शनिवार, 22 नवम्बर, 2014 | 14:17 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मुलायम : गरीबों को भी ऐसा सम्मान देंगेआज से कई योजनाओं की शुरुआत। विधवाओं का रोजगार देना है : मुलायममुलायम सिंह ने अपने 75वें जन्मदिन पर कहा, जिंदगी का सबसे बड़ा सम्मान मिलामोदी : देखते ही देखते हिन्दुस्तान की रौनक बदल जायेगीस्किल इंडिया, डिजिटल इंडिया का काम कश्मीर से शुरू होगा : मोदीमोदी : जम्मू कश्मीर को किसी परिवार के यहां गिरवी नहीं रखा जायेगाजम्मू कश्मीर के सपने किसी के आश्रित नहीं होंगे : मोदीमोदी : आपके प्यार को विकास करके लौटाऊंगापूर्ण बहुमत की सरकार बनानी है : मोदीमोदी : जम्मू कश्मीर के लोगों दोनों परिवारों का सज़ा दोगे तभी वो सुधरेंगेसारी दुनिया को कश्मीर का नज़ारा दिखाना है : मोदीमोदी : बिना भेद-भाव के सबका साथ, सबका विकास के नारे के साथ चलेंगेराजनीति को संप्रदाय से मत जोड़िये, कश्मीरी कश्मीरी होता है : मोदीमोदी : पैसों की कभी कमी नहीं होने देंगेकच्छ का विकास हुआ, कश्मीर का भी होगा : मोदीकश्मीर में जब भी आया नई योजनायें लेकर आया :मोदीमोदी :चेनाब पास में है लेकिन पीने का पानी नहीं मिलता, इसके लिये कौन जिम्मेदार हैअकेले जम्मू-कश्मीर की ताकत से पूरे देश का अंधेरा मिट सकता है :मोदीमोदी :वादियों में फिर शूटिंग कराऊंगा, यहां के लोगों को रोज़गार मिलना चाहियेआपके दुख को बांटने के लिये बिना सोचे एक पल में आ गया :मोदीमोदी : कश्मीर में दो परिवारों की 5-5 सालों में माल लूटने की मिलीभगत हैसिर्फ दो ही परिवार का राज चलेगा क्या, यहां के नौजवानों में नूर नहीं है क्या : मोदीमोदी : गुजरात से हर महीने कई सैलानी कश्मीर आते हैं, यहां इमानदारी का माहौल हैपीएम बनने के बाद जुलाई से हर रोज़ कश्मार आ रहा हूं : मोदीमोदी : बहुत हो चुका भाई-बहनों कब तक लोगों को परेशान होते देखेंगेजम्मू कश्मीर के लोग विकास की बात सुनना चाहते हैं : मोदीमोदी : बीते 10 साल में कश्मीर की हालत खराब हुई हैअटल जी के काम को पूरा करूंगा : मोदीकश्मीर पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, कहा कश्मीर के साथ मेरा लगाव है
वेब मीडिया बदल रहा है उपभोक्ताओं का मिजाज
मुकुल श्रीवास्तव, असिस्टेंट प्रोफेसर, लखनऊ विश्वविद्यालय First Published:10-12-12 07:35 PM

इंटरनेट की शुरुआत से ही कन्वर्जेंस की संभावनाओं के असीमित विकल्प खुल गए थे, पर तकनीकी और कंटेंट के स्तर पर यह बदलाव हमारी मीडिया हैबिट पर किस तरह से असर करेगा, इसे लेकर आशंकाएं थीं। भारत जैसे देश में इस बारे में सभी मान रहे थे कि यह परिवर्तन बहुत समय लेगा और तब तक प्रचलित जन-संचार माध्यम अपनी धाक जमाए रखेंगे। सूचनाएं और समाचार पाने का सबसे तेज माध्यम अभी तक टेलीविजन ही था, पर अब यह तस्वीर बदलने लगी है और टेलीविजन को कड़ी टक्कर दे रहा है वेब मीडिया, यानी एक ऐसा माध्यम, जिसका प्रयोग इंटरनेट द्वारा किया जाता है।

भारत जैसे देश में अभी इंटरनेट की ब्रॉड बैंड सुविधाओं का व्यापक विस्तार होना बाकी है, लेकिन अब इंटरनेट की सुविधा से लैस मोबाइल फोन मीडिया हैबिट के परिदृश्य पर बड़ा असर डाल रहे हैं। भारत में इस बदलाव की वाहक कामकाजी युवा पीढ़ी है, जो तकनीक पर ज्यादा निर्भर है और परंपरागत रूप से मीडिया उपभोग के समय का भी अधिकतम लाभ लेना चाहती है, यानी खबर पढ़ते-देखते समय भी अपने काम पर रहा जाए। एसी नील्सन के वैश्विक मीडिया खपत सूचकांक 2012 से पता चलता है कि एशिया (जापान को छोड़कर) और ब्रिक देशों में इंटरनेट मोबाइल फोन पर टीवी व वीडियो देखने की आदत पश्चिमी देशों व यूरोप के मुकाबले तेजी से बढ़ रही है, यानी वेब मीडिया परंपरागत इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को बहुत तेजी से चुनौती दे रहा है।

यही वजह है कि हर इलेक्ट्रॉनिक टीवी चैनल अब अपनी वेबसाइट पर ज्यादा ध्यान देने लगा है, जिसमें लाइव स्ट्रीमिंग के साथ खबरों का विश्लेषण और पुराने वीडियो भी उपलब्ध रहते हैं। बहरहाल, बदलाव का यह असर बहुआयामी है। समाचारपत्र और एफ एम रेडियो चैनल भी अपनी साइबर उपस्थिति पर ज्यादा जोर दे रहे हैं। बीबीसी  व डायचे वेले जैसे अंतरराष्ट्रीय प्रसारक अपने वेब पोर्टल पर खासा जोर दे रहे हैं। वहां दृश्य-श्रव्य सामग्री के अलावा गंभीर विश्लेषण हैं, वहीं समाचारपत्र ई-पेपर के अलावा अपनी वेबसाइट को लगातार अपडेट रख रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक मीडिया उपभोग के मामले में टेलीविजन अब भी नंबर एक है, पर लोगों के इंटरनेट पर समय बिताने के मामले में बहुत तेजी से इजाफा हो रहा है, जिससे विज्ञापनदाताओं का झुकाव भी वेब की तरफ हो रहा है। निवेश पर सर्वाधिक लाभ एशिया-प्रशांत क्षेत्रों में डिजीटल मार्केटिंग चैनलों द्वारा हो रहा है, ऐसा इस रिपोर्ट का मानना है।

भारत के संदर्भ में यह बदलाव ज्यादा तेजी से होगा, क्योंकि मैकेंजी ऐंड कंपनी द्वारा किया गया एक अध्ययन बताता है कि 2015 तक भारत में इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले लोगों की तादाद 35 करोड़ से ज्यादा हो जाएगी, जिनके हाथों में एक ऐसी तकनीक होगी, जिससे उनकी परंपरागत टीवी पर निर्भरता कम होगी और इसमें बड़ी भूमिका स्मार्ट फोन निभाने वाले हैं।
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ