शनिवार, 22 नवम्बर, 2014 | 14:18 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मुलायम : गरीबों को भी ऐसा सम्मान देंगेआज से कई योजनाओं की शुरुआत। विधवाओं का रोजगार देना है : मुलायममुलायम सिंह ने अपने 75वें जन्मदिन पर कहा, जिंदगी का सबसे बड़ा सम्मान मिलामोदी : देखते ही देखते हिन्दुस्तान की रौनक बदल जायेगीस्किल इंडिया, डिजिटल इंडिया का काम कश्मीर से शुरू होगा : मोदीमोदी : जम्मू कश्मीर को किसी परिवार के यहां गिरवी नहीं रखा जायेगाजम्मू कश्मीर के सपने किसी के आश्रित नहीं होंगे : मोदीमोदी : आपके प्यार को विकास करके लौटाऊंगापूर्ण बहुमत की सरकार बनानी है : मोदीमोदी : जम्मू कश्मीर के लोगों दोनों परिवारों का सज़ा दोगे तभी वो सुधरेंगेसारी दुनिया को कश्मीर का नज़ारा दिखाना है : मोदीमोदी : बिना भेद-भाव के सबका साथ, सबका विकास के नारे के साथ चलेंगेराजनीति को संप्रदाय से मत जोड़िये, कश्मीरी कश्मीरी होता है : मोदीमोदी : पैसों की कभी कमी नहीं होने देंगेकच्छ का विकास हुआ, कश्मीर का भी होगा : मोदीकश्मीर में जब भी आया नई योजनायें लेकर आया :मोदीमोदी :चेनाब पास में है लेकिन पीने का पानी नहीं मिलता, इसके लिये कौन जिम्मेदार हैअकेले जम्मू-कश्मीर की ताकत से पूरे देश का अंधेरा मिट सकता है :मोदीमोदी :वादियों में फिर शूटिंग कराऊंगा, यहां के लोगों को रोज़गार मिलना चाहियेआपके दुख को बांटने के लिये बिना सोचे एक पल में आ गया :मोदीमोदी : कश्मीर में दो परिवारों की 5-5 सालों में माल लूटने की मिलीभगत हैसिर्फ दो ही परिवार का राज चलेगा क्या, यहां के नौजवानों में नूर नहीं है क्या : मोदीमोदी : गुजरात से हर महीने कई सैलानी कश्मीर आते हैं, यहां इमानदारी का माहौल हैपीएम बनने के बाद जुलाई से हर रोज़ कश्मार आ रहा हूं : मोदीमोदी : बहुत हो चुका भाई-बहनों कब तक लोगों को परेशान होते देखेंगेजम्मू कश्मीर के लोग विकास की बात सुनना चाहते हैं : मोदीमोदी : बीते 10 साल में कश्मीर की हालत खराब हुई हैअटल जी के काम को पूरा करूंगा : मोदीकश्मीर पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, कहा कश्मीर के साथ मेरा लगाव है
सम्मान की लड़ाई और लड़ाकों का कंफर्ट जोन
नीरज बधवार First Published:29-11-12 10:41 PM

‘अहं’ आहत होने पर इंसान सम्मान की लड़ाई लड़ता है। वजूद को बचाए रखने के लिए लड़ाई जरूरी है, इसलिए लड़ने से पहले बहुत सावधानी से इस बात का चयन कर लें कि आपको किस बात पर ‘अहं’ आहत करवाना है।

दुनिया अगर इस बात के लिए भारत को लानत भेजती है कि सवा अरब की आबादी में एक भी शख्स ऐसा नहीं, जो सौ मील प्रति घंटा की रफ्तार से गेंद फेंक पाए, तो आपको यह सुनकर हर्ट नहीं होना है। भले आप मोहल्ले के ब्रेट ली क्यों न कहलाते हों। सम्मान की लड़ाई आपको यह सुविधा देती है कि दुश्मन भी आप चुनें और रणक्षेत्र भी। इसलिए जिस गली में आप क्रिकेट खेलते हैं, उसे रणक्षेत्र मानें और जिस मरियल से लड़के से आपको बेबात की चिढ़ है, उससे कहिए, तेरे को तो मैं बताऊंगा, तू जरा बैटिंग करने अइयो!

यह ऐसा नुस्खा है, जिसे आप कहीं भी लागू कर कुछ ढंग का न कर पाने के व्यर्थता बोध से मुक्त हो सकते हैं। मसलन, आपकी बिरादरी का कोई भी लड़का अगर आठ-दस कोशिशों के बाद भी दसवीं पास नहीं कर पा रहा, आपके समाज में बच्चों के दूध के दांत भी तंबाकू खाने से खराब हो जाते हैं, तो इन सबसे आपके माथे पर शिकन नहीं आनी चाहिए। पढ़ने के लिए, कुछ रचनात्मक करने के लिए आपको दुनिया से लोहा लेना होगा और यह आपसे नहीं होगा, आप तो पूरी जिंदगी पार्क की बेंच का लोहा बेचकर दारू पीते रहे हैं।

दुश्मन के इलाके में जाकर हाथ-पांव तुड़वाने से अच्छा है कि अपने ही इलाके में दुश्मन तलाशिए। ऐसे में, औरत और प्रेमियों से आसान शिकार भला और कौन होगा? आप कह दीजिए.. आज से लड़कियां मोबाइल इस्तेमाल नहीं करेंगी, जिन्स नहीं पहनेंगी। लड़के-लड़कियां प्यार नहीं करेंगे। फरमान सुनाते जाइए और धमकी भी दे दीजिए कि किसी ने अगर ऐसा किया, तो फिर देख लेंगे। इन फरमानों को अपने ‘अहं’ से जोड़ लीजिए। औरत जात आपसे लड़ नहीं सकती। दो लोग पूरे समाज से भिड़ नहीं सकते। ऐसा करते जाइए, क्योंकि सम्मान की लड़ाई का इससे बेहतर कम्फर्ट जोन आपको कहीं और नहीं मिलेगा।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ