड में विधानसभा की 81 और जम्मू-कश्मीर में 87 सीटें हैंझारखंड में मतदान केन्द्रों के बाहर सुबह से ही सभी पार्टी के कार्यकर्ता जुटेमतगणना केन्द्रों पर तैयारियों आखिरी दौर मेंझारखंड और जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव के नतीजों के रुझान जानिए हिन्दुस्तान के साथ
वर्गीज कुरियन पर फख्र कीजिए
खुशवंत सिंह, वरिष्ठ लेखक और पत्रकार First Published:21-12-12 08:14 PM

मैं जिन दिनों बंबई में था, अक्सर वर्गीज कुरियन के पास चला जाता था। वह अपनी बीवी के साथ आनंद की आनंद मिल्क कॉलोनी में रहते थे। मैं खासा हैरान था, उन्होंने जो भी किया था। किसान अपनी गाय-भैंसों का बचा हुआ दूध उनके पास बेचने आते थे। कुरियन ने ऐसा सिस्टम बनाया था, ताकि ज्यादा मुनाफा उन्हें मिल सके। एक मायने में उन्होंने वहां दूध की नदियां बहा दी थीं। उनकी वजह से यह देश दुनिया का सबसे ज्यादा दूध का उत्पादन करने वाला बन गया था। मजेदार बात यह थी कि उसमें सरकार का कोई हाथ नहीं था। कुरियन जो भी कर रहे थे, उस पर उन्हें फा था। हम सब को भी उन पर फा होना चाहिए। मुझे हमेशा लगता रहा है कि उन्हें भारत रत्न मिलना चाहिए था। कुरियन के जाने के बाद भी वहां उनका काम जिंदा है। उनकी बीवी उस काम को आगे बढ़ाने में लगी हैं। सरकार को उनके काम का सम्मान करना चाहिए।

पंडित रवि शंकर
एक दौर में मैंने पंडित रवि शंकर को बहुत नजदीक से देखा था। यह मेरे ऑल इंडिया रेडियो के दिनों की बात है। मैं दो साल वहां रहा और तब उनसे अच्छा-खासा दोस्ताना हो गया था। उस वक्त वह शीला भरत राम को ट्य़ूशन भी देते थे। मैं और मेरी बीवी शीलाजी के दोस्त थे। और अक्सर उनके घर आया-जाया करते थे। अजीब बात है, रेडियो के पुरुष कर्मियों के बीच रवि शंकर बेहद लोकप्रिय थे। वे उनके इंतजार में बिछे रहते थे। उसका कारण सितार ही नहीं था। सितार के तो महान कलाकार वह थे ही। दरअसल, वह अजीबोगरीब किस्से सुनाने में भी उस्ताद थे। उनमें फूहड़ किस्से भी होते थे। उन्हें सुन-सुनकर रेडियो के लोग खूब मगन होते थे। मैं नहीं जानता कि उन्होंने बाद में भी किस्से सुनाना जारी रखा या नहीं। धीरे-धीरे वह दुनिया के महान संगीतकार हो गए थे। भारत रत्न से भी उन्हें नवाजा गया। पता नहीं, उन्हें किस्से सुनाने को वैसे लोग विदेश में मिले या नहीं। शायद वह अपने देश के खराब माहौल को पचा नहीं पाए। और तय किया कि अपने आखिरी दिन कैलिफोर्निया में ही गुजारेंगे।

डॉक्टर
कुछ दिन पहले की बात है। मेरे पेट में दर्द हो रहा था। मैंने अपने नौकर को पड़ोस के अपार्टमेंट में रहने वाले डॉक्टर आईपीएस कालरा को बुलाने भेजा। वह पांच मिनट में चले आए। मेरा ब्लड प्रेशर लेने के बाद उन्होंने पूछा, ‘पॉटी ठीक से आती है?’ मैंने कहा, ‘ठीक से नहीं आती।’ वह अपनी क्लीनिक गए और दवाइयां दे दीं। मेरा दर्द कम हो गया। उसके बाद वह आते-जाते रहे। हर बार यही पूछते कि पॉटी ठीक से आती है? और मेरा जवाब भी वही होता। फिर वह दवाई बदल देते। मुझे ऐसा महसूस होता है कि डॉक्टर को मरीज के कहने पर नहीं चलना चाहिए। उसे सही सलाह देनी चाहिए। यों अपनी पुरानी कहावत बिल्कुल सही है, ‘इलाज से बेहतर है बचाव।’
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

 

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड