बुधवार, 27 मई, 2015 | 09:16 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    रिजिजू बोले, मैं खाता हूं बीफ, मुझे कोई रोक सकता है क्या? जारी है जश्न-ए-मोदी सरकार, आज सूरत में शाह की रैली प्रियंका गांधी आज रायबरेली दौरे पर, सोनिया कल आएंगी  लू और गर्मी से दो दिनों तक नहीं मिलेगी राहत, 1100 मरे केंद्र को केजरीवाल की चुनौती, आदेश खारिज करने के लिए लाए प्रस्ताव दिल्ली विधानसभा: विशेष सत्र में हंगामा, बीजेपी विधायक को बाहर निकाला  यूपी: गर्मी का कहर जारी, राहत के आसार नहीं इस रेस्टोरेंट में आने वालों को बनना पड़ता है कैदी प्रतापगढ़ में रोडवेज के कैशियर की हत्या कर साढ़े सात लाख की लूट  सलमान को दुबई जाने के लिए कोर्ट से मिली अनुमति
बारह दिन बाद भी सबूत नहीं
नई दिल्ली, वरिष्ठ संवाददाता First Published:08-01-13 11:34 PM

इंडिया गेट पर कथित हिंसक झड़प के दौरान जख्मी सिपाही सुभाष तोमर की मौत से जुड़े साक्ष्य बारह दिन बीत जाने के बाद भी क्राइम ब्रांच नहीं जुटा पाई है। पुलिस उन आरोपियों पर से भी कोई आरोप अभी नहीं हटा रही, जिनके घटना के वक्त राजीव चौक मेट्रो स्टेशन पर होने की पुष्टि हुई है।

घटना के वक्त सिपाही के पास पहुंचे दो चश्मदीदों से पूछताछ में यह पता नहीं चल सका है कि तोमर को आखिरकार चोट लगी कैसे? उनके बयानों के अनुसार, दोनों ने सिपाही को गिरते हुए देखा था। ऐसे में पुलिस के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह है कि वह सिपाही पर हमला करने वाले आरोपी की पहचान कैसे करेगी? पुलिस ने तिलक मार्ग पर लगे सीसीटीवी को खंगाला है, उसमें भी तोमर जख्मी हालत में गिरे दिख रहे हैं।

दूसरी तरफ तोड़फोड़ व उपद्रव मचाने के आरोप में पकड़े गए आठ आरोपियों में से दो- अमित जोशी व कैलाश जोशी सीसीटीवी फुटेज में घटना के समय यानी, 4 बजकर 52 मिनट पर राजीव चौक मेट्रो स्टेशन से निकलते हुए देखे गए हैं। यहीं से भगवान दास रोड होते हुए जाते पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया था।

पुलिस के लिए सिद्ध करना भारी पड़ रहा है कि आरोपी उन प्रदर्शनकारियों में शामिल थे, जिन्होंने पुलिस पर हमला किया था। उधर, मौत के कारणों को लेकर पोस्टमार्टम रिपोर्ट, जख्मी हालत में तोमर की आरएमएल में इलाज और संबंधित मेडिकल रिपोर्ट जांच पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से कराने की गुजारिश की है।

 

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingधौनी से कप्तानी के गुर सीखे : होल्डर
वेस्टइंडीज की वनडे टीम के युवा कप्तान जैसन होल्डर को लगता है कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ बिताये गये दिनों में उन्हें किसी और से नहीं बल्कि भारत के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी से कप्तानी के गुर सीखने को मिले थे।