गुरुवार, 24 अप्रैल, 2014 | 08:51 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    'हिन्दुस्तान' का 'वोट की चोट' कार्यक्रम, धनबाद में कैंडल-मार्च आईपीएल-7 : कोहली, गंभीर आज होंगे आमने-सामने अफ्रीका में ट्रेन दुर्घटना में 60 मरे मतदान लाइव: जमीं पर उतरे फिल्मी दुनिया के सितारे...वोट डाला केजरीवाल के इस्तीफे ने पार्टी की संभावना धूमिल की: सिसोदिया मोदी के पाकिस्तान संबंधी टिप्पणी से उत्साहित हैं पाक उच्चायुक्त आयोग ने आजम खान को फिर भेजा कारण बताओ नोटिस गिरफ्तारी वारंट के बाद राजद सांसद प्रभुनाथ सिंह लापता पीसीएस-14 के 300 पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू मोदी रोड शो के बाद करेंगे वाराणसी में नामांकन दाखिल
 
शिकायत और शर्त
लाजपत राय सभरवाल
First Published:04-12-12 07:24 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

हम कई बार शिकायत करते हैं कि सब कुछ हमारे मन के मुताबिक नहीं हो रहा। हम जो चाहते हैं, वह नहीं होता है। अपेक्षा करते हैं, पूरी नहीं होती है, और इसी सबसे शुरू होती है शिकायत। यह प्रत्यक्ष अस्तित्व में होती नहीं है, परंतु परेशान बहुत करती है। यह आभासी चुभन हमें कभी चैन से रहने नहीं देती है। कोई हमारे लिए कितना भी करे, हम शिकायत के कटु व्यंग्य को रोक ही नहीं पाते। औरों को छलनी तो करते ही हैं, हम भी इस असहनीय पीड़ा से त्रस्त रहते हैं। कहा जाता है कि अगर शिकायती के चरणों में तीनों लोक का वैभव भी रख दिया जाए, तो भी वह उसमें कुछ नुक्स निकाल ही लेगा। कोई मिला नहीं कि पूर्व नियोजित शिकायतों का पुलिंदा खोलकर रख देते हैं। हमारी शिकायत औरों से होती है, संबंधों और रिश्तों से होती है। यहां तो ठीक है, कई बार यह खुद से भी होती है।

ऐसे व्यक्ति हमेशा ही शर्तों का, उम्मीदों का, अपेक्षाओं का पहाड़ खड़ा करते हैं, जिनके पूरा न होने पर शिकायतें पनपती हैं। संत और साधु शिकायत नहीं करते और न कोई शर्त रखते हैं। संत का तात्पर्य ही है, कष्टों, मुसीबतों और संभावनाओं में भी शांतभाव से रहकर किसी तरह की शिकायत किए बिना जन-कल्याण में लगे रहना। साधु का अर्थ है, शर्तो से परे अपनी साधुता को सेवा के महायज्ञ में सतत समर्पित करते रहना। सच्चे साधु-संतों के जीवन में शिकायत और शर्त का अंश मात्र भी नहीं रहता।

लेकिन एक इंसान आखिर शिकायत और शर्त से मुक्त कैसे हो? शिकायत से मुक्ति की एक शर्त है, प्यार बांटें, सम्मान बिखेरें, अपनापन लुटाएं। ये अनमोल थाती हैं, जिन्हें भगवान ने हमें मुक्तहस्त से प्रदान किया है और हम भी इसे खुले हाथों बांटें। आगे बढ़ें, तो दूसरों को साथ लेकर चलें। और रुकें, तो सबको छाया देने वाला बरगद बन जाए। फिर कोई शिकायत नहीं बचेगी।

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
Image Loadingमतदान लाइव: जमीं पर उतरे फिल्मी दुनिया के सितारे...वोट डाला
लोकसभा चुनाव के छठे दौर में आज 117 सीटों पर मतदान हो रहा है। लोकसभा चुनाव के इस दौर में असम, बिहार, छत्तीसगढ़, जम्मू-कश्मीर, झारखंड, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, पुड्डुचेरी, राजस्थान, तमिलनाडु, उत्तरप्रदेश और पश्चिम बंगाल में वोट डाले जा रहे हैं।
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
आंशिक बादलसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 06:47 AM
 : 06:20 PM
 : 68 %
अधिकतम
तापमान
20°
.
|
न्यूनतम
तापमान
13°