शनिवार, 01 अगस्त, 2015 | 02:56 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 23 रुपये 50 पैसे हुआ सस्ता, पेट्रोल और डीजल के दाम भी घटे लीबिया में आतंकी संगठन IS के चंगुल से 2 भारतीय रिहा, बाकी 2 को छुड़ाने की कोशिश जारी याकूब के जनाजे में शामिल लोगों को त्रिपुरा के गवर्नर ने बताया आतंकी उपभोक्ताओं को रुलाने लगा प्याज, खुदरा भाव 50 रुपये पहुंचा  कांग्रेस MLA उस्मान मजीद बोले, मुंबई बम ब्लास्ट के आरोपी टाइगर मेमन से कई बार की मुलाकात FTII छात्रों को राहुल गांधी का समर्थन, राहुल ने कहा, अपनी इच्छा छात्रों पर ना थोपे सरकार राज्यसभा में विपक्षी दलों ने किया हंगामा, कार्यवाही हुई बाधित लोकसभा में विपक्ष ने लगाए सरकार के खिलाफ नारे, भाजपा सांसद भी नहीं रहे पीछे हाईकोर्ट के आदेश पर मानसून सत्र में बैठेंगे ये चार विधायक अमेरिकी लड़की के साथ छेड़खानी करने वाला टैक्सी चालक गिरफ्तार
इच्छाशक्ति के आगे
राजीव कटारा First Published:21-12-2012 08:13:11 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

सोचते और परेशान होते रहे वह। आखिर कहां कमी रह गई। उन्होंने खूब काम किया था। इच्छाशक्ति की कोई कमी नहीं थी। फिर भी काम नहीं हो पाया। ‘कभी-कभी इच्छाशक्ति ही काफी नहीं होती है। उससे भी आगे जाने की जरूरत होती है। अपनी इच्छा की औरों के साथ हिस्सेदारी करनी पड़ती है। तब उसका वजन बढ़ता है।’ यह कहना है डॉ. मैग सेलिग का। वह आदत में बदलाव की विशेषज्ञ मानी जाती हैं। वह फ्लोरसेंट वैली के सेंट लुई कम्युनिटी कॉलेज में काउंसलिंग की प्रोफेसर हैं। उनकी बेहद चर्चित किताब है, ‘चेंजपावर: 37 सीक्रेट्स टू हैबिट चेंज सक्सेस।’
 यह अक्सर हमारे साथ होता है। जब कुछ गड़बड़ होती है, तो हम अपनी इच्छाशक्ति पर ही सोचने लगते हैं। हमें लगता है कि शायद उसीमें कोई कमी रह गई। लेकिन कभी-कभी ऐसा भी होता है कि वह काम हमारे अकेले के बस में नहीं होता। हम कोशिश करते हैं। कामयाबी नहीं मिलती।

इच्छाशक्ति भरपूर होती है। फिर भी काम नहीं हो पाता। तब हमें उस पर फिर से सोच- विचार की जरूरत होती है। हम जब इस दौर से गुजरते हैं, तब हमें अपनी इच्छा में औरों को शामिल करने की जरूरत होती है। उस इच्छा में आपके दोस्त हो सकते हैं। आपके साथी हो सकते हैं। जब हम अपने काम में औरों को जुटाते हैं, तो वह एक टीम वर्क जैसा हो जाता है। उसमें कई तरह के दिमागों का इस्तेमाल होता है। और जो काम अकेले नहीं हो पाता, वह किसीके जुड़ते ही खट से हो जाता है। मैग यही कहना चाहती हैं कि अपनी इच्छाओं में औरों को जोड़ लीजिए। तब वह काम अकेले का नहीं रह जाएगा। फिर कारवां बढ़ता ही जाएगा। यों भी इच्छाशक्ति का यह मतलब तो नहीं कि आप अकेले ही किसी काम को करेंगे। अपनी इच्छाशक्ति से कहीं ज्यादा जरूरी होती है, उस काम को करने की इच्छा।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingटीम इंडिया के कोच बनने के इच्छुक स्टुअर्ट लॉ
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड आगामी दक्षिण अफ्रीकी दौरे से पहले टीम इंडिया के नये कोच को चुनने को लेकर पूरी तरह आश्वस्त है और इसी बीच पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी तथा ऑस्ट्रेलिया-ए के सहायक कोच स्टुअर्ट लॉ ने इस जिम्मेदारी भरे पद को संभालने के लिए अपनी ओर से इच्छा जाहिर की है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड