शनिवार, 04 जुलाई, 2015 | 05:13 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    फिल्म देखने से पहले पढ़ें 'गुड्डू रंगीला' का रिव्यू फिल्म रिव्यू: टर्मिनेटर जेनेसिस पूर्व रॉ प्रमुख के खुलासे के बाद सरकार पर हमलावर हुई कांग्रेस, PM से की माफी की मांग झारखंड: मेदिनीनगर के हुसैनाबाद में ओझा-गुणी की हत्या हजारीबाग के पदमा में दो गुटों में भिड़ंत, आधा दर्जन घायल गुमला में बाइक के साथ नदी में गिरा सरकारी कर्मी, मौत हेमा मालिनी के ड्राइवर को कुछ ही घंटों में मिली जमानत, बच्ची की मौत से हेमा दुखी झारखंड के चाईबासा में रिश्वत लेते दारोगा रंगे हाथ गिरफ्तार झारखंड: हजारीबाग में पिता ने अबोध बेटी को पटक कर मार डाला जमशेदपुर में स्कूल वाहन चालक हड़ताल पर, अभिभावक परेशान
झारखंड में राजनीतिक हलचल, JMM ने वापस लिया समर्थन
रांची, एजेंसी First Published:08-01-13 02:03 PM
Image Loading

झारखण्ड के मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा ने झारखण्ड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) द्वारा राज्य सरकार से औपचारिक समर्थन वापस लिए जाने के बाद मंगलवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता मुंडा ने दोपहर से ठीक पहले राज्यपाल सैयद अहमद से मुलाकात की और उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया।

झामुमो ने सोमवार को ही मुंडा सरकार से समर्थन वापसी की घोषणा कर दी थी। इसके बाद मुंडा सरकार अल्पमत में आ गई थी।

झारखण्ड में राजनीतिक संकट की शुरुआत मुंडा के तीन जनवरी के उस पत्र से हुई थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि उनकी सरकार के 28 महीने पूरे होने के बाद वह मुख्यमंत्री पद झामुमो के लिए खाली नहीं करेंगे।

इस बीच, झारखण्ड मंत्रिमंडल ने भी मंगलवार को विधानसभा भंग करने की अनुशंसा कर दी।

भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार सितम्बर 2010 में झामुमो के 18, ऑल झारखण्ड स्टूडेंट्स यूनियन (आजसू) के छह तथा जनता दल (युनाइटेड) के दो विधायकों के समर्थन से बनी थी। भाजपा के भी 18 विधायक थे।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड