गुरुवार, 29 जनवरी, 2015 | 17:50 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मेरठ में दो दिन पहले हुए नरसंहार में पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।यूपी के उन्नाव में पुलिस लाइन कैम्पस में एक बंद कमरे में ढेरों नर कंकाल मिलने की सूचना, कारण अजातबरेली के शाहाबाद में दोस्‍त के घर मिली लापता सब्‍जी आढ़ती की लाश, बुधवार से लापता था कुतुबखाना मंडी का आढती ताहिर, जांच में जुटी पुलिस।पटना विश्वविद्यालय के सिनेट की बैठक के दौरान विरोध कर रहे छात्रों पर लाठी चार्ज, छपरा संघ के चुनाव की मांग को लेकर विरोधमुरादाबाद: वकीलों ने दिया सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन। आज का आंदोलन समाप्त। कल रेल रोकेंगे। वकीलों की सीओ से नोंकझोंक भी हुई।लोकायुक्त की रिपोर्ट के बाद यूपी के दो विधायक बर्खास्तसंभल के मोहल्ला ठेर में रूम हीटर से दम घुटने की वजह से एक व्यापारी की मौत हो गई। कमरे में व्यापारी के साथ सो रही उसकी पत्नी व एक साल के मासूम की हालत भी गंभीर।अमरोहा के मेहंदीपुर गांव में नकली दूध बनाने की फैक्टी पकड़ी. पचास लीटर दूध व सामान बरामद. खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की कार्रवाई.बरेली के फतेहगंज पश्चिमी कस्बे में प्रॉपर्टी डीलर के घर लाखों का डाकाआगरा : हाईकोर्ट बेंच को लेकर वकीलों में आपसी टकराव, संघर्ष समिति और ग्रेटर बार के पदाधिकारी भिड़े, बड़ी संख्या में फोर्स तैनात, पुलिस को फटकारनी पड़ीं लाठियांरामपुर के लालपुर में ट्रैक्टर ने बालक को रौंदा, मौत। हादसे के बाद हंगामा।
दिल्ली के थानों में लेडी एसआई
नई दिल्ली, हिन्दुस्तान टीम First Published:03-01-13 11:31 PM

वसंत विहार सामूहिक दुष्कर्म कांड में दिल्ली पुलिस ने गुरुवार को साकेत स्थित अदालत में आरोप-पत्र दाखिल कर दिया। इसमें पांच युवकों को आरोपी बनाया गया है। वहीं, केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने दिल्ली के सभी थानों में दो महिला सब इंस्पेक्टर और सात महिला पुलिस कांस्टेबल तैनात करने का ऐलान किया है। गृह मंत्री ने महिलाओं के लिए गठित स्पेशल टास्क फोर्स की बैठक के बाद कहा कि यह इसलिए जरूरी है, ताकि महिलाओं को थाने में शिकायत दर्ज कराने में परेशानी न हो।

गृह मंत्रालय ने महिलाओं की सुरक्षा पर विचार-विमर्श के लिए शुक्रवार को सभी राज्यों के डीजीपी व मुख्य सचिवों की बैठक भी बुलाई है। दूसरी ओर, पुलिस ने शाम सवा पांच बजे आरोप-पत्र ड्यूटी मजिस्ट्रेट सूर्या मलिक ग्रोवर की अदालत में पेश किया। इसके अधिकांश दस्तावेज सीलबंद लिफाफे में दाखिल किए गए। इस दौरान पुलिस ने मामले की एफआईआर और फॉरेंसिक रिपोर्ट को सीलबंद रूप में पेश करने की अनुमति मांगी, ताकि पीड़िता की पहचान को गुप्त रखा जा सके।

साथ ही इस मामले की सुनवाई कैमरे के सामने करने और मीडिया को इससे दूर रखने का आग्रह भी किया। इस पर अदालत ने कहा कि इसका फैसला केस से संबंधित कोर्ट ही करेगा। आरोपपत्र 1260 पन्नों का है। विशेष सरकारी वकील राजीव मोहन के मुताबिक 33 पन्नों में सभी छह आरोपियों (जिनमें कथित नाबालिग आरोपी भी शामिल है) की सामूहिक दुष्कर्म में संलिप्तता का ब्योरा दिया गया है। उधर, पीड़िता को जल्द न्याय और महिलाओं की सुरक्षा को लेकर गुरुवार को भी जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन जारी रहा।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड