रविवार, 25 जनवरी, 2015 | 17:45 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
हमारी दोस्ती का असर दोनों देशों के रिश्तों में दिख रहा है: ओबामाओबामा : अकेले में मिलते हैं तो एक दूसरे को समझते हैंएक-दूसरे को जानने की कोशिश की : मोदीमोदी : पर्सनल कमेस्ट्री मायने रखती हैअकेले में जो बात होती है उसे पर्दे में रहने दें : मोदीरक्षा क्षेत्र में तकनीकी सहयोग पर हमारी चर्चा हुई:ओबामाओबामा : मंगलवार को रेडियो पर भारतीय लोगों से बातचीत का इंतजार हैहम परमाणु करार पर अमल की ओर आगे बढ़े :ओबामाओबामा :हम भारत-अमेरिका के रिश्तों को नई ऊंचाई तक ले जाना चाहते हैंहम अपने व्यापारिक रिश्तों को और आगे ले जाएंगे : ओबामाओबामा : चाय पर चर्चा के लिए पीएम मोदी का शुक्रियान्योते के लिए धन्यवाद : ओबामाओबामा ने हिंदी में कहा मेरा प्यार भरा नमस्कारओबामा ने नमस्ते के साथ अपना बयान शुरू कियापर्यावरण के लिए दोनों देश मिलकर काम करेंगे :मोदीआतंकी गुटों पर कार्रवाई को लेकर कोई भेद नहीं रखेंगे :मोदीमोदी: रक्षा के क्षेत्र में, समुद्री सुरक्षा के क्षेत्र में हम सहयोग बढ़ाएंगेपरमाणु करार के व्यवसायिक नतीजे अब दिखेंगे : मोदीमोदी : पिछले कुछ दिनों में दोनों देशों में गर्मजोशी दिखीअमेरिका सबसे अच्छा दोस्त है :मोदीमैं अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने हमारा न्यौता स्वीकारा। मैं जानता हूं कि दोनों कितने व्यस्त रहते हैं- मोदीमोदी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि भारत में ओबामा और मिशेल का स्वागत है। गणतंत्र दिवस पर हमारा महमान बनना खास हैहैदराबाद हाउस में हुई मोदी और ओबामा की मुलाकातओबामा और मोदी देंगे साझा बयानथोड़ी देर में मीडिया के सामने आएंगे ओबामा और मोदी
बदलते मूड का नियोजन
ब्रह्मकुमार निकुंज First Published:03-12-12 06:39 PM

पल-पल बदलते हुए वातावरण में हम सभी जी रहे हैं। ऐसे में न चाहते हुए भी हमारा मूड निराशा या उदासी का शिकार बन जाता है। कई बार सब कुछ अच्छा और अनुकूल होने के बावजूद हम सच्चे आनंद की अनुभूति नहीं कर पाते। मूड को सदा अच्छा और खुश रखने की चाह तो हम सबकी है, पर क्या यह वास्तव में संभव हैं? इसका दारोमदार तो खुद हम पर है। बदलते मूड का गहरा प्रभाव हमारे संबंध-संपर्क में आने वालों और हमारे स्नेहियों पर भी पड़ता है। किसी भी दुखी व अशांत व्यक्ति के संपर्क में रहना कोई पसंद नहीं करता। ऐसे में, जब कोई अपना हमें सांत्वना देने की कोशिश करता हैं, तो हम और भड़क उठते हैं, क्योंकि ऐसे समय पर हम अपने अशांत स्वभाव व मूड को सभी के समक्ष जायज ठहराने की कोशिश में रहते हैं।

हमें हर शुभचिंतक दुश्मन लगता है। लेकिन हर चीज की हद होती है। हमें खुद से यह कहना ही होगा कि बस करो! हमें ऐसे कार्यों में अपना मन लगाना चाहिए, जिनसे हमें खुशी मिले। ऐसे लोगों के साथ रहना चाहिए, जो खुशमिजाज हों। सामान्य होने पर उन चीजों पर फिर से सोचना चाहिए, जिनसे ये हालात बने। क्यों बिगड़ गया था मूड? हम किसी को दोषी ठहराते भी हैं, तो क्या उससे कोई फायदा हमें मिलेगा? इससे हम बाहरी तत्वों को अपने ऊपर हावी होने का मौका देते हैं। इसीलिए हमें स्वयं इसकी जिम्मेदारी लेनी चाहिए। अंतर्मुखी होकर अपने मन के भावों और भावनाओं को समझों। यह सब करने के पीछे का आशय यही है कि हम स्वयं अपने मूड और अवस्था के मालिक बनें, ताकि हम सदा आनंद और खुशी मे अपना जीवन व्यतीत करें। इसके लिए हमें अपने दिन की शुरुआत एक सकारात्मक विचार से करनी चाहिए, ‘आज चाहे कैसी भी परिस्थिति हो, मैं अपनी खुद की स्थिति में रहकर अपने मूड का मालिक बन सदा खुशी में रहूंगा/रहूंगी।’

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड