बुधवार, 30 जुलाई, 2014 | 20:40 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    बिहार में जदयू, राजद, कांग्रेस में चुनावी गठबंधन बिहार में जदयू, राजद, कांग्रेस में चुनावी गठबंधन बिहार में जदयू, राजद, कांग्रेस में चुनावी गठबंधन महाराष्ट्र भूस्खलन में 15 मरे, बचाव अभियान जारी फारूक समेत 16 पूर्व मंत्रियों ने नहीं किए बंगले खाली संसद में अगले सप्ताह पेश होगा न्यायिक नियुक्ति विधेयक...!  सुबहान: कॉरपोरेट शख्सियतों को अगवा करने की थी योजना  जॉन कैरी की यात्रा से पहले नरेंद्र मोदी ने की अहम बैठक नरेंद्र मोदी, सोनिया और राहुल गांधी पर सुनवाई अगले सप्ताह  आईएएस अधिकारी को मुख्य सचिव ने मैसेज भेज धमकाया
 
सीजन शादियों का अर्थात आज मेरे यार की शादी है
अशोक संड
First Published:03-12-12 06:40 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

आषाढ़ की महाएकादशी से लगातार चार महीने सोने वाले देवता पिछले दिनों जाग उठे। सोते अपने कुंभकरण महाराज भी पूरे छह महीने थे,  पर उनकी पहचान देवताओं की कटेगरी में नहीं है। देवता सोए, तो शादियों पर खास तौर से रोक लग गई। कालखंड चातुर्मास कहलाया। हरि जब जागे, तो घोषित कर दी गई देवोत्थान एकादशी। शयन अवधि में शुभ कार्य वर्जित। जागते ही बारात निकल पड़ती है शुभ कार्यों की। चतुर्दिक भ्रष्टाचार के समुद्र में घिरी इस धरा पर विवाह फिलहाल शुभत्व की गति को प्राप्त है। निमंत्रण पत्र पर अंकित शुभ विवाह इसका लिखित दस्तावेज है। हजारों युगल इस सीजन में आग के इर्द-गिर्द गोला बनाकर चतुभरुज हो जाएंगे। लिफाफों को बैग में ठूंसने की यही ऋतु है। सीजन मंत्रोचार न समझने वाले पंडिज्जी और कोलाहल करते बैंड बाजे वालों से लेकर डेकोरेटर, कैटरर, टेलर सभी का है। भले दूसरे दिन ही उतर जाए, पर मेंहदी कलाई से लेकर बाजू के छोर तक लगवानी है। मेंहदी लगाने वालों की भी चांदी। सीजन फिजूलखर्ची की बरसात का है। लग्नोदय सिर्फ उन सुमंगली-सुमंगलम का ही नहीं, जिनको साथ रहने के लिए फेरे लगाने हैं, दिन उनके भी फिरेंगे, जो कुछ समय पहले तक इक्के-तांगे में जुटी रहती थीं। चाबुक खाने वाली पीठ के सजने की बेला इसी सीजन में आती है।

मौसम बारातियों के सजने का भी है। शादियां रोज पहनने वाले कपड़ों में अटेंड नहीं की जाती। सर्दी में भी ब्लाउज का कट ‘लो’, हील ‘हाई। ’ भारत एक शादी प्रधान देश भी है। राजधानी में सीजन की शुरुआत में ही एक दिन में पचास हजार शादियां हुईं। बगैर दिल वाले निष्ठुर भी यहां दुल्हनियां ले आते हैं और विश्वामित्र सरीखे टाइटैनिक भी इस समंदर में डूब जाते हैं। इन दिनों घोड़ियों के हिनहिनाने व लड़कियों के ‘गिगिल’ करने का मौसम है। झूमते-रेंगते बारातियों की वजह से ट्रैफिक जाम होने का मौसम है। अनारकली डिस्को चली..से लेकर ये देश है वीर जवानों.. की धुन पर थिरकने का भी मौसम है। वाकई देश वीर-जवानों का है, जो शादी के हर सीजन में उस लड्डू को जरूर खाता है, जिसे खाने के बाद पछताने के ब्राइट चांस रहते हैं।

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
टिप्पणियाँ
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
धूपसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 05:41 AM
 : 06:55 PM
 : 16 %
अधिकतम
तापमान
43°
.
|
न्यूनतम
तापमान
24°