शनिवार, 04 जुलाई, 2015 | 22:33 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    यूपीएससी में बेटियों ने बाजी मारी, दिल्ली की इरा ने टॉप किया, लड़कों में बिहार का सुहर्ष अव्वल इलाहाबाद जंक्शन पर पटरी से उतरी मालगाड़ी, परिचालन ठप मुजफ्फरनगर: सड़क हादसे में दो बच्चों की मौत के बाद जमकर हुआ बवाल झारखंड: पटरी से उतरी मालगाड़ी, दो मरे, चार ट्रेनें रद्द अनूप चावला की हालत बिगड़ी, एयर एंबुलेंस से भेजा मेदांता अनंत विक्रम सिंह गिरफ्तार, अमेठी में भारी पुलिसबल तैनात आतंकी भटकल ने जेल से किया पत्नी को फोन, बताई गुप्त योजना, मचा हडकंप माफिया डॉन दाउद इब्राहिम ने लंदन में रामजेठमलानी को किया था फोन, सरेंडर करने की बात कही थी हेमा मालिनी को मिली अस्पताल से छुटटी, बेटी ईशा के साथ पहुंचीं मुंबई अब विश्वविद्यालयों में कोर्स का दस फीसदी ऑनलाइन पढ़ सकेंगे छात्र
मायने जीवन के
प्रवीण कुमार First Published:20-12-12 07:14 PM

जीने की तुमसे वजह मिल गई है, बड़ी बेवजह जिंदगी जा रही थी.. गाने पर अटक गए वे। खुद से पूछा कि तुम्हारे जीने की क्या वजह है? अंदर से कोई साफ जवाब नहीं आया। उन्हें आभास हुआ कि वह एक उद्देश्यहीन जीवन जी रहे हैं, जिसमें बस समय का बीतना ही शामिल है। लेकिन हमारे जीवन में एक अदद उद्देश्य होने की वजह से कितना बदलाव आ सकता है? जवाब है आमूलचूल। पैसा, करियर आदि चीजों से हटकर आप बस इतना ठान लें कि कुछ ऐसा कर गुजरेंगे जिसके पूरा होने के बाद आप शांति और तसल्ली के साथ मर पाएं, तो समझिए जीवन यात्रा ठीक रही। शांति और तसल्ली के लिए यह जरुरी नहीं कि आप कोई बड़ा काम ही करें। यह आपके दैनंदिन के काम भी हो सकते हैं। छोटे से छोटे काम जो आपको सुकूल दें।

रवींद्रनाथ टैगोर इस बिंदु पर दार्शनिक भाव से कहते हैं कि मनुष्य को चाहिए कि वह अपने जीवन को समय के किनारे पर पड़ी हुई ओस की भांति हलके हलके नाचने दे। यह नाच तभी हो सकता है जब आपका मन ओस की तरह ही हलका हो। आपके कर्म, विचार निर्मल हों। उनमें दूसरों के लिए जगह हो। सुभाष चंद्र बोस कहते हैं कि मनुष्य का जीवन इसलिए है कि वह अत्याचार के खिलाफ लड़े। जर्मन नाटककार बतरेल्त ब्रेख्त इसी बात को आगे बढ़ाते हुए अपनी कविता में कहते हैं ‘तुम्हारा उद्देश्य यह न हो कि तुम एक बेहतर इंसान बने, बल्कि ये हो कि तुम एक बेहतर समाज से विदा लो’।

सफल होना ही हर स्थिति में जरुरी नहीं। नाविक लारेंस को याद करें। ओलंपिक में नौका रेस के मुकाबले के दौरान वह एकाएक अपने घायल प्रतियोगी की मदद के लिए रुक गए। नतीजा यह हुआ कि वह रेस में सबसे पीछे रहे। लेकिन चूंकि उन्होंने जीतने की इच्छा से अधिक दूसरे के जीवन को महत्व दिया इसलिए उनके लिए सबसे अधिक तालियां बजी थीं।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingमैकलम ने खेली 158 रन की रिकॉर्ड पारी
न्यूजीलैंड के कप्तान ब्रैंडन मैकलम ने इंग्लिश ट्वेंटी 20 ब्लास्ट प्रतियोगिता में अपनी काउंटी टीम वॉरविकशायर के लिए मात्र 64 गेंदों में नाबाद 158 रन का ताबड़तोड़ स्कोर बनाने के साथ एक अनोखा रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड