मंगलवार, 05 मई, 2015 | 08:40 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पापुआ न्यू गिनी में 7.5 तीव्रता के भूकंप के झटके, प्रशांत महासागर में सुनामी का अलर्ट: टीवी रिपोर्ट।
संन्यास और बाजार
First Published:10-04-12 08:53 PM

सचिन तेंदुलकर ने 25 मार्च को मुंबई में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई और अपनी इच्छा जाहिर की कि वह अगले विश्व कप (2015) में भारत का प्रतिनिधित्व करना चाहते हैं। वैसे देखिए, तो इसमें कोई बड़ी बात नहीं है। जिन भारतीय खिलाड़ियों ने व्यक्तिगत रूप अपने नाम सबसे ज्यादा रिकॉर्ड बनाए हैं, उनमें सचिन बेजोड़ हैं। वह क्रिकेट के ऐसे अकेले खिलाड़ी हैं, जिनके पास लगभग वे सारे रिकॉर्ड हैं, जो दुनिया में किसी भी क्रिकेटर के पास नहीं हैं, हालांकि इस रिकॉर्ड की कीमत देश को कई बार मैच हारकर चुकानी पड़ी है। सचिन को चाहने वाले लोग तरह-तरह के तर्क से लोगों को यह बताने में कामयाब हो जाते हैं कि सचिन जैसा महान खिलाड़ी जब तक खेलना चाहे, इस पर किसी को क्यों आपत्ति होनी चाहिए। पर सवाल कुछ और भी हैं। सचिन का जब 1989 में भारतीय क्रिकेट में पदार्पण हुआ, उस समय देश में उदारीकरण की सुगबुगाहट थी। क्रिकेट में तो उदारीकरण की पहली पैदाइश सचिन ही थे, जिसे हम ‘ब्रांड सचिन’ कह सकते हैं। वैसे तो, उस वक्त एक अन्य स्टार कपिल देव भी थे, लेकिन वह अपने कैरियर की ढलान पर थे, इसलिए उन्हें बाजार का इतना लाभ नहीं मिला। आकलन है कि आज सचिन की वार्षिक आय लगभग 400 करोड़ रुपये है। इसलिए यह अकारण नहीं हुआ है कि जब सचिन मुंबई में पूरी दुनिया के मीडिया के सामने अपने भविष्य की योजनाएं बता रहे थे, तो उनके बैकग्राउंड में उन सभी 17 ब्रांडों के लोगो लगे थे, जिनका वह विज्ञापन करते हैं।
जनपथ में जितेंद्र कुमार

 

 
 
|
 
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
जरूर पढ़ें
Image Loadingकेकेआर की सनराइजर्स पर शानदार जीत
तेज गेंदबाज उमेश यादव ने पहले ही ओवर में सनराइजर्स हैदराबाद के दो अहम विकेट चटकाकर दबाव बनाया और बाद में ब्राड हाग ने इस लय को कायम रखते हुए कोलकाता नाइट राइडर्स को आईपीएल के मैच में आज 35 रन से जीत दिलाई।