गुरुवार, 24 अप्रैल, 2014 | 03:40 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    केजरीवाल के इस्तीफे ने पार्टी की संभावना धूमिल की: सिसोदिया मोदी के पाकिस्तान संबंधी टिप्पणी से उत्साहित हैं पाक उच्चायुक्त हिन्दुस्तान के वोट की चोट कार्यक्रम के तहत धनबाद कैंडल-मार्च आयोग ने आजम खान को फिर भेजा कारण बताओ नोटिस गिरफ्तारी वारंट के बाद राजद सांसद प्रभुनाथ सिंह लापता पीसीएस-14 के 300 पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू मोदी रोड शो के बाद करेंगे वाराणसी में नामांकन दाखिल लोकसभा चुनाव का एक और महत्वपूर्ण चरण आज विमान के भीतर मोबाइल, लैपटॉप के इस्तेमाल की इजाजत जियो-टीवी के खिलाफ सरकार ने दिए सख्त कार्रवाई के निर्देश
 
सर्वधर्मान परित्यज्य मामेकं शरणम् ब्रज।
उर्मिल कुमार थपलियाल
First Published:30-11-12 07:10 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

अब जब अगले आम चुनाव के उम्मीदवारों की सूचियां बनने लगी हैं, वह हैं कि किसी के हत्थे नहीं चढ़ रहे। सरकार के सामने वह तृणमूल कांग्रेस की तरह बिदक रहें हैं। सब उन्हें अपना उम्मीदवार बनाना चाहते हैं। उनके पास अपनी एक राजनीति है, पर सिद्धांत नहीं है। अनैतिक व्यापार उनका पुराना धंधा है। बगैर श्रम किए धन कमाना उनका शौक है। इंटर तक की शिक्षा उनके काइयांपन का कुछ नहीं बिगाड़ पाई थी। वह ऊंची चीज थे, अत: नीचता उनके आचरण में थी। जुआ खेलते तो द्रौपदी को अपने पास रखकर शेष राजपाट वापस कर देते। जो उनके चरण पकड़ता, वह पैर खींच जूता आगे कर देते।

उनका रुआब ऐसा कि देश के कई प्रतिभावान पत्रकार उनके पे रोल पर थे। कुछ जाने-माने प्रगतिशील बुद्धिजीवियों को उन्होंने सम्मान, पुरस्कार, अनुदान आदि देकर उपकृत किया। सो कवि उनका स्तुति गान करने लगे। उपन्यासकारों ने उनकी दस-बीस जीवनियां लिख डालीं। कुछ लोग उन्हें गांधी-नेहरू का अवतार मानते। कुछ उनमें भगत सिंह व गुरु गोलवलकर की छवि देखते। कांग्रेस उनमें जनाधार देखती और भाजपा धनाधार। हिंदुओं के उत्सव में जाते, तो अयोध्या में मंदिर बनवाने का वायदा करते। मुस्लिम मजलिसों में जाते, तो बाबरी-ध्वंस के खिलाफ आग उगलते। वह इधर या उधर नहीं, एकदम दरमियान में थे। लिंगों में उभय लिंग जैसे।

एक दिन वह सभी दलों से बोले, चमचागिरी बंद करो। मैं प्रत्येक दल के उम्मीदवार के रूप में सभी सीटों से चुनाव लड़ंगा। किसी एक सीट से जीतकर बाकी से इस्तीफा देता रहूंगा। कोई भी विरोधी दल मेरे खिलाफ उम्मीदवार नहीं उतारेगा। इसके लिए मैं मुंहमांगा पैसा दूंगा। जो जितना फूहड़ व जाहिल होता है, वही असली लोकतंत्रीय भी होता है। पढ़े-लिखे बौद्धिक लोगों से तो सामंतवाद की बू आने लगती है।

जाओ मेरे कहे पर विचार करो। हर सूची मे मेरा नाम होना चाहिए। निर्दलीयों में भी। सुना है कि इसके बाद सबको सांप सूंघ गया है। सब संविधान विषेषज्ञों को घेरे हुए हैं। किसी को कोई हल नहीं सूझ रहा। उनके ठेंगे से। इन दिनों लोकतंत्र निलम्बित चल रहा है, एक  सिर्फ उनके लिए।

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
Image Loadingकाला धन करदाताओं को देंगे,एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में मोदी ने कहा
नरेन्द्र मोदी से ‘हिन्दुस्तान’ ने ई-मेल के जरिए उनसे जुड़े तमाम विवादों और सवालों पर सीधे सवाल किए। जवाब भी वैसे ही मिले...सपाट पर बेहद संयत। वे कठिन परिश्रम का वादा कर देश को आगे बढ़ाने की इच्छा जताते हैं।
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
आंशिक बादलसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 06:47 AM
 : 06:20 PM
 : 68 %
अधिकतम
तापमान
20°
.
|
न्यूनतम
तापमान
13°