शनिवार, 04 जुलाई, 2015 | 20:51 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    यूपीएससी में बेटियों ने बाजी मारी, दिल्ली की इरा ने टॉप किया, लड़कों में बिहार का सुहर्ष अव्वल इलाहाबाद जंक्शन पर पटरी से उतरी मालगाड़ी, परिचालन ठप मुजफ्फरनगर: सड़क हादसे में दो बच्चों की मौत के बाद जमकर हुआ बवाल झारखंड: पटरी से उतरी मालगाड़ी, दो मरे, चार ट्रेनें रद्द अनूप चावला की हालत बिगड़ी, एयर एंबुलेंस से भेजा मेदांता अनंत विक्रम सिंह गिरफ्तार, अमेठी में भारी पुलिसबल तैनात आतंकी भटकल ने जेल से किया पत्नी को फोन, बताई गुप्त योजना, मचा हडकंप माफिया डॉन दाउद इब्राहिम ने लंदन में रामजेठमलानी को किया था फोन, सरेंडर करने की बात कही थी हेमा मालिनी को मिली अस्पताल से छुटटी, बेटी ईशा के साथ पहुंचीं मुंबई अब विश्वविद्यालयों में कोर्स का दस फीसदी ऑनलाइन पढ़ सकेंगे छात्र
मित्रों के लिए
नीरज कुमार तिवारी First Published:13-12-12 09:56 PM

कौन है जिसे मित्रता प्यारी नहीं। लेकिन गिनने बैठें, तो आपको लगेगा कि आपके शुभचिंतक उतने नहीं, जितना आपका बुरा चाहने वाले हैं। आपके करीब रहने वाले लोगों, रिश्तेदारों में भी आपको ऐसे लोग मिल जाएंगे, जो आपकी तारीफ पर कुढ़ते हों, समृद्धि से चिढ़ते हों। क्या सचमुच ऐसा है? शायद बहुत कम। ज्यादातर मामलों में हम जिसे शत्रु मानते हैं, वह हमारी कल्पना का शत्रु होता है। मनोवैज्ञानिक चाल्र्स स्पीलबर्गर कहते हैं, जैसे-जैसे माहौल प्रतिस्पर्धी होता जा रहा है, काल्पनिक शत्रुओं की फौज तैयार होती जा रही है। हम खुद को भय और असुरक्षा से घिरा पाते हैं। ऐसे में, स्वाभाविक तौर पर हमें आस-पास के लोग षड्यंत्रकारी नजर आते हैं। दूसरे भी इसी माहौल में जी रहे हैं, इसलिए उनके लिए भी आप षड्यंत्रकारी ही हैं। बस बन गया तनाव का माहौल। ऐसा न हो, इसके लिए जरूरी है कि हम पहले खुद को भय और असुरक्षा की भावना से खाली करें। ऐसे लोगों से बचें, जिन्होंने नुक्स निकालने को अपना पेशा बना लिया है। नॉर्मन विन्सेंट पील लिखते हैं, ‘हर चीज गलत हो रही थी, हर चीज गलत थी और इसका एकमात्र कारण था कि मैं गलत था। मैं गलत सोच रहा था।’ यह चीज भी जरूरी है कि हम आलोचकों के आलोचक न बनें। अब्राहम लिंकन की बातों पर गौर करें। उन्होंने कहा कि एक दौर था, जब मुझे लगता कि आलोचक मुझ पर बेवजह की टीका-टिप्पणी करते हैं, मैं उन पर आगबबूला हो उठता था, लेकिन धीरे-धीरे मुझे समझ में आया कि वे आलोचक नहीं हैं, वे मेरे मित्र हैं। उनकी बातों पर मैंने विचारना शुरू किया, तो पाया कि उनकी कुछ बातें बिलकुल सही हैं। मुझ उन पर विचार करना चाहिए। हम भी ऐसा कर सकते हैं, हमारे खिलाफ जो भी बातें आएं, उन्हें पॉजिटिव तौर पर लें। वे सच हों या झूठ, पॉजिटिविटी ही फैलाएं। धीरे-धीरे हम पाएंगे कि मित्रों की संख्या बढ़ रही है।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingमैकलम ने खेली 158 रन की रिकॉर्ड पारी
न्यूजीलैंड के कप्तान ब्रैंडन मैकलम ने इंग्लिश ट्वेंटी 20 ब्लास्ट प्रतियोगिता में अपनी काउंटी टीम वॉरविकशायर के लिए मात्र 64 गेंदों में नाबाद 158 रन का ताबड़तोड़ स्कोर बनाने के साथ एक अनोखा रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड