सोमवार, 31 अगस्त, 2015 | 20:48 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
झारखंडः विधायक निर्मला देवी की जमानत याचिका खारिज।आरपी वातल को वित्त सचिव नियुक्त किया गया।एलसी गोयल को इंडियन ट्रेड प्रमोशन आर्गेनाइजेशन (आईटीपीओ) का सीएमडी बनाया गया।पेट्रोल दो रुपये और डीजल 50 पैसे सस्ता।मुरादाबाद के काशीपुर बस स्टैंड पर अवैध वसूली को लेकर यूनियन वालों में मारपीट। पुलिस ने यूनियन अध्यक्ष को लिया हिरासत में। विरोध में बस चालकों ने की हड़ताल।जीआरपी सिपाही बनकर रेलवे स्टेशन पर यात्री को लूटपाट।जनता एक्सप्रेस में शाहजहांपुर से हरिद्वार जाते समय मुरादाबाद स्टेशन पर उतर गया था यात्री। यात्री शाहजहांपुर का रहने वाला।जीआरपी ने पीड़ित के बताए हुलिए के आधार पर डाली दबिश। प्लेटफार्म पांच पर धरे गए दोनों लुटेरे।मेरठ: दो दिन से लापता युवक की लाश गाजियाबाद के निवाड़ी में मिली, परिजनों का हंगामा
सोच को हल्का सा मोड़ दें
राजीव कटारा First Published:30-11-2012 07:09:57 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

ये क्या हो रहा है? वह परेशान हो रहे हैं। उनका सोचा-समझा सब उलट गया है। सभी संगी-साथी धीरे-धीरे कटने लगे हैं। एक हताशा उन्हें घेरने लगी है। ‘हम जब परेशानी में होते हैं, तो यह देखने की कोशिश करनी चाहिए कि इस खराब में भी अच्छा क्या निकल रहा है? यहीं से चीजें बदल जाती हैं।’ यह मानना है जेफ वाइज का। वह मशहूर लेखक हैं। मनोविज्ञान पर उनकी किताब ऐक्सट्रीम फियर: द साइंस ऑफ योर माइंड इन डैंजर खासा चर्चित हुई है। अक्सर हम एक सीधी लकीर पर सोचते हैं। उसे लेकर ही उम्मीदों-अरमानों में जीने लगते हैं। दिक्कत तब आती है, जब वह लकीर टेढ़ी पड़ जाती है। जाहिर है हम परेशान हो जाते हैं। लेकिन परेशान होने से तो कोई रास्ता निकलता नहीं है। और रास्ता निकाले बिना बात बनती नहीं।

दरअसल, टेढ़ी हो गई लकीर को सीधा करने के लिए अपनी सोच पर काम करना होता है। अपनी सोच को हल्का सा मोड़ देने की जरूरत होती है। और थोड़ी सी सोच को मोड़ते ही सब कुछ बदल जाता है। हमारी जिंदगी में आने वाली हर परेशानी हमें कुछ न कुछ सिखा कर ही जाती है। वह एक नया अनुभव दे कर जाती है। हम कुछ हों या न हों, लेकिन वह हमें थोड़ा सा समझदार बना कर तो जाती ही है। एक बड़ी समझ वह यह दे कर जाती है कि हमें चीजों को महज एक ही कोण से नहीं देखना चाहिए। उसे देखने के और भी कोण होते हैं। बस वह कोण हमें दिखलाई नहीं पड़ता। परेशानी में जब हमें छटपटाहट होती है, तो हम इधर उधर हाथ मारते हैं। और उसीमें कोई कोण भी निकाल ही लेते हैं। एक खराब दौर से निकलने के बाद अक्सर हम महसूस करते हैं कि कुछ तो अच्छा उसमें से भी निकला ही है। अगले खराब दौर का यही संबल बनता है।          

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingभारत ने कसा शिकंजा, जीत से सिर्फ सात विकेट दूर
पुछल्ले बल्लेबाजों के उपयोगी योगदान से श्रीलंका के सामने बड़ा लक्ष्य रखने वाले भारत ने शुरू में ही तीन विकेट निकालकर तीसरे और अंतिम टेस्ट क्रिकेट मैच पर शिकंजा कसने के साथ श्रीलंकाई सरजमीं पर 22 साल बाद पहली टेस्ट सीरीज जीतने की तरफ मजबूत कदम बढ़ाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

कहां रखें पैसे
पत्नी: मैं जहां भी पैसा रखती हूं हमारा बेटा वहां से चुरा लेता है। मेरी समझ नहीं आ रहा कि पैसे कहां रखूं?
पति: पैसे उसकी किताबों में रख दो, वो उन्हें कभी नहीं छूता।