सोमवार, 31 अगस्त, 2015 | 10:14 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
बिहार: पूर्व मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोइदुर रहमान का रविवार देर रात निधन, अररिया से दो बार रह चुके हैं विधायक, कुछ दिनों से चल रहे थे बीमार।दिल्ली के मुखर्जी नगर में रात दो बजे स्कूटी और बाइक की टककर में दो की मौत, तीन गंभीर रूप से घायल।
क्षमा बड़न को चाहिए, छोटन को गुजरात
उर्मिल कुमार थपलियाल First Published:21-12-2012 08:13:57 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

अहा, क्या सीन है। थोड़ा मीठा, थोड़ा कड़वा, बाकी नमकीन है। गुजरात में लय और ऊंचे पहाड़ों वाले हिमाचल में तुषारापात। धन्य और अधन्य, दोनों गुजरात। जैसे इक्कीस दिसम्बर छोटा दिन वैसे पच्चीस दिसम्बर बड़ा दिन। माया कलेन्डर और मुलायम धूप की संसदीय कहानी एक तरफ। दोनों जगह सवारों की जीत एक तरफ और घोड़ियों की हार एक तरफ। चुनावी क्रिकेट में एक तरफ सेंचुरी तो दूसरी तरफ कैच। बराबरी में छूट गया मैच। कहा भी है कि- दम लगा गुजरात में, दिल्ली की किल्ली हिल गई। लेकिन हिमाचल में सभी चूहों को बिल्ली मिल गई। दोनों जगह उम्मीदवार जीते, पार्टी हारी। एक चपत लगी हलकी, मगर दूसरी करारी।

मतदान के दिनों में मुझे एक फुदकती हुई युवती मिली। उसने हंसकर मुझे उंगली का निशान दिखाया और गाना गाने लगी कि- पिया का घर प्यारा लगे। मैंने पूछा- पहली बार वोट दिया है क्या। वो बोली- हां, पहली बार शादी जो कर रही हूं। मैंने कहा- ये बताओ तुमने पार्टी देखकर वोट दिया या उम्मीदवार देखकर। वो तड़ से बोली- उम्मीदवार देखकर। मैंने पूछा- क्यूं। वो फटाक से बोली- वो मेरा  मंगेतर है।

ये तो तय है कि नरेंद्र मोदी भले ही अब ज्यादातर दिल्ली में मिलें, मगर अपने धूमल तो अब गूगल में भी मिलने से रहे। हनीमून में हिमपात तो भला लगता है पर तुषारापात नहीं सुहाता। सुना है दिल्ली का रास्ता केशूभाई पटेल के घर से होकर जाता है। सुबह-सुबह सपने में मोदी मिले, पूछा- क्या आप अब दिल्ली जाएंगे? चश्मा साफ करते हुए वह बोले- दिल्ली भी अब दूर नहीं है। अब मोदी मजबूर नहीं है। सारे बंदर मौज मनावें। जंगल में लंगूर नहीं है। दिल्ली-फिल्ली है क्या? मैं- रेप की राजधानी। बोले- ये मेरी प्रॉब्लम नहीं है। ये क्या है, नियति की उलटबांसी। पीड़िता को पीड़ा की उम्रकैद, दुराचारी को दो बार फांसी। इतना सुनते ही मेरी नींद खुल गई।

और अब सुनिए एक कांग्रेसी मां-बेटे का संवाद। मां- भाग्य भी इतना क्रूर नहीं है। बेटा- चूल्हा है तंदूर नहीं है। मां- ले आटे का लड्डू खा ले। बेटा- क्यूं अम्मा। मां- घर में मोतीचूर नहीं है।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingकोलंबो टेस्ट: भारत को 132 रनों की बढ़त
इशांत शर्मा ( 54 रन पर पांच विकेट) की घातक गेंदबाजी और इससे पहले ओपनर चेतेश्वर पुजारा (नाबाद 145) रन के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने यहां तीसरे और निर्णायक टेस्ट मैच के तीसरे दिन रविवार को अपना शिकंजा कसते हुये मेजबान श्रीलंका के खिलाफ 111 रन की महत्वपूर्ण बढ़त हासिल कर ली।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

सीसीटीवी कैमरों का जमाना है...
पिता: एक समय था, जब मैं 10 रुपए में किराना, दूध, सब्जी और नाश्ता ले आता था..
बेटा: अब संभव नहीं है, पापा अब वहां सीसीटीवी कैमरे लगे होते हैं।