मंगलवार, 23 दिसम्बर, 2014 | 10:37 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
​झारखंड: साहिबगंज के बरहेट में छठे राउंड की गिनती खत्म, झामुमो के हेमंत सोरेन, बीजेपी के हेमलाल मुर्मू से 7086 वोट से आगे​झारखंड: गुमला के विशुनपुर से भाजपा के 466 मतो से आगे, चमरा लिंडा पिछड़े​झारखंड: मांडू से जेएमएम के जेपी पटेल 7014 वोट से आगेझारखंड: सरायकेला में झामुमो के चम्पई सोरेन भाजपा के गणेश मोहाली से आगेझारखंड: पोटका में झामुमो के संजीव सरदार भाजपा के मेनका सरदार से आगेझारखंड: ​सिंदरी में मासस के आनंद महतो 2000 वोट से आगे चल रहे हैं, दूसरे नंबर पर भाजपा के फूलचंद मंडल हैंझारखंड: तीसरे राउंड की मतगणना के बाद धनबाद विधानसभा से भाजपा के प्रतयाशी राज सिन्‍हा मात्र 125 वोट से आगे चल रहे हैं। कांग्रेस के मन्‍नान मल्लिक जबरदस्‍त टक्‍कर दे रहे हैंझारखंड: खरसावा में पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा उम्मीदवार अर्जुन मुंडा 1300 वोटों से पीछेझारखंड: बोकारो के गोमिया सीट से झामुमो प्रत्‍याशी योगेंद्र महतो चार हजार वोट से भाजपा प्रत्‍याशी माधवाल से आगे चल रहे हैंझारखंड: बोकारो जिले के बेरमो सीट से कांग्रेस प्रत्‍याशी सह मंत्री राजेंद्र प्रसाद सिंह पांच हजार वोट से भाजपा प्रत्‍याशी योगेश्‍वर प्रसाद बाटुल से पीछे चल रहे हैंझारखंड: गिरिडीह सीट से भाजपा प्रत्‍याशी निर्भय शहबादी 968 वोट से आगे, बाबूलाल मरांडी दूसरे नंबर पर चल रहे हैंजम्मू कश्मीर : भाजपा-23, पीडीपी-25, एनसी-17, कांग्रेस-15 और अन्य-7 सीट से आगेझारखंड: भाजपा-39, झारखंड मुक्ति मोर्चा-22, कांग्रेस-5, झारखंड विकास मोर्चा-8 और अन्य-7 सीटों पर आगेझारखंड: दुमका जिले की दुमका विस सीट से भाजपा की लुइस मरांडी, झामुमो के हेमंत सोरेन से 3433 वोट से आगेझारखंड: देवघर के सारठ विधानसभा से भाजपा प्रत्‍याशी चुन्‍ना सिंह 1367 वोट से झामुमो के शशांक शेखर भोक्‍ता से आगे चल रहे हैंझारखंड: धनबाद के टुंडी विधानसभा में झामुमो के मथुरा महतो 2200 वोट से झाविमो के सबा अहमद से आगे चल रहे हैंझारखंड: धनबाद में दूसरे दौर की गिनती के बाद भाजपा के राज सिन्हा आगेझारखंड: महागामा से भाजपा के अशोक कुमार आगेझारखंड: सिमरिया से जेवीएम के गणेश गंजू आगेझारखंड: पश्चिमी जमशेदपुर से भाजपा के सरयू राय आगेझारखंड: धनबाद से भाजपा के राज सिन्हा आगेझारखंड: सिमडेगा से भाजपा की विमला प्रधान आगेझारखंड: चाइबासा से झामुमो के दीपक बरुआ भाजपा के जेबी तुबिद से आगेझारखंड: धनबाद विधानसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्‍याशी 4000 वोट से कांग्रेस प्रत्‍याशी मन्‍नान मल्लिक से आगेझारखंड: धनबाद के बाघमारा विधानसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्‍याशी ढुल्‍लू महतो 1300 वोट से जदयू के प्रत्‍याशी जलेश्‍वर महतो से आगेझारखंड: बोकारो जिले के चंदनकियारी सीट से झाविमो प्रत्‍याशी अमर बाउरी 1422 वोट से आगे चल रहे हैं, दूसरे नंबर पर आजसू के उमाकांत रजक हैंझारखंड: जमशेदपुर पश्चिमी में भाजपा प्रत्याशी सरयू राय आगेझारखंड: -जमशेदपुर पूर्वी में भाजपा प्रत्याशी रघुवर दास आगेझारखंड: दुमका जिले के जरमुंडी विस क्षेत्र में जेवीएम के देवेंद्र कुंवर, बीजेपी के अभयकांत प्रसाद से 1959वोट से आगे।झारखंड: महगामा से भाजपा के अशोक जेवीएम के इकबाल से आगेझारखंड: दुमका जिले की शिकारीपाड़ा विस क्षेत्र से पहले राउंड की गिनती खत्म होने के बाद झामुमो के नलिन सोरेन, जेवीएम के परितोष सोरेन से 2870 वोट से आगेझारखंड: सिसई में तीन राउंड के बाद झामुमो आगेअमीरा कदल से भाजपा उम्मीदवार हिना भट्ट ने कहा, जम्मू कश्मीर में लोगों का दिल जीताझारखंड: पोडैयाहाट विधानसभा में जेवीएम प्रत्‍याशी प्रदीप यादव 3000 वोट से भाजपा के देवेंद्र नाथ सिंह से आगे।झारखंड: महागामा विधानसभा में भाजपा प्रत्‍याशी अशोक भगत 8000 वोट से जेवीएम के शाहीद इकबाल से चल रहे हैं आगे।झारखंड: गोड्डा विधानसभा में राजद के संजय यादव 600 वोट से आगे। भाजपा के रघुमंडल चल रहे हैं पीछे।झारखंड: कोल्हान में कांटे की टक्कर, तीन पर भाजपा और तीन पर झामुमो आगेझारखंड: गिरिडीह सीट से भाजपा प्रत्‍याशी निर्भय शहबादी झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी से 3900 वोट से आगे चल रहे हैं।झारखंड: गिरिडीह जिले के जमुआ सीट से भाजपा प्रत्‍याशी केदार हाजरा 302 वोट से आगेझारखंड: जगन्नाथपुर विधानसभा सीट पर पूर्व मुख्यमंत्री मधुकोड़ा की पत्नी गीता कोड़ा कांग्रेस के सन्नी सिंकू से आगेझारखंड: बोकारो जिले के बेरमो सीट से कांग्रेस प्रत्‍याशी राजेंद्र प्रसाद सिंह भाजपा उम्‍मीदवार से पीछेझारखंड: बोकारो जिले के चंदनकियारी सीट से झाविमो उम्‍मीदवार अमर बाउरी आगेझारखंड: बोकारो सीट से भाजपा प्रत्‍याशी विरंची नारायण कांग्रेस प्रत्‍याशी मंजूर अंसारी से 364 वोट से पीछेझारखंड: साहिबगंज जिले के बोरियो सीट से झामुमो प्रत्‍याशी लोबिन हेंब्रम 1769 वोटों से आगेझारखंड: साहिबगंज जिले के राजमहल सीट से भाजपा प्रत्‍याशी अनंत ओझा दो हजार वोटों से आगेजम्मू कश्मीर : पीडीपी के सज्जाद लोन हंदवाड़ा से आगे चल रहे हैंझारखंड: दुमका से हेमंत सोरेन पीछे चल रहे हैंजम्मू कश्मीर : भाजपा के प्रत्याशी रमन भल्ला गांधीनगर से आगे चल रहे हैंजम्मू कश्मीर : उमर अब्दुल्लाह सोनवार और बीरवाह सीट से आगे चल रहे हैंजम्मू कश्मीर : भाजपा-8, पीडीपी-12, एनसी-3 और कांग्रेस-1 सीट से आगेझारखंड: मधु कोड़ा मझगांव से आगे चल रहे हैंजमशेदपुर पश्चिमी से कांग्रेस प्रत्याशी एवं मंत्री बन्ना गुप्ता पिता से आशीर्वाद लेकर और मंदिर में माथा टेककर मतगणना स्थल को-ऑपरेटिव कॉलेज की ओर हुए रवानाजम्मू कश्मीर : भाजपा-7, पीडीपी-10 और एनसी-1 सीटों से आगेइचागढ़ से भाजपा के साधूचराब महातो पहले रुझान में आगे चल रहे हैं, यहां मतदान से पहले हिंसा हुई थीझारखंड : घरवा में मतगणना केंद्र के बाहर कर्मचारियों की लंबी कतार लगी हैझारखंड : सुबह 8.30 बजे देवघर में मतगणना शुरू होने की संभावनाझारखंड : धनबाद में मतगणनाकर्मी प्रभात कुमार नहीं पहुंचे मतगणना केंद्र, प्रशासन में खोजबीन शुरू, झरिया विधानसभा में थी ड्यूटीझारखंड : धनबाद, निरसा और टुंडी में मतगणना शुरूझारखंड का पहला रुझान भाजपा के पक्ष मेंझारखंड : सबसे पहले पोस्टल बैलेट की गणना हो रही है, इसके बाद ईवीएम से मतगणना शुरू होगीझारखंड : पूर्वी सिंहभूम जिले की सभी छह विधानसभा सीटों के लिए मतगणना को-ऑपरेटिव कॉलेज परिसर में शुरू हो गई हैझारखंड और जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव के नतीजों का पहला रुझान कुछ देर मेंझारखंड और जम्मू कश्मीर में हुए पांच चरणों के मतदान के बाद आज वोटों की गिनती शुरूझारखंड : घरवा में मतगणना केंद्र के बाहर कर्मचारियों की लंबी कतार लगी हैझारखंड के सभी मतगणना कर्मचारी मतगणना केंद्र पर पहुंच चुके हैंझारखंड : धनबाद सीट से भाजपा प्रत्याशी राज सिन्हा पहुंचे मतगणना केंद्रझारखंड : बोकारो में शुरू हुई मतगणना की तैयारीझारखंड के सभी महागणना केन्द्र पर सुरक्षाकर्मी तैनातश्रीनगर जिले की आठ विधानसभा सीटों के लिए शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन कॉम्प्लेक्स में वोटों की गिनती की जाएगी।जम्मू कश्मीर में मतगणना में कोई अवरोध पैदा ना हो इसके लिए सरकार ने कुछ इलाकों में धारा 144 के तहत प्रतिबंध लगाया है।सुरक्षा की दृष्टि से संवेदनशील माने जाने वाले जम्मू-कश्मीर में मतगणना स्थलों की सुरक्षा के कड़े इंतजाम कर दिए गए हैं।जम्मू कश्मीर में 87 विधानसभा सीटों के लिए मतगणना होगी। राज्य में 28 महिलाओं समेत 831 प्रत्याशी मैदान में हैं।झारखंड में मतगणना का काम 24 केंद्रों में किया जाएगा।81 विधानसभा सीट वाले झारखंड में 16 महिलाओं सहित कुल 208 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला होगा।मतगणना स्थलों पर कड़ी सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। मतगणना को लेकर प्रत्याशियों की धड़कनें बढ़ गई हैं।झारखंड में विधानसभा की 81 और जम्मू-कश्मीर में 87 सीटें हैंझारखंड में मतदान केन्द्रों के बाहर सुबह से ही सभी पार्टी के कार्यकर्ता जुटेमतगणना केन्द्रों पर तैयारियों आखिरी दौर मेंझारखंड और जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव के नतीजों के रुझान जानिए हिन्दुस्तान के साथ
महान पिता और उनकी पुत्रियां
रामचन्द्र गुहा, प्रसिद्ध इतिहासकार First Published:30-11-12 07:12 PM

अपने भारत दौरे में एक भाषण के दौरान आंग सान सू की से पूछा गया कि बर्मा की फौज के बारे में उनके क्या विचार हैं? उन्होंने कहा कि वे फौजी शासन के खिलाफ हैं फौजियों की निरंकुशता के भी खिलाफ हैं लेकिन फौज के खिलाफ नहीं हैं। वे फौज के खिलाफ कैसे हो सकती हैं जबकि बर्मा की फौज के संस्थापक उनके पिता आंग सान थे। उन्होंने उम्मीद जताई कि फौज उनके पिता कि बताई हुई मर्यादाओं में लौट जाएगी और देश के लिए काम करेगी, जनता के खिलाफ नहीं।

सू की से उनके पिता की तारीफ सुनकर मुझे एक सुबह याद आई जो मैंने नई दिल्ली में पाकिस्तानी दूतावास के प्रतीक्षा कक्ष में बिताई थी। यह 1989 का जनवरी महीना था। एक दशक से ज्यादा फौजी शासन के बाद पाकिस्तान में चुनाव हुए थे और बेनजीर भुट्टो प्रधानमंत्री चुनी गईं थी। मुझे पता था कि मुझे अपने वीजा इंटरव्यू के लिए एक घंटे से भी ज्यादा इंतजार करना पड़ेगा इसलिए मैं एक किताब साथ ले गया था। लेकिन सुरक्षा अधिकारियों ने वह किताब दरवाजे पर ही रखवा ली थी। ऐसे में इंतजार करते हुए मुझे वहीं आसपास पड़ी हुई छपी हुई सामग्री का सहारा था। वहां उर्दू की कुछ पत्रिकाएं और अंग्रेजी के पर्चे पड़े हुए थे।

वे सारे देश की नई प्रधानमंत्री के भाषणों के पर्चे थे। उन्हें सत्ता में आए मुश्किल से दो साल हुए थे लेकिन यहां वहां ढेर सारे भाषण दे डाले थे। मुझे याद है कि उनमें से एक भाषण रावलपिंडी गोल्फ क्लब में हुआ था जहां श्रोताओं में सिर्फ फौजी थे। अपने हर भाषण में बेनजीर ने ज्यादातर अपने पिता के बारे में बोला था कि कैसे वे एक लोकतांत्रिक और मजबूत पाकिस्तान बनाना चाहते थे और कैसे वे उनके इस सपने को पूरा करने वाली हैं। उनके पिता ने उनका राजनैतिक प्रशिक्षण बहुत जल्दी ही शुरू कर दिया था जब वे 17 साल की उम्र में अपने पिता के साथ शिमला समझौते के वक्त आईं थीं। उन्होंने बेनजीर को ऑक्सफोर्ड छात्र संगठन अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ने के लिए प्रोत्साहित किया था।

वे चाहते थे कि उनकी बेटी उनकी राजनैतिक उत्तराधिकारी बने। भुट्टो 1971 में प्रधानमंत्री चुने गए तो उन्हें उम्मीद थी कि वे कई दशकों तक प्रधानमंत्री बने रहेंगे। लेकिन 1977 में उन्हें फौजी बगावत के जरिये कुर्सी से उतार दिया गया और 1979 में फांसी पर लटका दिया गया। दस साल बाद जब आखिरकार उनकी बेटी प्रधानमंत्री बनी तो उन्होंने अपने पिता का महिमामंडन करने में कोई वक्त नहीं लगाया। अपने पिता के प्रति उनका प्रेम और उत्साह इतना था कि दो ही महीने में पाकिस्तानी दूतावासों में ऐसे पर्चो के ढेर लग गए जिनमें जुल्फीकार अली भुट्टो को मोहम्मद अली जिन्ना के बाद महानतम पाकिस्तानी नेता बताया गया था।

जुल्फीकार अली भुट्टो के कुछ गड़बड़ कामों में एक 1970-71 में पूर्वी बंगाल में पाकिस्तानी फौजों द्वारा किए गए अत्याचारों का समर्थन था। इसका जिक्र बेनजीर अपने भाषणों में नहीं करती थी। बांग्लादेश के युद्ध में भुट्टो और जनरल याहया खान एकतरफ थे और शेख मुजीबुर रहमान दूसरी तरफ। यह भी एक विरोधाभास है कि बाद में मुजीब की बेटी शेख हसीना एक किस्म से बांग्लादेशी बेनजीर भुट्टो बन गई। बेनजीर की ही तरह शेख हसीना ने भी छात्र राजनीति में हिस्सा लिया था। जब उनके पिता-मां और तीन भाईयों का 1975 में कत्ल कर दिया गया तब शेख हसीना जर्मनी के दौरे पर थीं इसीलिए बच गईं।

भुट्टो की ही तरह मुजीब को मारने वाले लोग भी फौजी अफसर थे। शेख हसीना को जान का खतरा था इसलिए वे विदेशों में ही रही और 1981 में ही बांग्लादेश लौटी। तब उन्होंने अपने पिता की अवामी लीग की सदारत अपने हाथों में ली। 15 साल तक वे और उनकी पार्टी विपक्ष में रहे जबकि फौजी या फौजियों से समर्थित राजनेता सत्ता में रहे। 1996 में वे आखिरकार प्रधानमंत्री बनी। वे सिर्फ पांच साल प्रधानमंत्री रह पाई और उन्हें चुनाव में बेगम खालिदा जिया ने हरा दिया जो एक पूर्व राष्ट्रपति की पत्नी थी जिन्हें कत्ल कर दिया गया था। 2008 में शेख हसीना फिर सत्ता में आई और बेनजीर की ही तरह उन्होंने भी फौज को किनारे रखना चाहा और अपने शहीद पिता के महिमामंडन में कोई कसर नहीं छोड़ी।

बेनजीर और शेख हसीना अपने-अपने देश में सरकार संभालने वाली पहली महिलाएं थीं। उनके पहले भारत में इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री बनी थीं और उनके भी पहले सिरीमाओ भंडारनायके श्रीलंका की प्रधानमंत्री बनी थी। सितम्बर 1959 में श्रीमाओ के पति तत्कालीन प्रधानमंत्री आरडी भंडारनायके का कत्ल कर दिया गया। जब कुछ महीनों बाद सरकार गिर गई तब अराजनैतिक सिरीमाओ को श्रीलंका फ्रीडम पार्टी को एकजुट रखने के लिए राजनीति में आना पड़ा। जुलाई 1960 में सिरीमाओ के नेतृत्व में पार्टी ने चुनाव जीता और सिरीमाओ पहली बार प्रधानमंत्री बनी।

सिरीमाओ की तरह ही सोनिया गांधी का किस्सा है। अगर उनके पति की हत्या नहीं होती तो सोनिया भी राजनीति में नहीं आती। राजनीति से उनका अलगाव इतना था कि कांग्रेस पार्टी की सात साल की कोशिशों के बाद ही वे राजनीति में आईं। लेकिन जब वे कांग्रेस अध्यक्ष बनी तो वे पूरी तरह अपने काम में जुट गई। हालांकि 2004 में वे प्रधानमंत्री नहीं बनी तब भी सत्तारूढ़ गठबंधन की नेता दरअसल वही हैं।

यह एक अनोखी और ध्यान खींचने वाली दक्षिण एशियाई घटना है। सत्ता के सर्वोच्च स्तर पर यहां महिलाएं अपने पतियों या पिताओं की आतंकवादियों या फौजियों द्वारा हत्या के बाद आई हैं। इसके बावजूद सू की कहानी कई वजहों से सबसे अलग हैं। उनके पिता जुलाई 1947 में मारे गए थे जबकि उनकी बेटी पूरे 40 वर्षों बाद राजनीति में आई। वे अपनी बीमार मां को देखने अपने देश गई थीं और तभी फौजी शासन के खिलाफ एक जनविद्रोह भड़क उठा था और वे उसमें शामिल हो गईं।

सू की ने राजनीति ऊपर से नहीं नीचे से शुरू की है। उन्होंने राजनीति में ज्यादातर वक्त जेल में या नजरबंदी में बिताया। दूसरी ओर सिरीमाओ बेनजीर, हसीना, खालिदा और सोनिया को बना-बनाया और समृद्ध पार्टी संगठन मिला था, जिसने उन्हें सत्ता की शीर्ष पर पहुंचाया। 1988 में वे राजनीति में आई थीं। 24 साल बाद वे सिर्फ सांसद हैं।

सू की का रास्ता बहुत कठिन रहा है। उनके कष्टों ने और विपक्ष में बिताए दिनों ने उन्हें शारीरिक और नैतिक बल दिया है। उन्हें सत्ता तश्तरी में नहीं मिली है। अगर वे प्रधानमंत्री बनती हैं तो इसलिए नहीं कि आंग सान की बेटी हैं बल्कि वे लोकतंत्र के लिए बर्मा के जनसंघर्ष की प्रतीक, एकता बिन्दु और मुख्य नेता एक साथ हैं।
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

 

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड