शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 13:17 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मेरठ: दोस्तों के साथ आये युवा व्यापारी की चाकुओं से गोदकर हत्यारक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, अमित शाह से मिलने पहुंचे। 2.30 बजे रक्षा मंत्रालय की प्रेस कांफ्रेंस, OROP की घोषणा संभवउत्तराखंड: पिथौरागढ़ में शिक्षकों ने सम्मान समारोह का बहिष्कार कर सड़क पर भीख मांगी, चार माह से वेतन नहीं मिलने से नाराज हैं जूनियर हाईस्कूलों के शिक्षकहरियाणा के फरीदाबाद में 6 सितंबर से शुरु होगी मेट्रो, पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन, सीएम खट्टर ने की प्रेस कांफ्रेंस
संदेह की पहेली
लाजपत राय सभरवाल First Published:18-12-2012 10:06:22 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

संदेह एक अजीब कशमकश है। जिससे संदेह किया जाता है, उसके साथ रहना भी पड़ता है और जिसके साथ रहते हैं, उसे संदेह की दृष्टि से भी देखते है। अजीब-सी स्थिति होती है। संदेह कोई अविश्वास नहीं है। अविश्वास में किसी को मानने-अपनाने से साफ इनकार किया जाता है। संदेह पूरी तरह से नकारता भी तो नहीं है। इसे विश्वास भी कैसे कहें? संदेह से भरा मन भला मानता ही कब है? संदेह में मन न तो मानता है और न ही स्वीकारता है। संदेह कहता है कि ऐसा हो भी सकता है और नहीं भी। यह घड़ी के पेंडुलम के समान इधर-उधर डोलता रहता है, कहीं ठहरता नहीं। ठहर जाने पर तो संदेह रह भी नहीं जाता है। संदेह एक विचित्र मानसिक समस्या है, जिसमें परिणाम व निष्कर्ष का सर्वथा अभाव होता है। संदेह उपजता है, अपने ही मन के किसी कोने से और बढ़ते-विकसित होते हुए औरो में पसर जाता है।

सबसे पहले हम अपने आप पर संदेह करते हैं। हम अपने ही मन के अवसर पर या किसी से मिलते समय यह भरोसा नहीं रहता कि हमारा मन अपने विचारों पर अडिग रहेगा, डिगेगा नहीं। इस उधेड़-बुन में ही संदेह का बीज पड़ जाता है, जिसे हम सतत पोषण देते रहते हैं और यह हमारे व्यक्तित्व का अखंड व अविभाज्य अंग बन जाता है।

संदेह का समाधान है? हम संदेह की शुरुआत बुरे से करते हैं। संदेह अच्छे से प्रारंभ करना चाहिए। कई ऋषियों ने भी संदेह किया था। उन्होंने ईश्वर पर संदेह किया था। दार्शनिक दे कार्ते ने अपना दर्शन संदेह से ही प्रारंभ किया है। उनके अनुसार, यदि हम संदेह करते हैं, तो अपने अस्तित्व को स्वीकारते हैं। संदेह करने वाला कोई है, जो किसी पर संदेह कर रहा है। अगर हम नहीं हैं, तो संदेह किस पर करें, किसका करें? संदेह करने वाला अनायास स्वयं को स्वीकारता है और साथ ही उसे भी मानता है कि कोई है, भले ही वह अस्पष्ट व धुंधला है।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingटीचर्स डे पर तेंदुलकर ने आचरेकर सर को ऐसे किया 'सलाम'
मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के नाम इंटरनेशनल क्रिकेट के बल्लेबाजी के लगभग सभी बड़े रिकॉर्ड्स दर्ज हैं। तेंदुलकर को क्रिकेट के भगवान तक का दर्जा दिया गया है, लेकिन इन सबके पीछे एक इंसान का सबसे बड़ा योगदान रहा है, तेंदुलकर के गुरु रमाकांत आचरेकर।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।