रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 15:02 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    भारत का रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल पर रोक का आह्वान महाराष्ट्र में नई सरकार के शपथ ग्रहण में शामिल होंगे मोदी एयर इंडिंया के कई पायलट खत्म लाइसेंस पर उड़ा रहे हैं विमान इराक में आईएस के ठिकानों पर अमेरिका के 23 हवाई हमले राजनाथ ने युवाओं से शांति और सौहार्द का संदेश फैलाने को कहा  शीतकालीन सत्र से पहले नए योजना निकाय का गठन कर सकती है सरकार  आज मोदी की चाय पार्टी में शामिल हो सकते हैं शिवसेना सांसद शिक्षिका ने की थी गोलीबारी रोकने की कोशिश नांदेड-मनमाड पैसेजर ट्रेन के डिब्बे में आग,यात्री सुरक्षित दिल्ली के त्रिलोकपुरी में हिंसा के बाद बाजार बंद, लगाया गया कर्फ्यू
बारह दिन बाद भी सबूत नहीं
नई दिल्ली, वरिष्ठ संवाददाता First Published:08-01-13 11:34 PM

इंडिया गेट पर कथित हिंसक झड़प के दौरान जख्मी सिपाही सुभाष तोमर की मौत से जुड़े साक्ष्य बारह दिन बीत जाने के बाद भी क्राइम ब्रांच नहीं जुटा पाई है। पुलिस उन आरोपियों पर से भी कोई आरोप अभी नहीं हटा रही, जिनके घटना के वक्त राजीव चौक मेट्रो स्टेशन पर होने की पुष्टि हुई है।

घटना के वक्त सिपाही के पास पहुंचे दो चश्मदीदों से पूछताछ में यह पता नहीं चल सका है कि तोमर को आखिरकार चोट लगी कैसे? उनके बयानों के अनुसार, दोनों ने सिपाही को गिरते हुए देखा था। ऐसे में पुलिस के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह है कि वह सिपाही पर हमला करने वाले आरोपी की पहचान कैसे करेगी? पुलिस ने तिलक मार्ग पर लगे सीसीटीवी को खंगाला है, उसमें भी तोमर जख्मी हालत में गिरे दिख रहे हैं।

दूसरी तरफ तोड़फोड़ व उपद्रव मचाने के आरोप में पकड़े गए आठ आरोपियों में से दो- अमित जोशी व कैलाश जोशी सीसीटीवी फुटेज में घटना के समय यानी, 4 बजकर 52 मिनट पर राजीव चौक मेट्रो स्टेशन से निकलते हुए देखे गए हैं। यहीं से भगवान दास रोड होते हुए जाते पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया था।

पुलिस के लिए सिद्ध करना भारी पड़ रहा है कि आरोपी उन प्रदर्शनकारियों में शामिल थे, जिन्होंने पुलिस पर हमला किया था। उधर, मौत के कारणों को लेकर पोस्टमार्टम रिपोर्ट, जख्मी हालत में तोमर की आरएमएल में इलाज और संबंधित मेडिकल रिपोर्ट जांच पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से कराने की गुजारिश की है।

 
 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ