सोमवार, 31 अगस्त, 2015 | 08:03 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
नाइजीरिया में बोको हराम ने 68 लोगों की हत्या की।उत्तर प्रदेश: सीओ सिटी अमरोहा के पेशकार के रामपुर में कृष्णा विहार स्थित घर में लाखों की चोरीए पत्नी रक्षाबंधन पर गई हुई हैं मायके, पेशकार हरि सिंह गए थे ड्यूटी, बंद घर के ताले तोड़कर चोरों ने दिया वारदात को अंजाम, अमरोहा से लौटकर घर पहुंचे तो चला पता।
बदलते मूड का नियोजन
ब्रह्मकुमार निकुंज First Published:03-12-2012 06:39:50 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

पल-पल बदलते हुए वातावरण में हम सभी जी रहे हैं। ऐसे में न चाहते हुए भी हमारा मूड निराशा या उदासी का शिकार बन जाता है। कई बार सब कुछ अच्छा और अनुकूल होने के बावजूद हम सच्चे आनंद की अनुभूति नहीं कर पाते। मूड को सदा अच्छा और खुश रखने की चाह तो हम सबकी है, पर क्या यह वास्तव में संभव हैं? इसका दारोमदार तो खुद हम पर है। बदलते मूड का गहरा प्रभाव हमारे संबंध-संपर्क में आने वालों और हमारे स्नेहियों पर भी पड़ता है। किसी भी दुखी व अशांत व्यक्ति के संपर्क में रहना कोई पसंद नहीं करता। ऐसे में, जब कोई अपना हमें सांत्वना देने की कोशिश करता हैं, तो हम और भड़क उठते हैं, क्योंकि ऐसे समय पर हम अपने अशांत स्वभाव व मूड को सभी के समक्ष जायज ठहराने की कोशिश में रहते हैं।

हमें हर शुभचिंतक दुश्मन लगता है। लेकिन हर चीज की हद होती है। हमें खुद से यह कहना ही होगा कि बस करो! हमें ऐसे कार्यों में अपना मन लगाना चाहिए, जिनसे हमें खुशी मिले। ऐसे लोगों के साथ रहना चाहिए, जो खुशमिजाज हों। सामान्य होने पर उन चीजों पर फिर से सोचना चाहिए, जिनसे ये हालात बने। क्यों बिगड़ गया था मूड? हम किसी को दोषी ठहराते भी हैं, तो क्या उससे कोई फायदा हमें मिलेगा? इससे हम बाहरी तत्वों को अपने ऊपर हावी होने का मौका देते हैं। इसीलिए हमें स्वयं इसकी जिम्मेदारी लेनी चाहिए। अंतर्मुखी होकर अपने मन के भावों और भावनाओं को समझों। यह सब करने के पीछे का आशय यही है कि हम स्वयं अपने मूड और अवस्था के मालिक बनें, ताकि हम सदा आनंद और खुशी मे अपना जीवन व्यतीत करें। इसके लिए हमें अपने दिन की शुरुआत एक सकारात्मक विचार से करनी चाहिए, ‘आज चाहे कैसी भी परिस्थिति हो, मैं अपनी खुद की स्थिति में रहकर अपने मूड का मालिक बन सदा खुशी में रहूंगा/रहूंगी।’

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingकोलंबो टेस्ट: भारत को 132 रनों की बढ़त
इशांत शर्मा ( 54 रन पर पांच विकेट) की घातक गेंदबाजी और इससे पहले ओपनर चेतेश्वर पुजारा (नाबाद 145) रन के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने यहां तीसरे और निर्णायक टेस्ट मैच के तीसरे दिन रविवार को अपना शिकंजा कसते हुये मेजबान श्रीलंका के खिलाफ 111 रन की महत्वपूर्ण बढ़त हासिल कर ली।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

सीसीटीवी कैमरों का जमाना है...
पिता: एक समय था, जब मैं 10 रुपए में किराना, दूध, सब्जी और नाश्ता ले आता था..
बेटा: अब संभव नहीं है, पापा अब वहां सीसीटीवी कैमरे लगे होते हैं।