सोमवार, 31 अगस्त, 2015 | 18:46 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मुरादाबाद के काशीपुर बस स्टैंड पर अवैध वसूली को लेकर यूनियन वालों में मारपीट। पुलिस ने यूनियन अध्यक्ष को लिया हिरासत में। विरोध में बस चालकों ने की हड़ताल।जीआरपी सिपाही बनकर रेलवे स्टेशन पर यात्री को लूटपाट।जनता एक्सप्रेस में शाहजहांपुर से हरिद्वार जाते समय मुरादाबाद स्टेशन पर उतर गया था यात्री। यात्री शाहजहांपुर का रहने वाला।जीआरपी ने पीड़ित के बताए हुलिए के आधार पर डाली दबिश। प्लेटफार्म पांच पर धरे गए दोनों लुटेरे।इंद्राणी, संजीव और ड्राइवर को पुलिस हिरासत में भेजा गयामेरठ: दो दिन से लापता युवक की लाश गाजियाबाद के निवाड़ी में मिली, परिजनों का हंगामा
सीरीज हारकर टीम ने आलोचकों का मुंह बंद कर दिया
नीरज बधवार First Published:20-12-2012 07:15:39 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

आलोचना में अगर संयम न हो, तो मान सकते  हैं कि उसमें बदलाव की इच्छा कम और टांग खींचने की नीयत ज्यादा है और अगर आपकी ताकत को ही आप पर टोंट मारने में इस्तेमाल किया जाए, तो यह बात और भी साफ हो जाती है। मसलन भारतीय टीम अगर विदेशों में हारती है, तो यह उसकी कमजोरी नहीं, उसकी सीमा है। मगर ऐसी हर हार पर यह कहना कि भारतीय टीम तो हमेशा घर में ही जीतती है, उसे जान-बूझकर नीचा दिखाना है। अब अगर आप ऊंट से कहें कि भाई, तुम रेत पर तो अच्छा दौड़ लेते हा, मगर सड़क पर नहीं, तो ऐसा कहकर आप रेत पर दौड़ने की उसकी काबिलियत को तो कम आंक ही रहे हैं, साथ ही उसकी नीयत पर भी शक कर रहे हैं कि शायद वह सड़क पर दौड़ते समय कैजुअल हो जाता है। ऐसा ही कुछ भारतीय टीम के साथ भी हुआ है।

पिछले साल जुलाई में इंग्लैंड में चार-शून्य से हारे, तो आलोचकों ने कहा कि भारतीय टीम तो सिर्फ घर में जीतती है। नवंबर में वेस्टइंडीज को घर में हराया, तो कहा गया कि घर में तो तुम जीतते ही हो, ऑस्ट्रेलिया जाकर जीतो, तो मानें। टीम ऑस्ट्रेलिया गई और चार-शून्य से हार गई। आलोचक हंस-हंसकर लोटपोट हो गए। फिर इसी साल न्यूजीलैंड को जब हमने घर में हराया, तो आलोचक और जोर से हंसने लगे। इससे भारतीय टीम सदमे में आ गई। ‘चित भी मेरी, पट भी मेरी’ वाली आलोचना ने उसे हिलाकर रख दिया। उसे लगा कि जब उसकी आलोचना का सबसे बड़ा आधार ही उसकी ताकत है, तो क्यों न उस आधार को ही निकाल दिया जाए। टीम इंडिया ने वैसा ही किया।

28 साल बाद टीम इंडिया इंग्लैंड से अपने घर में भी हार गई। और उसने उन तमाम आलोचकों का मुंह बंद कर दिया, जो कहते नहीं थकते थे कि भारतीय टीम तो सिर्फ घर में ही जीतती है। और इसका फायदा यह होगा कि अब जब हम विदेश में जाकर हारेंगे, तो कोई यह नहीं कह पाएगा कि भारतीय टीम तो सिर्फ घर में जीतती है, बल्कि सभी यह कहकर नजरअंदाज कर देंगे कि अरे, इन्हें छोड़ो, ये तो घर पर भी  नहीं जीत पाते।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingभारत ने कसा शिकंजा, जीत से सिर्फ सात विकेट दूर
पुछल्ले बल्लेबाजों के उपयोगी योगदान से श्रीलंका के सामने बड़ा लक्ष्य रखने वाले भारत ने शुरू में ही तीन विकेट निकालकर तीसरे और अंतिम टेस्ट क्रिकेट मैच पर शिकंजा कसने के साथ श्रीलंकाई सरजमीं पर 22 साल बाद पहली टेस्ट सीरीज जीतने की तरफ मजबूत कदम बढ़ाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading