शुक्रवार, 31 अक्टूबर, 2014 | 00:26 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    नौकरानी की हत्या: धनंजय को जमानत, जागृति के रिकार्ड मांगे अमर सिंह के समाजवादी पार्टी में प्रवेश पर उठेगा पर्दा योगी आदित्य नाथ ने दी उमा भारती को चुनौती देश में मौजूद कालेधन पर रखें नजर : अरुण जेटली शिक्षा को लेकर मोदी सरकार पर आरएसएस का दबाव कोयला घोटाला: सीबीआई को और जांच की अनुमति सिख दंगा पीड़ितों के परिजनों को पांच लाख देगा केंद्र अपमान से आहत शिवसेना ने किया फडणवीस के शपथ ग्रहण का बहिष्कार सरकार का कटौती अभियान शुरू, प्रथम श्रेणी यात्रा पर प्रतिबंध बेटे की दस्तारबंदी के लिए बुखारी का शरीफ को न्यौता, मोदी को नहीं
मेरी दोस्त चाहती थी दरिंदों को जिंदा जला दिया जाए
नई दिल्ली, हिन्दुस्तान टीम First Published:04-01-13 11:58 PM

चलती बस में गैंगरेप कांड की शिकार बनी छात्रा का दोस्त शुक्रवार शाम पहली बार लोगों के सामने आया। उसने एक न्यूज चैनल से बातचीत में कहा, ‘वह जिंदा रहना चाहती थी।
वह चाहती थी कि उसके साथ दुष्कर्म करने वाले सभी आरोपियों को फांसी के बजाए जला कर मारा जाए।’ बातचीत के दौरान उसने घटनाक्रम पर पुलिस-अस्पताल व समाज के रवैये को लेकर भी कई सवाल उठाए। युवक ने कहा कि बस से फेंकेने के बाद दरिंदों ने लड़की
को बस से कुचलने की भी कोशिश की, लेकिन मैंने उसे बचा लिया। हम ढाई घंटे तक सड़क पर ही पड़े रहे। इस दौरान तीन पीसीआर वैन तो आईं लेकिन सभी सीमा विवाद में उलझी रहीं।

हम राहगीरों से मदद मांग रहे थे, लेकिन किसी ने हमें शरीर ढकने के लिए कपड़ा तक नहीं दिया। शायद उन्हें डर था कि वे रुकेंगे तो पुलिस के चक्कर में फंस जाएंगे। अस्पताल पहुंचने पर भी ठीक से मदद नहीं मिली। वहां भी किसी ने तन ढकना जरूरी नहीं समझा।

युवक के अनुसार, वह वारदात की रात से ही स्ट्रेचर पर था। 16 से 20 दिसंबर तक वह थाने में ही रहा। इस दौरान पुलिस ने उसका उपचार भी नहीं करवाया। इस चश्मदीद का कहना है कि अगर लड़की को उपचार के लिए विदेश ले ही जाना था तो यह फैसला पहले होना चाहिए था।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ