रविवार, 24 मई, 2015 | 08:38 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    व्हाट्सएप और चिट्ठी लिख मोदी को मारने की धमकी, पुलिस की नींद उड़ी दिल्ली: आप और एलजी की जंग तेज, केजरीवाल ने विधानसभा का आपात सत्र बुलाया मुद्रास्फीति पर जेटली कर रहे हैं बड़बोलापन: कांग्रेस  लू ने ली तेलंगाना और आंध्रप्रदेश में 153 लोगों की जान  यौन उत्पीड़न मामले में पचौरी को टेरी ने माना दोषी अगले एक साल में पाकिस्तान से परमाणु हथियार खरीद सकता है ISIS रामपुर में लेखपाल हड़ताल पर इस कंपनी ने चार कर्मचारियों को तोहफे में दी कार जयललिता फिर मुख्यमंत्री बनी, पन्नीरसेल्वम फिर नंबर 2 तो इस वजह से आडवाणी को बीजेपी नेताओं ने नहीं बुलाया
काश! हम औपचारिक रूप से एलियन होते!
नीरज बधवार First Published:06-12-12 07:09 PM

एक राष्ट्र के रूप में भारत के साथ सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि अपने आप में स्वतंत्र ग्रह न होकर हम इसी धरती का हिस्सा हैं, जिसके चलते हमें बाकी राष्ट्रों से मेल-मिलाप करना पड़ता है। अंतरराष्ट्रीय आयोजनों का हिस्सा बनना पड़ता है। अंतरराष्ट्रीय मापदंडों पर खरा उतरना पड़ता है, जिससे हम सफोकेशन फील करते हैं। हमें लगता है कि हमारी निजता भंग हो रही है। हमारे बेतरतीब होने को लेकर अगर कोई उंगली उठाता है, तो हमें लगता है कि वह ‘पर्सनल’ हो रहा है।

हमारी हालत उस शराबी पति की तरह हो जाती है, जो कल तक घर में बीवी-बच्चों को पीटता था और आज वह मोहल्ले में भी बेइज्जती करवाकर घर आया है। अब घर आने पर वह किस मुंह से कहे कि मोहल्ले वाले कितने गंदे हैं, क्योंकि पति के हाथों रोज पिटाई खाने वाली उसकी बीवी तो अच्छे से जानती है कि मेरा पति कितना बड़ा देवता है! उसके लिए ‘डिनायल मोड’ में रहना कठिन हो जाता है।

नाराजगी में वह घर बेचकर किसी निर्जन टापू पर चला जाता है। जहां वह ‘अपने तरीके’ से रहते हुए बीवी-बच्चों को पीटे व उसे शर्मिंदा करने वाला कोई न हो। मगर राष्ट्रों के लिए यह आसान नहीं होता। होता तो एक राष्ट्र के रूप में हम किसी और ग्रह पर शिफ्ट कर जाते, जहां हम अपने तरीके से जीते। विकास नीतियों की आलोचना करते हुए जहां कोई रेटिंग एजेंसी हमारी क्रेडिट रेटिंग न गिराती, सरकारी दखल पर इंटरनेशनल ओलंपिक कमेटी ओलंपिक से बेदखल न करती, ट्रांसपरेंसी इंटरनेशनल जैसी संस्था हमें भ्रष्टतम देशों में न शुमार करती। एमनेस्टी इंटरनेशनल मानवाधिकारों के हनन पर हमें न धिक्कारती।

और अगर कोई उंगली उठाता, तो हम उसे विपक्ष का षडय़ंत्र बताते, अंतरराष्ट्रीय एनजीओ का दलाल बताते, सांविधानिक संस्थाओं पर शक करते व आम आदमी के विरोध करने पर उसे 66 ए के तहत भावनाएं आहत करने का दोषी बता गिरफ्तार करवा देते। काश! हम स्वतंत्र ग्रह होते, तो दुनिया से बेफिक्र, अपने ‘डिनायल मोड’ में जीते व खुश रहते। वैसे भी दुनिया का हिस्सा होते हुए दुनिया को एलियन लगने से अच्छा है, हम औपचारिक रूप से एलियन होते!

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingआईपीएल 8: ‘महामुकाबले’ के लिये तैयार धोनी और रोहित
खेल, रोमांच, मनोरंजन और मालामाल करने वाले दुनिया के सबसे लोकप्रिय दनादन क्रिकेट टूर्नामेंट इंडियन प्रीमियर लीग में छठी बार फाइनल में पहुंची चेन्नई सुपरकिंग्स और पूर्व चैंपियन मुंबई इंडियन्स रविवार को ऐतिहासिक ईडन गार्डन मैदान पर पूरे दमखम के साथ आठवें संस्करण का खिताब पाने के लिये उतरेंगे।