शुक्रवार, 18 अप्रैल, 2014 | 05:46 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    सीडी बांटने पर कांग्रेस पर चुनाव आयोग करे कार्रवाई: उमा ईदी अमीन, हिटलर, मुसोलिनी की तरह हैं मोदी: सिंघवी उत्तर प्रदेश, बिहार, बंगाल और छत्तीसगढ़ में रिकॉर्ड मतदान राजग की सरकार बनी तो सिर्फ मोदी प्रधानमंत्री: राजनाथ राहुल बतायें लोगों को कौन बना रहा मूर्ख: भाजपा मोदी मुठभेड़ मुख्यमंत्री और झूठ बोलने के आदी: चिदंबरम  जानिए देशभर में हुए मतदान के पल-पल की खबरें रामविलास पासवान के हलफनामे में पहली पत्नी का नाम नहीं चुनाव आयोग ने की शाह, आजम के बयानों की निंदा अपराध किया तो फांसी चढ़ा दो, माफी नहीं मांगूंगा: मोदी
 
बात एक पत्र की
नीरज कुमार तिवारी
First Published:28-11-12 10:03 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

दादाजी की आंखों में आंसू थे। उस पोते ने आखिर उन्हें एक पत्र लिखा था, जो पत्र लिखने की उनकी आदत का मजाक उड़ाया करता था। आश्चर्य इस बात को लेकर भी था कि यह पत्र उस युवा का था, जो एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करता था।

थिंकर और परफॉर्मर गैरिसन कीलर ने एक बेहतरीन किताब लिखी है- लिविंग होम। किताब में वह लिखते हैं कि पत्र लिखना इस दुनिया का सरलतम काम है, जो लुप्त हो रहा है। वह कहते हैं- पत्र जैसा कोई उपहार नहीं, इसे देने पर विचार मत कीजिए, बस दीजिए। गैरिसन कहते हैं कि किसी भी पत्र को लिखते समय व्याकरण व शैली की बात सोचना फिजूल है। आप बस अपने समाचार देते जाइए। आप कहां गए, किस-किस से मिले, उन्होंने क्या कहा, आप क्या सोचते हैं? इससे न केवल आप धन्य होंगे, बल्कि पत्र पाने वाला भी। पत्र हमें एक भावनात्मक सूत्र में बंधे होने का एहसास कराते हैं। अंग्रेजी के प्रसिद्ध साहित्यकार लॉर्ड बायरन ने पत्र को एकांत का साथी कहा है। उन्होंने कहा था कि अगर तुम एकांत के सबसे अच्छे मित्र की तलाश में हो, तो पत्र लिखो। यह जीवन की धूप-छांव में सबसे ईमानदारी भरा पल होगा, जो तुम्हें अपने सबसे करीब ले पाएगा। बायरन मानते थे कि पत्र लेखन एक प्रकार का चिंतन है, जो मस्तिष्क को स्थिरता देता है। पत्र लिखना जितना मायने रखता है, उतना ही उसे पढ़ना भी। दुनिया के किसी खामोश कोने में बैठकर दूसरे कोने में बैठे किसी अनाम साथी से संवाद, ऊष्मा से ज्यादा उत्तेजना का सबब हो जाता है। यह एकालाप नहीं, बल्कि अकेलेपन से जोड़ने और अपनी संवेदनाओं को मजबूत करने का जरिया है। पत्र को लेकर आज भी लोग गंभीर हैं। दिलीप कुमार ने ब्लैक  फिल्म देखने के बाद अमिताभ बच्चान को बधाई का पत्र लिखा। अमिताभ ने यह पत्र ड्रॉइंग रूम में सजा दिया है। क्या पत्रों को हम ऐसी अहमियत देते हैं?
 

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
 
टिप्पणियाँ
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
आंशिक बादलसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 06:47 AM
 : 06:20 PM
 : 68 %
अधिकतम
तापमान
20°
.
|
न्यूनतम
तापमान
13°