गुरुवार, 29 जनवरी, 2015 | 17:48 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मेरठ में दो दिन पहले हुए नरसंहार में पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।यूपी के उन्नाव में पुलिस लाइन कैम्पस में एक बंद कमरे में ढेरों नर कंकाल मिलने की सूचना, कारण अजातबरेली के शाहाबाद में दोस्‍त के घर मिली लापता सब्‍जी आढ़ती की लाश, बुधवार से लापता था कुतुबखाना मंडी का आढती ताहिर, जांच में जुटी पुलिस।पटना विश्वविद्यालय के सिनेट की बैठक के दौरान विरोध कर रहे छात्रों पर लाठी चार्ज, छपरा संघ के चुनाव की मांग को लेकर विरोधमुरादाबाद: वकीलों ने दिया सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन। आज का आंदोलन समाप्त। कल रेल रोकेंगे। वकीलों की सीओ से नोंकझोंक भी हुई।लोकायुक्त की रिपोर्ट के बाद यूपी के दो विधायक बर्खास्तसंभल के मोहल्ला ठेर में रूम हीटर से दम घुटने की वजह से एक व्यापारी की मौत हो गई। कमरे में व्यापारी के साथ सो रही उसकी पत्नी व एक साल के मासूम की हालत भी गंभीर।अमरोहा के मेहंदीपुर गांव में नकली दूध बनाने की फैक्टी पकड़ी. पचास लीटर दूध व सामान बरामद. खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की कार्रवाई.बरेली के फतेहगंज पश्चिमी कस्बे में प्रॉपर्टी डीलर के घर लाखों का डाकाआगरा : हाईकोर्ट बेंच को लेकर वकीलों में आपसी टकराव, संघर्ष समिति और ग्रेटर बार के पदाधिकारी भिड़े, बड़ी संख्या में फोर्स तैनात, पुलिस को फटकारनी पड़ीं लाठियांरामपुर के लालपुर में ट्रैक्टर ने बालक को रौंदा, मौत। हादसे के बाद हंगामा।
सत्य की खोज
श्री आनन्दमूर्ति First Published:06-12-12 07:09 PM

सत्य क्या है? वह, जिसमें कोई परिवर्तन नहीं होता है। लेकिन इस जगत में जो कुछ है, वह देश -काल-पात्र के बीच सीमाबद्ध है। स्वभावत: ही देश बदलने से प्रपंच जगत का परिवर्तन होता है, काल बदलने से भी परिवर्तन होता है, पात्र बदलने से भी परिवर्तित हो जाता है। दूसरी ओर जो सत्य है, उसमें कोई परिवर्तन नहीं होता। इसलिए सत्य खोजने के लिए देश परिक्रमा का कोई प्रयोजन नहीं है या घर छोड़ने का कोई प्रयोजन नहीं है।

एक मजेदार कहानी है। एक ब्राह्मण थे। उनकी ब्राह्मणी अपने स्वार्थ की सिद्धी के लिए रोज पानी में डूबकर मरने का नाम लेकर उनको डराती थी। एक दिन जब ब्राह्मणी ने पानी में डूबकर मरने की बात कही, तो ब्राह्मण चुप हो गया। मरने के पहले सभी आभूषणें को बक्सा में लेकर पत्नी चल पड़ी। ब्राह्मण ने कहा जब मरना ही है, तो गहनों का क्या करेगी। कोई उत्तर न देकर ब्राह्मणी घर के पास के उस पोखर की तरफ चली गई, जिस पोखर में घुटने भर भी पानी नहीं था। ब्राह्मणी चलती रही और कहने लगी, मैं मरने को चली। ऐसा करते-करते पानी में उतर गई। ब्राह्मण ने तब भी कुछ नहीं कहा, चुप रहा।

अंत में ब्राह्मणी ने जब देखा कि ब्राह्मण कुछ नहीं बोल रहा है, तब वह बोली, मेरे मर जाने पर तुमको भात-दाल पकाकर कौन देगा? चलो घर लौट जाएं। ऐसी बातें केवल हंसी की खुराक है। मरने जा रही हूं, कहने के पहले ही ब्राह्मणी को विचार कर लेना चाहिए था कि काम सही है या नहीं। उसी तरह कोई काम करने के पहले मनुष्य को विचार कर लेना चाहिए था कि काम सही है या नही। इस दुनिया में जो अपरिवर्तनीय है, वही सत्य है। अत: जो मनुष्य घर छोड़कर मानवता की सेवा के लिए कूद पड़ते हैं, वे ही जगत में स्मरणीय होकर इतिहास के पन्नों में अपने हस्ताक्षर छोड़ जाते हैं। वही इस जगत का सत्य है।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड