Image Loading dramatic dispute - Hindustan
बुधवार, 29 मार्च, 2017 | 05:04 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पढ़ें रात 11 बजे की टॉप खबरें, शुभरात्रि
  • आपकी अंकराशि: जानिए कैसा रहेगा आपका कल का दिन
  • जरूर पढ़ें: दिनभर की 10 बड़ी रोचक खबरें
  • जम्मू और कश्मीरः पूरे राज्य में कल रेलवे सेवाएं निलंबित रखी जाएंगी
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अब तक की 10 बड़ी खबरें
  • धर्म नक्षत्र: पढ़ें आस्था, नवरात्रि, ज्योतिष, वास्तु से जुड़ी 10 बड़ी खबरें
  • अमेरिका के व्हाइट हाउस में संदिग्ध बैग मिलाः मीडिया रिपोर्ट्स
  • फीफा ने लियोनल मैस्सी को मैच अधिकारी का अपमान करने पर अगले चार वर्ल्ड कप...
  • बॉलीवुड मसाला: अरबाज के सवाल पर मलाइका को आया गुस्सा, यहां पढ़ें, बॉलीवुड की 10...
  • बडगाम मुठभेड़: CRPF के 23 और राष्ट्रीय राइफल्स का एक जवान पत्थरबाजी के दौरान हुआ घाय
  • हिन्दुस्तान Jobs: बिहार इंडस्ट्रियल एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी में हो रही हैं...
  • राज्यों की खबरें : पढ़ें, दिनभर की 10 प्रमुख खबरें
  • टॉप 10 न्यूज़: पढ़े देश की अब तक की बड़ी खबरें
  • यूपी: लखनऊ सचिवालय के बापू भवन की पहली मंजिल में लगी आग।
  • पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी को हार्ट में तकलीफ के बाद लखनऊ के अस्पताल...

नाटकीय होता विवाद

First Published:17-03-2017 10:10:59 PMLast Updated:17-03-2017 10:10:59 PM

हमारी न्यायपालिका की उपलब्धियां बहुत बड़ी हैं, उसने कई तरह से इतिहास रचा है। लेकिन आजकल न्यायपालिका जिस नए इतिहास को बनाती दिख रही है, वह परेशान करने वाला तो है ही, साथ ही हास्यास्पद भी हो गया है। कोलकाता उच्च न्यायालय के न्यायाधीश सीएस कर्णन के खिलाफ चल रहा अवमानना का मामला ऐसी जगह पहुंच गया है, जिसमें खुद सुप्रीम कोर्ट को भी नहीं समझ आ रहा होगा कि इसमें क्या किया जाए? न्यायाधीश कर्णन जब मद्रास हाईकोर्ट में थे, तब वहां एक कनिष्ठ न्यायिक अधिकारी की नियुक्ति को लेकर कुछ विवाद हुआ था, जिसे लेकर उन्होंने नियुक्ति में शामिल अपने सहयोगी जजों के खिलाफ ही सुनवाई शुरू कर दी थी। विवाद जब बढ़ा, तो उन्होंने हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के खिलाफ ही मानहानि का मामला चलाने की धमकी दी थी। बाद में जब सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप से यह सुनवाई रुकवाई गई, तो जस्टिस कर्णन ने भ्रष्टाचार का मुद्दा न सिर्फ सार्वजनिक रूप से उठाया, बल्कि इसे लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी भी लिखी। विवाद यही नहीं रुका और जब यह लगातार बढ़ता गया, तो सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस कर्णन को न सिर्फ दायित्व से मुक्त कर दिया, बल्कि उनका तबादला भी कोलकाता उच्च न्यायालय में कर दिया। इसके बाद जस्टिस कर्णन ने तबादले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे दी। दूसरी तरफ, मद्रास हाईकोर्ट का आरोप था कि जस्टिस कर्णन के कब्जे में अदालत की कई फाइलें हैं, जिन्हें वह लौटा नहीं रहे। ऐसे ही आरोपों के बीच उनके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अवमानना का मामला चलाया गया और फिर देश के इतिहास में पहली बार किसी कार्यरत वरिष्ठ जज के खिलाफ जमानती वारंट जारी करना पड़ा। पश्चिम बंगाल के पुलिस चीफ से कहा गया कि वह खुद जाकर वारंट की तामील करवाएं। इस पर जस्टिस कर्णन ने कहा कि यह सब इसलिए किया जा रहा है, क्योंकि वह दलित हैं।

शुक्रवार को जब वारंट तामील करने का प्रहसन शुरू हुआ, तो जो दृश्य दिखाई दिया, वह कुछ ज्यादा ही नाटकीय बन गया। वारंट की तामील करवाने के लिए पश्चिम बंगाल के पुलिस चीफ जब जस्टिस कर्णन के निवास पर पहुंचे, तो इस काम के लिए उनके साथ 100 पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई। यह अपने आप में न समझ में आने वाली बात थी, क्योंकि जस्टिस कर्णन कोई अपराधी नहीं हैं, जिनके भाग जाने का डर हो। इस कार्रवाई से भड़के जस्टिस कर्णन ने वहीं अपने लॉन में ही अदालत लगाने की घोषणा करते हुए सीबीआई को आदेश दिया कि वह अवमानना मामले की सुनवाई कर रहे सात जजों के खिलाफ जांच करे। साथ ही उन्होंने जजों के खिलाफ मानहानि का मामला चलाने की बात कही और 14 करोड़ रुपये क्षतिपूर्ति की मांग भी की।

अब इस मामले ने सुप्रीम कोर्ट के सामने भी धर्म-संकट खड़ा कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट किसी भी हाईकोर्ट के जज को हटा नहीं सकता। किसी भी न्यायाधीश को हटाने का एकमात्र तरीका यही है कि उसके खिलाफ संसद से महाभियोग पारित किया जाए। अभी तक एक ही मौके पर ऐसा हुआ हैै, उसमें भी मामला संसद के एक सदन से दूसरे सदन पहंुचता उसके पहले ही न्यायाधीश महोदय ने खुद ही इस्तीफा दे दिया था। मामला इतना आगे जाए, यह कभी कोई नहीं चाहता। लेकिन यह मामला जिस स्तर तक पहुंच गया है, उससे बेहतर तो शायद महाभियोग ही रहता। कुछ भी हो, इस मामले को जल्द ही किसी अंजाम पर पहुंचाकर खत्म करना होगा, वरना खुद न्यायपालिका की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगेगी। इसका कारण कोई बाहरी तत्व नहीं, बल्कि उसका आंतरिक तंत्र ही होगा।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: dramatic dispute
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें