सोमवार, 03 अगस्त, 2015 | 10:08 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    सावन के पहले सोमवार मंदिरों में उमड़ी भारी भीड़, जयघोष से गूंजे शिवाले मंगल गृह की परिक्रमा में ट्रैफिक जाम से बचने के लिए काम कर रहा है नासा बिहार: जेडीयू के टिकट पर चुनाव लड़ सकती हैं शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम पाकिस्तान ने फिर किया संघर्षविराम का उल्लंघन, कई चौकियों को निशाना बनाया याकूब मेमन के साथ हमदर्दी जताना राष्ट्र के लिये नुकसानदेह है: वेंकैया नायडू झारखंड की शिक्षा मंत्री की शिक्षा का जवाब नहीं, अब बिहार को बताया पड़ोसी देश पाकिस्तान ने 163 भारतीय मछुआरों को रिहा किया  हम टीचर्स की इज्जत करतें हैं, आपलोगों को नहीं मारेंगे: आईएस आतंकी  पीएम मोदी की गया रैली में प्रयोग होगा एसपीजी की 'ब्लू बुक' अलर्ट, जानिये क्या है 'ब्लू बुक'... लालू ने भरी हुंकार, कहा शोषितों की आजादी की दूसरी लड़ाई लड़ रहा राजद
चिंता से मुक्ति की राह
First Published:09-12-2012 10:49:46 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

यह आज के युग की सबसे साधारण मानसिक क्रिया है। इसे आप और हम रोजाना करते हैं और अपना बहुमूल्य समय नष्ट करते हैं। विश्व में ऐसा कोई नहीं होगा, जिसने कभी चिंता न की हो। बच्चे, बूढ़े, जवान, सभी ने चिंता की चिता पर बैठकर अपने आपको जलाया है। चिंता करना तो जैसे हमारा स्वभाव बन चुका है। कई लोगों का मानना है कि चिंता करना अच्छी बात है, क्योंकि इससे आप सामने वाले के प्रति अपना प्यार व स्नेह जताते हैं। पर सच यह है कि चिंता हमारे काल्पनिक संकल्पों की उपज है, जो हमारे भीतर की कुदरती चेतना और रचनात्मकता को पूरी तरह से नष्ट कर देती है। हैरत की बात यह है कि हममें से अधिकतर लोग इस तथ्य से वाकिफ हैं कि चिंता करने से हमारे समय और शक्तियों का क्षय होता है, बावजूद इसके हम उससे मुक्त नहीं हो पाते। इसका सबसे मुख्य कारण यह है कि पीढ़ी दर पीढ़ी चिंता करने की एक प्रथा चली आ रही है। बचपन से ही माता-पिता बच्चों में यही संस्कार डालते हैं कि चिंता करना अच्छा है, परंतु यदि एकांत में बैठकर सोचें, तो हमें ज्ञात होगा कि चिंता हमारे अंदर डर की भावना उत्पन्न करती है, जबकि परवाह करना या देखभाल करना हमारे अंदर प्यार की भावना उत्पन्न करता है। चिंता और देखभाल में जमीन-आसमान का फर्क है।

वास्तव में, हम स्वार्थवश अपनी खुद की ही चिंता करते हैं, न कि किसी और की। इसका मूलभूत कारण है हमारे अंदर में पैठी असुरक्षा की भावना। आजकल हम अखबार, टेलीविजन के माध्यम से बुरी खबरों को पढ़, देखकर एक काल्पनिक भय में जीने लगते हैं। ऐसी मन:स्थिति के साथ जीना कई लोगों को अब मुश्किल लगने लगा है। ऐसे में, चिंता मुक्त होने का रामबाण इलाज है कि ‘वर्तमान में जीना सीखें।’ नकारात्मक भविष्य और पीड़ादायक भूतकाल के बारे में न सोचकर केवल अपने सुनहरे वर्तमान पर ध्यान केंद्रित करें।
ब्रह्मकुमार न्रिकुंज

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image LoadingMCA ने शाहरुख के वानखेड़े स्टेडियम में प्रवेश करने से बैन हटाया
मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन ने अभिनेता शाहरुख खान पर वानखेड़े स्टेडियम में घुसने पर लगा प्रतिबंध हटा लिया है। एमसीए के उपाध्यक्ष आशीष शेलार के मुताबिक एमसीए ने यह फैसला रविवार को हुई मैनेजिंग कमेटी की बैठक में लिया है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब बीमार पड़ा संता...
जीतो बीमार पति से: जानवर के डॉक्टर को मिलो तब आराम मिलेगा!
संता: वो क्यों?
जीतो: रोज़ सुबह मुर्गे की तरह जल्दी उठ जाते हो, घोड़े की तरह भाग के ऑफिस जाते हो, गधे की तरह दिनभर काम करते हो, घर आकर परिवार पर कुत्ते की तरह भोंकते हो, और रात को खाकर भैंस की तरह सो जाते हो, बेचारा इंसानों का डॉक्टर आपका क्या इलाज करेगा?